थारु राष्ट्रिय दैनिक
भाषा, संस्कृति ओ समाचारमूलक पत्रिका
[ थारु सम्बत ०१ भादौ २६४६, बुध ]
[ वि.सं १ भाद्र २०७९, बुधबार ]
[ 17 Aug 2022, Wednesday ]

कृषि यन्त्रीकरणसे खेतीपातीमे सहजता (भिडियाेसहित)

पहुरा | २६ आश्विन २०७७, सोमबार
कृषि यन्त्रीकरणसे खेतीपातीमे सहजता (भिडियाेसहित)

पहुरा समाचारदाता
धनगढी, २६ कुवाँर ।
कृषि यन्त्रके विकाससंगे किसानहुकन खेतीपाती कैनामे सहजता हुइल बा । पहिलेक किसानहुक्रे खेतीपाती करेक लाग ढेर समय खर्चे पर्ना रहे, मने अब्बेभर कृषि यन्त्रके विकाससे सहजुल हुइल हो ।

भजनी नगरपालिका–३ के कृष्ण चौधरी विगतमे हातसे धान कट्न, डैना ओ गोरुसे खेतुवा जोत्टी आइलमे अब्बे बाली लगैनासे भित्रैनासम सक्कु काम पावर टिलरके प्रयोगसे करटी रहल बटैलै । १८ कठ्ठामे लगाइल धान पावर टिलरके सहायतासे झण्डे २० मिनेटमे काटसेकल उहाँ बटैलै । ‘कृषि यन्त्रसे अब्बे खेती सहज हुइल बा’ उहाँ कहलै, ‘खेटुवा जोत्न ओ बाली कट्ना पावर टिलर तथा धान डैना थ्रेसरके प्रयोग करटी आइल बाटु ।’

खेतबारीमे थ्रेसरलगायतके आधुनिक यन्त्र पुगलपाछे अपनेहुकन बहुट सहज हुइल किसानहुक्रनके अनुभव बा । पछिल्का समय खेतुवा जोत्न, जमिन मिलैना, मेरुवा बन्धना, बीउ छिटना, धान लगैना, डैना, धानवाली ओसैना सक्कु काममे आधुनिक कृषियन्त्रके प्रयोग हुइटी आइल बा ।

परम्परागत हर जोटके खेतीपातीके काम करटी आइल कैलालीके किसान आधुनिक कृषि यन्त्रओर आर्कषण बढटी गैल बा । खेतीपाती कैना हाली ओ सहजुल हुइना ओरसे आधुनिक कृषि यन्त्रके प्रयोगमे किसानके ध्यान गैल हौ । बर्खे धान खेती कैना वा हिउँदे बाली लगैना ओसिन यन्त्रसे ढेर सहयोग पुग्न करल किसानहुक्रे बटैठै ।

डीआर कृषि सामग्री तथा विज्ञान केन्द्र लम्की कैलालीके सञ्चालक गिरिज चौधरी हातले धान, गोहुँ, मकै, गन्ना, धाँस कटना मेसिन विक्री करटी आइल बाटै । उहाँ कहठै, यी मेसिनके अब्बे बहुट माग रहल बा, यकर सहयतासे हप्तौ लग्ना कटानी एक्के दिनमे काटे सेक्जाइठ ।

हाते धान कट्ना मेसिन भिडियाे

पावर टिलरसे खनजोतके काम कैना सहजुल हुइल कैलारी गाउँपालिकास्थित रामपुरके किसान खुशीराम चौधरीके कहाई बा । कृषि यन्त्रसे रोपाइँमे समेत ढेर सहयोग पुगल उहाँ बटैलै ।

भजनीके किसान बुधराम चौधरीके डेढ बिघा जमिन बा । उहाँ भर यी बरसफे हातसे धान कटलै । उहाँ कहलै, ‘चार जाने लागके डेढ बिघा जमिनके धान कटटी दिनभर लागल ।’ कृषि यन्त्र हुइलेसे १५ से २० मिनेटमे काटके सेक्ना उहाँ बटैलै । आर्थिक अवस्था कम्जोर रहल किसानहुक्रे भर परम्परागत तरिकासे बाली लगैना ओ भित्रैना करटी रहल बाटै ।

जानकी गाउँपालिकाके कृषि शाखा प्रमुख लालवीर चौधरी किसान आधुनिक कृषि औजारमे आकर्षित हुइटी गैलेसेफे टमान जानेक आर्थिक अवस्थाके कारण औजार किने नइसेकल ओरसे परम्परागत औजारके सहारा लेना करल बटैठै ।

स्थानीय तह, प्रदेश सरकार ओ रानी जमरा कुलरिया सिँचाइ आयोजनाके कृषितर्फके कार्यालयसे अनुदानमे कृषि औजार सहयोग करटी आइल उहाँ जानकारी डेलै । आधुनिक यन्त्र उपकरणके प्रयोगसे उत्पादनमे वृद्धि हुइना करल किसान बटैठै । कृषिमे यान्त्रिकरणके लाग स्थानीय ओ प्रदेश सरकारसे किसानहे अनुदानमे ओसिन उपकरण उपलब्ध करटी आइल बा ।

कुवाँर पहिल अठुवारसे धान पाकसेकल ओरसे किसानहुक्रे यी बेला धान भिटैनामे लागल बाटै । हाली तयार हुइना हाइब्रेट जातके टमान मेरिक धान, राधा–४, सर्जु–५२ लगायतके धान पाकसेकल ओरसे भित्रैना हतार हुइटी रहल किसान बटैठै । ‘हावापानीके कारण कुछ धान ढलल ओरसे मेसिनसे काटे नइमिल्के हसिँयासे काटे परल बा,’ भजनीके किसान रमेश चौधरी कहलै, ‘अब्बे किसानहे खाना खैना फे फुर्सद नइहो ।’

धानबाली पाछे लाहीके लाग जग्गा तयार करे पर्ना हुइल ओरसेफे किसानहुक्रे धान भित्रैना दिनभर व्यस्त रहल बाटै । ढिला हुइलेसे जग्गाके ओड सुखके लाही मजासे नइजम्ना ओरसे किसानहुक्रे धान भित्राइलसंगे लाहीके लागफे जग्गा तयार करटी रहल बटै ।

जनाअवजको टिप्पणीहरू