थारु राष्ट्रिय दैनिक
भाषा, संस्कृति ओ समाचारमूलक पत्रिका
[ थारु सम्बत १३ अगहन २६४६, मंगर ]
[ वि.सं १३ मंसिर २०७९, मंगलवार ]
[ 29 Nov 2022, Tuesday ]
‘ भजनीके बाह्र पीडित किसानहुकनके पीडा ’

चैते धान खेटुवाईमे, भोकमरीके चिन्ता

पहुरा | २९ असार २०७७, सोमबार
चैते धान खेटुवाईमे, भोकमरीके चिन्ता

पहुरा समाचारदाता
भजनी, २९ असार ।
मुलुकके टमान ठाउँमे धान लगैना चल्टी रहल बेला कैलाली जिल्लाके अति बाह्रग्रस्त क्षेत्रके स्थानीयहुकन धान बाली भित्र्याइना भर हम्मे हम्मे परल बा ।

हरेक बरस अइना बाह्रके कारण चैते धान खेती करटी आइल उहाँहुकन हाल तयार हुुइल चैते धान भित्र्याइना बहुट कर्रा परल बा । पाकल धान खेतुवा मन्से निकारे नैसेकके ढिउर नोक्सानी समेत बेहोरे परल दुखेसो सुनैले बाटै ।

भजनी नगरपालिका ३ कन्हैयापुरके स्थानीय आरती चौधरी अप्नेहुक्रे १५ कट्ठामे करल चैते धान आजकाल भित्र्याइटी रहल बटैली । लकडाउनके बेला धान लगैना शुरु करल ओ हाल तयार हुइल बटैटी उहाँ आघे कहली– ‘बर्खाहा धान नैहुइट कहिके चैते धान लगैठी । मने का कर्ना हो, आब त पासकेकल चैते धान सगेना लगैना कर्रा बा । भुखे मुनाधन्धा बा ।’

भजनी नगरपालिकाके प्रमुख शेरबहादुर चौधरीके अनुसार भजनी नगरपालिका क्षेत्रमे किल करिब १ हजार विघा क्षेत्रफलसे ढिउर क्षेत्रफलमे चैते धान करजाइठ । ओइसिक टे कैलालीके टीकापुर नगरपालिका, जोशीपुर गाउँपालिका क्षेत्रके कुछ क्षेत्रमे फेन चैते धान खेती हुइठ । जिल्लाके बाह्र प्रभावित क्षेत्रके रुपमे चिन्जैना उ क्षेत्रमे बर्खाहा धान खेती बाह्रके कारण नैहुइना समस्याके कारण चैते धान खेती करटी आइल रहिट । मने हाल चेतै धान खेतीसे फेन उहाँहुकन हात धोई परल बाटीन् ।

आरती चौधरी आघे कहली– ‘पाकल धानेमे पानी जमल बा । खेटुवामे पाकल धान सरे लागल बा । जौन धान खैनाक् लाग योग्य नैरहलेसे फेन बंगुरलगायत जीवजन्तुहन खवाइक लाग फेन काटे परल बा ।’

स्थानीय किसानहुक्रे पाकल धान काटके खटियामे धारके उच ठाउँमे बोके थ्रेसिङ करटी आइल बाटै । खासकैके हुलाकी राजमार्गमे धान बोके उहाँहुक्रे थ्रेसिङ करटी आइल आरती चौधरी बटैठी ।

चैते धान खेती खासकैके भजनी नगरपालिका वडा नम्बर १, २, ३, ५, ६, ७ र ८ मे हुइटी आइल बा । उ क्षेत्रके खाद्यन्नके प्रमुख आधार कलेक चैते धान बनल बा । मने यी बरस आधा आध खेटुवामे रहल भजनी नगरपालिका ३ मोहनपुरके स्थानीय गंगा चौधरी बटैलै ।

मने जे चैते धान उसारे सेक्ले बा, ओकर लाग बहुट मजा हुइल फेन गंगा चौधरीके कहाइ बा । धान उत्पादन मजा हुइल बटैटी उहाँ बजार मोल फेन मजा मिलल बटैलै । उहाँके अनुसार सुखल धान प्रति क्वीन्टल २६ सय रुप्या ओ कच्चे धान प्रति क्वीन्टल २२ सय रुप्यासममे बिक्रि हुइटी रहल बा ।

जिल्लाके दक्षिण पूर्वीस्थित भजनी नगरपालिका बाह्रके उच्च जोखिम क्षेत्र हो । जहाँ क्षणभरके पानीसे जलमग्न हुइठ ।

मोहना, काँडा, पथरैया, कन्द्रालगायत लडियामे अइना बाह्रसे बर्सेनि धनजनके क्षति उ क्षेत्रके स्थानीयहुक्रे बेहोरटी आइल बाटै ।

जनाअवजको टिप्पणीहरू