थारु राष्ट्रिय दैनिक
भाषा, संस्कृति ओ समाचारमूलक पत्रिका
[ थारु सम्बत ३० सावन २६४३, शुक्कर ]
[ वि.सं ३० श्रावण २०७७, शुक्रबार ]
[ 14 Aug 2020, Friday ]

कैलाली ओ बर्दिया जोर्ना सत्ती घाट पुल जोखिममे

पहुरा | १७ श्रावण २०७७, शनिबार
  • 56
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
    56
    Shares
कैलाली ओ बर्दिया जोर्ना सत्ती घाट पुल जोखिममे

पहुरा समाचारदाता
टीकापुर, १७ सावन ।
अविरल वर्षापाछे आइल बाढके कटानसे कैलाली ओ बर्दिया जोर्ना कर्णाली लडियामे रहल सत्ती पुल जोखिममे परल बा ।

बर्दियाओर पानीके बहाव बह्रलपाछे कटान होके किनारमे भो· परल पाछे पुल जोखिममे परल हो । पुलके बर्दिया ओरके अन्तिम पिल्लर थप करे पर्ना डेखगैलेसे फेन पिल्लर नाइ थपके पुलसे आवतजावतमे समस्या हुइना डेखल बा ।

हुलाकी राजमार्गअन्तर्गत पर्र्ना सत्तीघाट पुलमे भो· परेबर आवतजावतसमेत बन्द हुइना सम्भावना समेत डेखगैल स्थानीय बासिन्दा जयसिंह साउद बटैलै । “यिहे पुल पार कैके हम्रे श्रीलंका ओहोरदोहोर करे परठ्,’ साउँद कहलै, ‘टीकापुर नगरपालिका–८ स्थित रहल यी पुल बर्दिया ओ कैलाली किल नाइहोके सुदूरपश्चिम प्रदेश ओ प्रदेश नं ५ हे जोरठ्, पुल जोखिममे रहल ओरसे आब आवतजावतमे समस्या हुइना हुइल बा ।’

पुलमे थप पिल्लर थपक लाग पहल करटी रहल प्रदेश नं ५ के सांसद दिपेश थारु जानकारी डेलै । ‘लम्मा समयसे पुल जोखिममे रहल ओरसे थप एक पिल्लर थप्न पहल करले बाटी,’ सांसद थारु कहलै, ‘यिहे बरस सम्पन्न हुइना मेरके टेण्डर हुइना कहल बा, जोखिम कम करक लाग पुलके किनारामे जाली भर्ना, तटबन्ध कैना जैसिन कार्य हुइल बावै ।’ पुलके अवस्थाबारे सुदूरपश्चिम प्रदेश ओ प्रदेश नं ५ मे हरेक वर्षातमे छलफल हुइठ् मने निर्माण हुइटी जोखिममे रहल पुल निर्माणमे केक्रो ध्यान जाइ नाइ सेकल टीकापुर–८ के वडाध्यक्ष दीर्घबहादुर ठकुल्लाके आरोप रहल बा ।

‘हम्रे हरेक ठाउँमे पुलके अवस्थाबारे जानकारी करैली मने निर्माण ओर ध्यान गैल नाइहो,’ ठकुल्ला कहलै, ‘वर्षौंपाछे बनल पुल अवरुद्ध हुइलेसे कैलाली ओ बर्दियाके व्यापारिक डगरा समेत बन्द हुइ, अझ यी पुल कैलालीके ८ नं वडाके नागरिकहे आवतजावतमे समस्या सिर्जना करी ।’ लडिया कटानसे पुल संरक्षणके लाग बनाइल तटबन्धसमेत भसल बा ।

तटबन्ध भरल ओरसे पुल भत्कना जोखिमसमेत बह्रल विक्रम कायस्थ बटैलै । ‘पुल समयमे मर्मत नाइ कैलेसे हजारौँ सवारीसाधन नेंगना यी डगरामे आवतजावतमे समस्या हुइना बा,’ कायस्थ कहलै, ‘पुल बचाइक लाग पुलके लम्बाइमे एक स्पान थप करलेसे लिक समस्या समाधान हुइना डेखजाइठ् ।’

तेह्र स्पानके ५३१ मिटर लम्मा पुलके साइडमे बर्सेनि तारजाली भसटी गैल बा । बर्षातके समयमे लडियामे पानीके बहाव बह्रटी किल तारजाली भसना करल बा । ‘विगत तीन बरससे पुलके उहे स्थानमे तारजाली भसटी गैल बा, हरेक बरस मर्मतके कार्य हुइटी रलेसे फेन दीर्घकालीन समाधान हुइल नाइहो,’ वडाध्यक्ष ठकुल्ला कहलै, ‘अब्बे पुल भत्कना उच्च जोखिममे रहल ओरसे तत्काल निर्माणमे ध्यान डेना आवश्यक बा ।’

रसुवा कन्ट्रक्सनसे २०७१ मे निर्माण सम्पन्न करल पुल भसटी गैलमे कम्पनीसे बर्सेनि वर्षातमे मर्मत कहटी तारजाली लगैटी आइल बा । वर्षेनी पुल किनार तारजाली भसटी गैलमे मर्मतमे ढिउर रकम खर्चल ओरसे आब लडियाके अवस्था हेरके पुलमे स्पान थप्न आवश्यक रहल माग स्थानीयके रहल बा ।

  • 56
    Shares

जनाअवजको टिप्पणीहरू