थारु राष्ट्रिय दैनिक
भाषा, संस्कृति ओ समाचारमूलक पत्रिका
[ थारु सम्बत ०१ भादौ २६४६, बुध ]
[ वि.सं १ भाद्र २०७९, बुधबार ]
[ 17 Aug 2022, Wednesday ]

पानीके फोकासहित बच्चाके जरम

पहुरा | २१ असार २०७७, आईतवार
पानीके फोकासहित बच्चाके जरम

डडेल्धुरा, २१ असार । डडेल्धुरा अस्पतालमे पानीके फोकासहित बच्चाके जरम हुइल बा । ‘इन काउल बर्थ’ कहिजैना अइसीन घटना प्रसूति प्रकृयामे ढिउर दुर्लभ मानजाइठ् ।
डडेल्धुरा अस्पतालके प्रसूति तथा स्त्रीरोग विशेषज्ञ डाक्टर राजन शाह शल्यक्रियामार्फत उ प्रसूति करैना क्रममे ‘इन काउल बर्थ’ हुइल हो । डोटीके दिपायल सिलगढी नगरपालिकाके २८ वर्षीया माया बोहरा शनिच्चरके जुइकाहा सन्तानहे जरम डेहल हुइटी । जुँइकाहा मध्ये दुसराचो निकारल बच्चा पानीके थैलीसहित जन्मल डाक्टर शाह जानकारी डेले बाटै । बच्चाके तौल २.६ किलोग्राम रहल बा ।
डाक्टर शाहके अनुसार अइसीन घटना ८० हजार जन्ममे एकठो हुइना करठ् । सक्कु बच्चा गर्भमे रहेबर पानीके थैलीमे हुइना करलेसे फेन जन्मना क्रममे प्रायः यी थैली अपनहे फुट्ना करठ् । मने, चिकित्सकसे उ बच्चाहे पानीके थैलीसहित बाहर निकारल हो । थैलीसहित वहाँके चिकित्सक बच्चाहे सकुशल थैलीसे बाहर निकारल रहिट ।
‘परम्परागत विश्वासहे मन्ना हो कलेसे अइसीक जन्मना बच्चा आत्मिक ओ जादुगर रहठै, साथे बच्चा ओ डाइबाबा दुनुके लाग शुभ संकेतके रुपमे हेरजाइठ्,’ डाक्टर शाह कहलै, ‘इन काउलसंगे जन्मल बच्चा दुर्लभ रहठै ओ अइसीन जन्म विरलै हुइठ् ।’
स्वास्थकर्मी वा चिकित्सक फेन आपन जीवनभर अइसीन जन्म मुस्किलसे किल डेखे पैना शाह बटैलै । उहाँ कहलै, ‘यदि बच्चा पानीके बेलुनभिट्टर अर्थात् इन काउलसंगे जन्मल बा कलेसे आपनहे भाग्यमानी ठाने पर्ना रहठ्, सफलतापूर्वक शल्यक्रिया कैके अइसीन दुर्लभ प्रसूति करे पाइलमे मै आपनहे भाग्यमानी ठानटुँ ।’
अस्पतालके अनुसार अब्बे बच्चा ओ डाइक अवस्था सामान्य रहल बा ।

जनाअवजको टिप्पणीहरू