थारु राष्ट्रिय दैनिक
भाषा, संस्कृति ओ समाचारमूलक पत्रिका
[ थारु सम्बत १९ अगहन २६४६, सोम्मार ]
[ वि.सं १९ मंसिर २०७९, सोमबार ]
[ 05 Dec 2022, Monday ]

निर्माणाधिन गेटा मेडिकल कलेज कि, प्रतिष्ठान

पहुरा | ३० असार २०७७, मंगलवार
निर्माणाधिन गेटा मेडिकल कलेज कि, प्रतिष्ठान
  • भौतिक प्रगति ७० प्रतिशत
  • सञ्चालनके मोडालिटीमे अभिनसम अन्योल

पहुरा समाचारदाता
धनगढी, ३० असार ।
गेटा मेडिकल कलेज कहिके बन्टी रहल भौतिक संरचनाके ७० प्रतिशत प्रगति हुइल बा । मने हालसम सञ्चालनके मोडालिटीबारे भर टुंगो नैलागल हो ।

गेटा मेडिकल कलेज पुर्वाधार विकास समितके कार्यकारी निर्देशक भीमबहादुर साउँदके अनुसार हालसम ७० प्रतिशत भौतिक प्रगति हुइल बा । कलेसे वित्तीय प्रगति भर ६५ प्रतिशत हुइल कार्यकारी निर्देशक साउँद जानकारी डेलै ।

कार्यकारी निर्देशक साउँदके अनुसार निर्माणाधीन गेटा मेडिकल कलेजके भौतिक संरचना ७ प्याकेजमे हुइटी रहल बा ।

छात्र/छात्रा छात्रावास, चिकित्सक आवास कक्ष, कुरुवा, शव घर, अक्सिजन प्लान्ट ओ थप ३ सय शैय्याके अस्पतालके भौतिक संरचना निर्माण हुइटी रहल बा ।

जौन भिट्रके कलेज भवन निर्माण होसेकल बा । कलेसे प्रशासनिक भवनके काम अन्तिम चरणमे पुगल बा । निर्माण सम्पन्न हुइल अइना ३ हप्ताभिट्टर हस्तान्तरण फेन हुइना कार्यकारी निर्देशक साउँद जानकारी डेलै । बाँकी ५ प्याकेजके निर्माण जारी रहल जनागिल बा ।

कोरोना भाइरसके महामारीमे समेत मेडिकल कलेज निर्माणके कामहे निरन्तरता डेगिल रहे । मने कामदार ओ निर्माण सामग्रीके अभावके कारण काममे ढिलाई हुइल बा । विगतमे तीन हजारसे ढिउर मजदुर दैनिक काम करटी आइल रहिट कलेसे कोरोनाके प्रभावपाछे दैनिक तीन से चार सय मजदुर किल काम करटी आइल बाटै । जौनकारणमे ढिलाई हुइल कार्यकारी निर्देशक साउँद बटैलै ।

अइना चैत्रसे एक सय ५० शैय्याके अस्पताल संञ्चालन कर्ना तयारी फेन करगिल बा । भौतिक संरचना निर्माण कार्यविधीे अनुसार आर्थिक वर्ष २०७७/७८ भिट्रे अस्पताल संञ्चालनमे नानेक् पर्ना कारण चैतसे सुरु कर्ना तयारी हुइटी रहल मेडिकल कलेज पुर्वाधार विकास समित जनैले बा ।

भौतिक संरचनाके निर्माण कार्य धमाधाम हुइटी रहलेसे फेन कौन मोडालिटीमे सञ्चालन कर्नामे भर अभिनसम अन्योलता कायममे रहल बा । गेटा मेडिकल कलेज शिक्षा विज्ञान तथा प्रविधि मन्त्रालय अन्तरगत निर्माण हुइटी रहलसे फेन यहिहे स्वास्थ्य विज्ञान प्रतिष्ठानके रुपमे सञ्चालन कर्ना विषय फेन जोडदार ढंगसे उठ्टी आइल बा ।

‘मेडिकल कलेज हुइलेसे अस्पताल सञ्चालन हुइल ३ बरसपाछे किल कलेजके पढाई सुरु करे पैना मापदण्ड रहल बा,’ निर्देशक साउँद कहलै– ‘अन्य विश्वविद्यालयके सम्वन्धन लेहक पर्ना फेन बाध्यकारी नियम बा । सरकारसे सञ्चालित रहलेसे फेन परनिर्भरता ढिउर रहठ, भने स्वास्थ्य विज्ञान प्रतिष्ठानके रुपमे सञ्चालन हुइलेसे कलेज ओ अस्पताल संगे सुरु करे सेकजाइठ ओ अप्नही स्वायत्त रहलओरसे सक्कु अधिकार अप्नहीमे रहना हुइलओरसे यकर बहस ढिउर चलल बा ।’

सञ्चालनके प्रक्रिया सम्बन्धमे संघीय मन्त्री परिषदमे प्रस्ताव पेस कर्लेसे फेन प्रारुप तथा मोडालिटीबारे निर्णय हुइना बाँकी रहल कार्यकारी निर्देशक भीमबहादुर साउँद बटैलै ।

निर्देशक साउँदके अनुसार कलेजके साविक डिपिआर अनुसार ८ अर्ब ५० करोड लागत अनुमान करगिल रहे । मने हाल सक्कु निर्माणसहित सञ्चालनके लाग १५ अर्ब लागत अनुमान करगिल बा ।

जनाअवजको टिप्पणीहरू