थारु राष्ट्रिय दैनिक
भाषा, संस्कृति ओ समाचारमूलक पत्रिका
[ थारु सम्बत २९ सावन २६४६, अत्वार ]
[ वि.सं २९ श्रावण २०७९, आईतवार ]
[ 14 Aug 2022, Sunday ]

थारु वस्तीमे हरडहुवाक् उल्लास, कोरोनाके त्रास भुलैटी

पहुरा | २७ असार २०७७, शनिबार
थारु वस्तीमे हरडहुवाक् उल्लास, कोरोनाके त्रास भुलैटी

पहुरा समाचारदाता
धनगढी, २७ असार ।
कैलालीके कैलारी गाउँपालिका ६ बेनौली गाउँस्थित टमान टोलमे असार २२ गतेसे २५ गतेसम हरडहुवाके उल्लास रहे ।
स्थानीयहुक्रे खेतीपातीमे करल दुःख, कष्टपाछे आपसमे टमान परिकार पकाके सामूहिक रुपमे रमाइलो कर्लै ।
यहाँसमकी, आजकाल मानव समुदायमे महामारीके रुपमे फैलल कोरोना भाइरस (कोभिड १९) के त्रासहे भुल्टी हरडहुवा अर्थात धान लगैना ओराइलपाछे मनैना टिहुवार धुमधामसे मनाइ लागल हुइट ।
हरडहुवाके रौनकता उ बेनौली गाउँ तथा उ कैलारी गाउँपालिकामे किल सीमित नाई हो । आजकाल कैलाली, कञ्चनपुर, बर्दिया जिल्लाके टमान गाउँमे रौनक छाइल हो ।
विशेष करके तराईके आदिवासी डंगौरा थारु, रानाथारु, कठरिया थारु वस्तीमा हरडहुवा, निमौनी ओ हरधोवाके रौनक थपल हो ।
बेनौलीके स्थानीय युवा अरविन चौधरी कहठै– ‘कोरोना महामारीके डर टे बा । मने डर बा कहटी किल हातमे हात बाँधके टे नाई हुई । डराडरा खेटुवा लगैना ओरुवाइली । हाल खेटुवा ओराइलपाछे गाउँमे सामूहिक हरडहुवा मनाइटी । लागठ, गाउँक् अवस्था पहिलेके अवस्थामे लौटाटा ।
कैलारी गाउँपालिका–६ खरेट्टीके स्थानीय खगेन्द्र चौधरी फेन गाउँघरमे कोरोना त्रास क्रमशः हेरैटी गैल बटैठै ।

उहाँ आघे कहलै– ‘सञ्चारमाध्यममे कोरोनाके समाचार सुनलपाछे किल कुछ डर लागठ । मने आब टे सामान्य लागठ । हरडहुवाके रौनकतासे टे झने गाउँघर पुराने अवस्थामे फर्कल संकेट मिलठ ।’
बेनौलीके अरविन चौधरी कोरोनासे बचेक् लाग कुछ साबधानीके साथ हरेक गतिविधि गाउँघरमे हुइटी आइल बटैठै ।
हरडहुवा टिहुवारके अवसरमे चेलीबेटी तथा नातपातहुकन घरमे बलाके आपसमे खुसयाली साटासाट कर्ना प्रचलन रहटी आइल बा । जेकर अप्ने मौलिक विशेषता रहल बटाजाइठ ।
थारु नागरिक समाज कैलालीके संयोजक दिलबहादुर चौधरीके अनुसार हरडहुवा तथा हरधोवाके शाब्दिक अर्थ हर धोइना हो । जौन टिहुवारमे बंगुर, छेग्री सामूहिक रुपमे काटके खानपान करके रमैना प्रचलन रहटी आइल हो । मने वस्ती पिच्छे हरडहुवा फरक–फरक मितिमे मनैना करजाइठ ।
कैलालीके गौरीगंगा नगरपालिका–१० नुक्लीपुरके बर्का गुरुवा (थारु जातिका पुरोहित) कालुराम चौधरी फेन थारु समुदायमे हरडहुवाके अप्ने बिशेषता रहल बटैठै । उहाँ खेती लगैना क्रममे जानके नैजानके किंरा फटिंगा, साप, मेघिलगायत जीवजन्तुहुकन मर्न काम हुइना हुइलओरसे पापसे मुक्तिके लाग फेन हर जुवाके पूजा कर्ना ओ खानपान करके हरडहुवा मनैना चलन चल्टी आइल बटैठै ।

कैलालीके टीकापुरमे बैठ्टी आइल भजनी नगरपालिका ३ कन्हैयापुरके आरती चौधरी फेन अप्ने आपन साँघरियान् घरमे हरडहुवा मनाइल बटैली ।
कैलाली जिल्ला संगे कञ्चनपुर बर्दिया जिल्लामे फेन हरडहुवा मनैना क्रम जारी बा । कञ्चनपुरसे पत्रकारिता करटी आइल पुनर्वास नगरपालिका २ अम्रैयाके जुद्ध चौधरी कञ्चनपुरके टमान वस्तीमे चाडपर्वके उल्लास बह्रटी गैल बटैठै ।
‘महामारीके प्रभावके कारण मनै कुछ हदसम संकोच मन्ठै । मने ढिउर भीडभाड तथा दूरके नातपातहुकन कम आमन्त्रण कर्नालगायत कुछ सावधानी अप्नाइटी निर्धक्कसे टिहुवार मनाई लागल बाटै’, उहाँ आघे कहलै ।

“रोग घण्टा बजाके नैआइठ, सावधानी जरुरी”

हरडहुवा किल नाई कौनो फेन टरटिहुवार मनाइबर सावधानी अप्नाइक लाग आग्रह करगिल बा । थारु नागरिक समाजके संयोजक चौधरी कौनो फेन समुदाय चाडपर्व मनाई पैना मौलिक हक रहलेसे फेन समय सापेक्ष तथा सावधानीके साथ मनाइक पर्ना आग्रह कर्लै ।
चिकित्सकहुक्रे फेन सावधानी विना कौनो फेन सामाजिक गतिविधि नैकर्ना आग्रह करटी आइल बाटै ।कोरोना भाइरस सामुदायिक स्तरमे प्रवेश करलओरसे विशेष सतर्कता अप्नाके किल टिहुवार मनाइक पर्ना चिकित्सकहुक्रे सुझाव डेले बाटै ।
सेती प्रादेशिक अस्पतालके फिजिसियन डाक्टर शेरबहादुर कमर कौनो फेन रोग घण्टी बजाके नैअइना बटैटी कौनो फेन मानवीय गतिविधिमे आपसमे दूरी कायम करके, मास्क प्रयोग करके, समय–समयमे हात धुइना लगायत सरसफाईमे ध्यान डेके किल टिहुवार मनाइक पर्ना औल्याइठै ।

जनाअवजको टिप्पणीहरू