थारु राष्ट्रिय दैनिक
भाषा, संस्कृति ओ समाचारमूलक पत्रिका
[ थारु सम्बत ३० सावन २६४६, सोम्मार ]
[ वि.सं ३० श्रावण २०७९, सोमबार ]
[ 15 Aug 2022, Monday ]
‘ परविढिमे जोड ’

पारडर्शीटाके लाग परविढिमे जोड

पहुरा समाचारदाता | १ चैत्र २०७६, शनिबार
पारडर्शीटाके लाग परविढिमे जोड

अविनाश चौधरी
धनगढी, १ चैत । गाउँ सभाके बैठक होए या कौनौ कार्यक्रम । ओमे जाइकलाग वडा अढ्यक्ष दुःखीराम कठरियाहे पहिले चिट्ठी आए ।
स्ठानीय सरकार गठन हुइलक छे महिनासम् गाउँपालिकाके कार्यालयसे हुँकहिन चिट्ठीसे जानकारी करागिल । मने, आजकल चिट्ठी नै आइठ । सिढे ओह्कान मोबाइलमे विद्युटीय खबर पुगठ ।
‘गाउँ सभा होए या चहाजौन कार्यक्रम । ओमे जाइक लाग आब मोबाइलमे न्यौटा आइठ,’ वहाँ कहँलै ।
गाउँ सभा सडस्य फिरुराम चौधरी हे फेन पहिले वडा कार्यालय ओंरसे बैठक या कार्यक्रमके बारेम जानकारी आए । ‘ढेउर जसिन महिन फोन कर्के बोलागैल,’ वहाँ कहँलै, ‘आब फोन नाई की बल्की मोबाइलमे सन्डेश आइठ ।’
कैलारी गाउँपालिका–८ नम्बर वडाके अढ्यक्ष कठरिया ओ गाउँ सभा सडस्य चौधरीहे किल नै होके, गाउँ सभक् सक्कु सडस्य, राजनीटिक डलके नेता, करमचारी ओ सरोकारवाला सक्हुन आजकल अस्टक मोबाइलमे अक्केसंग सन्डेश अइटी बा ।
कुछ काम कारबाहीहे कागटविहीन (पेपरलेस) बनैना उडेश्यके साठ कैलारी गाउँपालिकाके कार्यालय मोबाइलमे विद्युटीय सन्डेश पठैना काम सुरु कर्ले बा । गाउँपालिकामे सूचना प्रविढि केन्द्र स्ठापना कैके जनप्रटिनिढिसहिट सरोकारवाला सक्कुजन्हन विद्युटीय सन्डेश पठैना काम सुरु कैगिल हो ।
‘अइसीके मोबाइलमे सन्डेश आइठ टे समयमे जानकारी मिलठ,’ वडा अढ्यक्ष कठरिया कहँलै । ‘चिट्ठी पठाइल बेला कबुकाल पाइ नै सेक्ना समस्या रहे । आब, ओइसिन नै हो ।’ मोबाइलमे विद्युटीय सन्डेश आइ लागलपाछे चिट्ठीपटराके झन्झट हटल वहाँ बटैलै ।
यी गाउँपालिका सरोकारवाला हुक्रकन विद्युटीय सन्डेश पठैना काम टे कर्टी बा । यकरसंगे आपन वरसभरिक बजेट, नीटि ओ कार्यक्रम, योजना, गाउँ सभासे बनागिल ऐन, कानुन फेन डुनियाके चहाजौन कोन्वाँसे हेरे सेक्न मेरिक ‘अनलाइन डाटा पोर्टल’ मे ‘इ–भर्सन’ मे ढरले बा । अस्टके, थारुनके ढेउर संख्या रहलक ओरसे थारु भाषम् डिजिटल नागरिक वडापत्रके फेन व्यवस्ठा करले बा ।
गाउँपालिकाके बजेट, नीटि, कार्यक्रमसे लेके टमाम मेरिक सूचना अनलाइनमेसे हेर्ना व्यवस्था एकडम मजा हुइटी रहल गाउँपालिकक् अढ्यक्ष लाजुराम चौधरी बटैलै । ‘एक्जिट पोलके नटिजाके अनुसार मोबाइल बोक्ना लगभग सक्कुजे गाउँपालिकक् अनलाइन खोल्के हमार वरसभरिक कार्यक्रमके बारेम जानकारी लेटी रहल बटै,’ वहाँ कहलैं ।
परविढिहे ज्याडा बेलसके सक्कु नागरिकहुक्रन गाउँपालिकक् कार्यक्रमके बारेम जानकारी करैना लक्ष्य राखल यी गाउँपालिकाके कार्यालय लाल किटाबमे लिखल सक्कु योजनाके विवरण डाटा पोर्टलमे ढरले बा । अइसीन व्यवस्ठासे योजनक बारेम बुझक लाग लाल किटाबके पन्ना बिल्टाइ पर्ना बाढ्यटा आब हटल बा ।
गाउँपालिकावासीसे लेके सरोकारवालाहुक्रे सहजुलेसे आपन मोबाइलमे लाल किटाबमे रहल योजनक बारेम् जानकारी लेटी रहल अढ्यक्ष चौधरी बटैलै । गाउँपालिकाके कार्यालय आपन डाटा पोर्टल हेरवाइक लाग राजनीटिक डल, जवान, मस्टरुवा, सहकारीसे लेके सरोकारवाला संघ, संस्ठाहे डिजिटल साक्षरटा टालिम फेन डेले बा ।
‘यी व्यवस्ठा मजा रहल सक्कु ठाउँसे प्रटिक्रिया आइल,’ वहाँ कहलैं । ‘मने, यिहीहे बिना इन्टरनेटफेन हेरे सेक्ना मेरिक अफलाइन बनाइक पर्ना माग कैगिल बा ।’
गाउँपालिकाके वडा कार्यालयमे सामुडायिक सूचना परविधि केन्द्र फेन ढारगिल बा । ओमेसे, निर्णय, ऐन, कानुन, करके रेटसंगे टमाम मेरिक सूचना डे जैटी रहल जनागिल बा ।
परविढिके डिगो प्रयोगसे स्ठानीय सरकारहे जवाफडेही बनैना उडेश्य लेके यी गाउँपालिकामे सूचना परविढि केन्द्र ढारगिल हो । सुशासन परियोजनाके सहयोगमे स्ठापना कैगिल केन्द्र, गाउँपालिकक् काम, कारबाहीहे परविढिमैत्री बनैना सहयोग कर्ले बा ।
‘यी गाउँपालिकाके सार्वजनिक हिटके कौनो फेन सूचना नुकल नै हो,’ सुशासन परियोजनाके जिल्ला कार्यक्रम संयोजक ठाकुर करियाप्रधान कहलैं । बजेट प्राठमिकीकरणसे लेके कार्यान्वयन
ओ मूल्याङ्कनसम नागरिकके साथ होए कहिके गाउँपालिकाके कार्यालय आपन सक्कु सूचना खुल्ला कैले बा ।
‘यिहीसे पारडर्शीटा ओ सुशासन फेन हुइना सहयोग पुगल बा,’ करियाप्रधान कहलैं– ‘गाउँपालिकक् सक्कु सूचना इ–भर्सनमे डिजिटाइज्ड कैगिल बा । मोबाइल एप्स डाउनलोड कैके अफलाइनमे फेन हेरे सेक्जाइ ।’
गाउँपालिकाके कार्यालय सूचना प्रवाहके लाग परविढिके ज्याडासे ज्याडा प्रयोगहे महट्व डेलेसेफेन यी व्यवस्ठा सक्कुहुनके लाग मजा नै हो । मोबाइल नै बोक्ना ओ निरक्षर मनै फेन गाउँपालिकम् रहलक ओरसे सबकोइ बेल्से सेक्ना अवस्ठा नै रहल बटागिल बा ।
‘हाली हाली सूचना डेहक लाग परविढिके प्रयोग एकडम मजा हो,’ स्ठानीय जवान कृष्ण चौधरी कहलैं । ‘मने, सबकोइ बेल्से सेक्ना अवस्ठा बिरकुल्ले नै हो । निरक्षर ओ इन्टरनेटके पहुँचसे डुर रहल मनै डाटा पोर्टल हेरे नै जनही ।’

जनाअवजको टिप्पणीहरू