थारु राष्ट्रिय दैनिक
भाषा, संस्कृति ओ समाचारमूलक पत्रिका
[ थारु सम्बत ०१ भादौ २६४६, बुध ]
[ वि.सं १ भाद्र २०७९, बुधबार ]
[ 17 Aug 2022, Wednesday ]

याक नेपालसे खाद्यअधिकार/खाद्यसुरक्षा सम्बोधन कैना माग

पहुरा | ९ असार २०७७, मंगलवार
याक नेपालसे खाद्यअधिकार/खाद्यसुरक्षा सम्बोधन कैना माग

पहुरा समाचारदाता
धनगढी,९ असार ।
याक नेपाल कैलालीसे खाद्यअधिकार संजालके सहकार्यमे सुदुरपश्चिम प्रदेशके ८८ स्थानीय तहमे खाद्यअधिकार/खाद्यसुरक्षा सम्बोधनके लाग सुझाव पत्र पेश करले बा ।
सवैधानिक प्रावधान अनुसार स्थानीय तहहुक्रे आव २०७७/०७८ के योजना तर्जुमा प्रक्रिया शुरुवात हुसेकल ओरसे खाद्यअधिकार/खाद्यसुरक्षा सम्बोधनके लाग सुझाव पत्र पेश करल हो । विश्वमे कोरोना भाइरसके संक्रमण फैलल ओ नेपालमेफे तिब्र रुपमे फैल्टी ओरसे यी महामारीके रोकथाम तथा नियन्त्रणके लाग सरकारसे गैल चैत्र ११ गते से देशव्यापी करल बन्दाबन्दीसे सक्कु क्षेत्र प्रभावित हुइल सुझावपत्रमे उल्लेख बा ।
बन्दाबन्दीसे सक्कु मेरिक विकास निर्माण, शिक्षा, स्वस्थ्य, पर्यटन ओ आर्थिक गतिविधि नइमजासे प्रभावित हुइल बा । विदेशमे रोजगारीके लाग गैल स्वदेश लौटना क्रम जारी रहल ओरसे राष्ट्रके आम्दानीफे घटल कहल बा । अइना दिनमे चरम खाद्य एवम आर्थिक असुरक्षाके स्थिति हुइना निश्चित हुइलपाछे स्थानीय तहहे खाद्यअधिकार/खाद्यसुरक्षा सम्बोधनके माग करल बा ।
सुझाव पत्रमे महामारी ओ प्राकृतिक प्रकोपके समयमे जनताके खाद्यअधिकार तथा खाद्य सुरक्षा सुनिश्चित करे लाग लक्षित घरधुरी पहिचान ओ परिचयपत्र वितरण, खाद्यान्न भण्डारण, राहत वितरण लगाएतके कार्यहे प्रभावकारी ढंगसे संचालन कैना सहजता हुइना ओरसे खाद्य अधिकार तथा खाद्य सम्प्रभुता सम्बन्धी ऐन, २०७५ के दफा ३६ बमोजिमके स्थानीय खाद्य समन्वय समिति गठन कैना प्रावाधानहे समावेश कैना माग करल बा ।
अब्बे हुइटी रहल राहत वितरणमे परल जटिलतासे स्थानीय खाद्य समन्वय समितिके आवश्यकताहे थप पुष्टी करल कहल बा । कोभिड–१९ रोगके साथे और रोगसंग लरे सेक्ना रोग प्रतिरोधात्मक क्षमता अभिवृद्धिके लाग स्वच्छ एवम् पोषणयुक्त खानाके अतिआवश्यक हुइना ओरसे पोषण्युक्त खाद्यके सुनिश्चितताके लाग खाद्यअधिकार तथा खाद्य सम्प्रभुता सम्बन्धी ऐन, २०७५ मे व्यवस्था हुइल अनुसार पालिका स्तरीय पोषण तथाखाद्य सुरक्षा योजना निर्माण ओ कार्यान्वयन कैना प्रावधानहे समावेश कैना सुझाव पत्रमे उल्लेख बा ।
कोरोना भाइसरके कारण विदेशमे रोजगारीके लाग गैल नागरिक फिर्ता हुइटी रहल ओरसे वैदेशिक रोजगारीसे अइना विप्रेषण बन्द हुइल बा ओ खैना मनैनके संख्या बह्रल ओरसे अइना दिनमे खाद्यके चरम असुरक्षाके अवस्था अइना प्राय निश्चित रहल बा । और वर्षसे यी वर्ष खाद्य उत्पादन बढाई पर्ना वाध्यात्मक परिस्थिति रहल कहल बा ।
वैदेशिक रोजगारमे गैल युवा श्रम शक्ति गाउँमे रहल अवस्थाहे अवसरके रुपमे लेके युवाहुकनहे कृषिकार्य ओर उत्प्रेरित कैना कृषिहे प्राथमिकतामे धारके बाँझ, लडियक किनार लगाएतके ठाउँमे रहल उब्जाउ भुमिहे कृषि कार्यके लाग उपयोग कैना “कृषिउत्पादन बढाऔ, खाद्यान्नमे आत्मनिर्भर बनौ ”कार्यक्रम संचालन कैना ओ किसानहुकनके वर्गिकरण करके छोट किसानके उत्पादनके श्रोत ओ सेवाउप्परके पहुचहे सुनिश्चित कैना नीति समावेश कैना सुझाव डेहल बा ।
वैदेशिक रोजगारसे लौटलहुक्रे ओ और लक्षितवर्गके रोजगारी ओ खाद्य सुरक्षाहे सुनिश्चित कैना, स्रोतके दुरुपयोग हुइना सम्भावनाहे कम कैना प्रभावितहुकनके निम्ति “कामके लाग नगद वा खाद्यान्न” कार्यक्रम समावेश करे पर्ना, जनताहे स्वास्थ्य सेवामे सहज पहुचके लाग थप स्वास्थ्य सम्वन्धी संरचना प्रवद्र्धन कैना नीति समावेश कैना सुझाव डेहल बा । ओस्टेक रैथाने वालीके संरक्षण ओ सम्बद्र्धनके लाग स्थानीय विउ बैक स्थापना तथा उत्पादित सामाग्रीके भण्डारण ओ व्यवस्थापनमे जोड डेना कार्यक्रम लागु करे पर्ना सुझाव डेहल याक नेपालके कार्यकारी निर्देशक डबल बम बटैलै ।

जनाअवजको टिप्पणीहरू