थारु राष्ट्रिय दैनिक
भाषा, संस्कृति ओ समाचारमूलक पत्रिका
[ थारु सम्बत २१ अगहन २६४६, बुध ]
[ वि.सं २१ मंसिर २०७९, बुधबार ]
[ 07 Dec 2022, Wednesday ]
‘ राज्यके संरचना बडलल, किसानन्के पीडा ओस्टे ’

१ कट्टा मलके लाग रातभर लाइन

पहुरा | २७ आश्विन २०७७, मंगलवार
१ कट्टा मलके लाग रातभर लाइन

लखन चौधरी
धनगढी, २७ कुवाँर ।
कैलालीके धनगढी उपमहानगरपालिका–१६, भादाके कृषक देशराज चौधरी रात २ बजे १ बोरा मलके लाग लाइनमे रहिट ।

जिल्लाके कैलारी गाउँपालिका–९ स्थित परिश्रम कृषि सहकारी संस्थामे रासायनिक मल लेहे गैल उहाँ रातभर लाइनमे रहिट । रातभर लाइनमे बैठके १ कट्टा मल पाइलपाछे उहाँ फोहैटी घर गैलै । मानौ, उहाँ बरवार युद्ध जिट्ले बाटै ।

कैलारी गाउँपालिका–९, कोइलहीके देसनी चौधरी फेन निडासल आँखी मिस्टी लाइनमे ठ¥याइल रही । लाही, आलुलगायत हिउँदे बालीक् लाग चाहना डिएपी मल आइल खबर सुन्टी किल रातभर लाइनमे रही ।

आँखी मिस्टी, जम्हैटी कहली, ‘एक्के चुटी टे मल आइठ । लेहुइना मनै अत्रा ढिउर रहठै । मल बिना टे चीजे नैहुइठ । का कर्ना हो ? रातभर लाइनमे बैठे परठ ।’

देशराज ओ देसनी किल नाई, मल लेहे गैल संयौं किसान लाइनमे रहिट । सहकारीमे मल आइल सूचना पैटी किल उहाँहुक्रे रातभर लाइन लागे गैल रहिट । हरेक सिजनमे मलके लाग असिके लाइनमे बैठ्टी आइल उहाँहुक्रे हाल हिउँदे सिजनमे एक चुटी मलके लाग लाइनमे बैठ्न बाध्य हुइल बटैले बाटै । उहाँहुक्रे कोराना कहरके बीच फेन मलके लाग जोखिम सहके फेन लाइनमे बैठल रहिट ।

कैलारी गाउँपालिका–६, बेनौलीके स्थानीय कृषक राजाराम महतो मुलुक संघीय शासकीय संरचनामे अइलेसे फेन अप्नेहुकनके समस्या ज्यूँके त्यूँ रहल बटैलै । हरेक आर्थिक बरसमे कृषि क्रान्तिके समेटल नीति तथा कार्यक्रम ओ बजेट भाषण करटी आइल सरकार यर्थाथमे किसानहुकनके पीडाप्रति भर गम्भिर नैरहल गुनासो पोख्लै ।

सहकारीके व्यवस्थापक रामसमझ चौधरी माग अनुसारके मलके आपूर्ति नैहुइलओरसे हरेक सिजनमे मलके अभाव हुइटी आइल बटैलै । माग अनुसारके मल नैआइलओरसे सक्कु कृषकहुकन एक एक चुटी मल वितरण करटी आइल बटैलै ।

धान सिजनमे फेन मलके अभाव झेलल कृषकहुक्रे हाल हिउँदे सिजनमे फेन अभाव सहटी बाटै । हाल कैलालीमे किल नाई, सुदूरपश्चिमभर मलके चरम अभाव बा । सुदूरपश्चिम प्रदेशमे कृषि सामग्री कम्पनी लिमिटेड ७० प्रतिशत ओ साल्ट ट्रडिंग कर्पोरेसन ३० प्रतिशत मलके आपूर्ति करटी आइल बा ।

मने हालसम कृषि सामग्री कम्पनी लिमिटेड मलके आपूर्ति करे नैसेक्ले हो । मल आपूर्ति करे नैसेक्नाके मुख्यकारण कोरोना कहर कहटी मन्छिटी रहल बा ।

कृषि सामग्री कम्पनी लिमिटेड प्रदेश कार्यालय धनगढीके प्रमुख नवलसिंह बोगटी कोरोनाके कारण मल नाने नैसेकल बटैलै । डिएपी ओ यूरिया चाहना सिजनमे कृषि सामग्री कम्पनी लिमिटेड धनगढी संग हाल पोटास मल किल बा । प्रमुख बोगटी ३ सय टन पोटास मौज्दात रहल बटैटी डसियापाछे किल डिएपी ओ यूरियाके आपूर्ति हुइना बटैलै ।

सुदूरपश्चिम प्रदेशमे ३० प्रतिशत मलके आपूर्ति करटी आइल साल्ट ट्रभर कुछ मात्रामे आपूर्ति करटी रहल बा । मने ३० प्रतिशत आपूर्ति यहाँके माग पूरा हुइना नैहो ।

साल्ट टे«डिंग कार्पोरेसन सुदूरपश्चिममे हिउँदे सिजनके लाग जम्मा १५ हजार मेट्रिक टन मल नन्ना क्रममे रहल बा । गहुँके लाग युरिया मल ५५२३ मेट्रिक टन, ओम्ने फेन कैलाली जिल्लाके लाग सबसे ढिउर १४९१ मेट्रिक टन नन्ना बटागिल बा । ओस्टके, डिएपी मल ३७१७ मेट्रिक टन नानजिना बा । जेम्ने कैलाली जिल्लाके लाग ९८७ मेट्रिक टन अगहन १५ गतेसमके लाग अइना हुइल बा ।

साल्ट ट्रडिंग कर्पोरेसन धनगढीके प्रमुख केशवप्रसाद पाण्डे अप्नेहुक्रे पाइल कोटा बमोजिम आपूर्ति करे लागल बटैलै । मने ३० प्रतिशतसे यहाँके माग पूरा नैहुइना बटैलै । उहाँ अब्बासम २७८८ मेट्रिक टन मलके आपूर्ति करसेकल बटैलै ।

जनाअवजको टिप्पणीहरू