थारु राष्ट्रिय दैनिक
भाषा, संस्कृति ओ समाचारमूलक पत्रिका
[ थारु सम्बत ३० सावन २६४६, सोम्मार ]
[ वि.सं ३० श्रावण २०७९, सोमबार ]
[ 15 Aug 2022, Monday ]
‘ कमैया मुक्तिके २० बरस ’

बैठल ठाउँक लालपूर्जा पाइपर्ना माग

पहुरा | २ श्रावण २०७७, शुक्रबार
बैठल ठाउँक लालपूर्जा पाइपर्ना माग

पहुरा समाचारदाता
धनगढी, २ सावन ।
मुक्तकमैयाहुक्रे प्रदेशस्तरमे अधिकार सम्पन्न मुक्तकमैया पुनस्र्थापना समस्या समाधान आयोग ओ स्थानीयस्तरमे मुक्तकमैया पुनस्र्थापना समिति गठन करके पुनस्र्थापना कार्य आघे बढाई पर्ना माग करले बाटै ।

२० औं कमैया मुक्ति दिवसके अवसरमे शुकके रोज सुदूरपश्चिम प्रदेश मुख्यमन्त्री त्रिलोचन भट्ट ओ भूमि व्यवस्था, कृषि तथा सहकारी मन्त्री विनिता चौधरीहे १२ बुदँे माग सहित ज्ञापनपत्र बुझैटी उ माग रख्ले रहिट । ज्ञापनपत्रमे परिचपपत्र पाइल ओ बस्ती लागके बैठल छुट मुक्तकमैयाहुकन अब्बेक बसोबास तथा भोगचलन करटी रहल जग्गाके नापनक्सा करके लालपुर्जा उपलब्ध कराई पर्ना माग करले बाटै ।

ज्ञापनपत्र बुझ्टी सुदूरपश्चिम प्रदेशके मुख्यमन्त्री भट्ट मुक्त कमैयाके समस्या समाधानके लाग प्रदेश सरकार गम्भीर रहल बटैलै । उहाँ कहलै– मुक्तकमैयाके समस्या समाधानके लाग प्रदेश सरकारसे विशेष कार्यक्रम नन्ले बा । उहाँ भूमिके अधिकार प्रदेश सरकारसंग नइरहल ओरसे संघीय सरकारसंग समन्वय कैके मुक्तकमैयाके समस्या समाधान कैना बटैलै ।

भूमि व्यवस्था, कृषि तथा सहकारी मन्त्री विनिता चौधरी प्रदेश सरकारसे एकीकृत वस्ती विकास कार्यक्रममार्फत मुक्तकमैयाके समस्या समाधान कैना योजना बनाइल बटैली । उहाँ कहली– आधारभूत आवश्यकता पुरा कैना आयमूलक कार्यक्रम ओ रोजगारमुलक कार्यक्रम आघे बह्रैना नानल बा । मुक्तकमैया पुनस्र्थापना कैना सेकटसम बैठल ठाउँमे जग्गा डेना कहल हो । औरे ठाउँमे जग्गाके टुंगो नइलागतसम अब्बे बैठल मुक्तकमैयाहे कोईफे भगाइनइसेक्ना मन्त्री चौधरी बटैली ।

कमैया मुक्ति घोषणाके दुई दशकमे ढेर सत्ता, शासन, प्रशासन परिवर्तन हुइल मने न्यायिक पुनस्र्थापनाके अशरामे अपनेहुक्रे अधिकार प्राप्तीके लाग २० औं बरससे रोडमे नारा लगैना बाध्य हुइल मुक्तकमैया समाजके केन्द्रीय अध्यक्ष पशुपति चौधरी बटैलै । उहाँ कहलै, मुक्तकमैयाके नाउँमे सरकार कुछफे नइकरल कना नइहो, पुनस्र्थापनापाछे बहुट जे प्रगति करल मने अभिनफे ढेर मुक्तकमैया, पुनस्र्थापना हुइना बाँकी बाटै कलेसे टमान परिचयपत्र पैनासेफे बन्चित बाटै ।’

मुक्ति घोषणापाछे पुनस्र्थापना हुइना बाँकी, छुट मुक्तकमैया, सट्टा भर्ना हुइना बाँकी मुक्तकमैया बनुवक छेउछाउ, खाली रहल ऐलानीप्रति जग्गा, ढेर बरससे भोगचलन हुई छोरल सरकारी स्वामित्वके जग्गामे बैठल बाटै, ओइनहे उहे ठाउँमे नापनक्सा करके लालपुर्जा डेलेसे ९८ प्रतिशत समस्या समाधान हुइना केन्द्रीय अध्यक्ष चौधरी बटैलै ।

यी फेन–
पुनर्स्थापना कर्नै बाँकी, सरकार कहट– काम होसेकल
सम्पादकीयः मुक्तकमैया पुनर्स्थापनामे सरकारके उदासिनता कहे ?
मुक्त कमैयासे टमान माग रख्टी गाउँपालिका अध्यक्षहे ज्ञापनपत्र

मुक्तकमैया महिला विकास मञ्च कैलालीके अध्यक्ष कौशिला चौधरी कैलालीमे परिचयपत्र प्राप्त आठ हजार नौ सय १० जाने मुक्तकमैया परिवार रहलमे सरकारसे एक सय ७३ जानेक परिचयपत्र खारेज करल बटैली ।

कैलालीमे मुक्ति घोषणापाछे आठ हजार सातसय १७ परिवारहे बसोबास करे पैलेसेफे एकसय ९३ जाने मुक्तकमैया परिवार जग्गाधनी पुर्जा पाकेफे अपन नाउँक जग्गामे बसोबास कैनासे वञ्चित हुइल उहाँ कहली । परिचयपत्र प्राप्त करल एक सय ८७ जाने मुक्तकमैया परिवार जग्गा नइपाइल कारण घर निर्माणके लाग काठवापतके रकम ओ घर निर्माण सहयोग रकम समेत सहज रुपमे पाई नइसेकल मञ्चके अध्यक्ष कौशिला बटैली ।

उहाँ अस्थायी शिविरमे गुजारा करटी रहल मुक्तकमैयाहुकनके शिक्षा, स्वास्थ्य, रोजगार लगायतके आधारभूत मानवीय आवश्यकतासंगे गाँस ओ बासके तत्काल व्यवस्था कैना माग करले रहिट । उहाँ कहली– सरकारसे सुविधा डेना नाउँमे कुहीहे कुलुवक बगर टे(बाँकी ३ पेजमे) कुहीहे बलुटिया जग्गा डेले बा, कलेसे कुहीहे सुकुम्बासी तथा किसानहुकनके भोगचलन करल जग्गामे कित्ताकाट करल बा ।’

सरकारसे टमान बहानामे मुक्तकमैया बसोबास करल जमिनसे हटाई खोजल ओरसे यैसिन कार्य तत्काल बन्द नइकरलेसे आन्दोलनमे उत्रना उहाँ बटैली ।

मुक्ति दिवस हरेक वरस वृहत ¥याली, अन्तरक्रिया, विचार गोष्ठी, लगायतके कार्यक्रम हुइटी आइल मने, अशौक साल कोरोना भाइरसके महामारीके कारण मुक्तकमैया समाज, कमैया प्रथा उन्मूलन समाज, मुक्तकमैया महिला विकास मञ्च, मुक्तकमैया यूवा समाज, कमैया महिला जागरण समाज कैलाली लगायतके संघ÷संस्थासे संयूक्त रुपमे सुदूरपश्चिम प्रदेशके मुख्यमन्त्री त्रिलोचन भट्टमार्फत प्रधानमन्त्रीहे ज्ञापनपत्र बुझैले बाटै ।

ज्ञापनपत्रमे विश्वमे फैलल कोरोना भाइरसके कारण विदेशसे बेरोजगार मुक्तकमैया सदस्यहुकन शैक्षिक योग्यता, सीप दक्षता अनुसार रोजगारके व्यवस्था करे पर्ना, मुक्तकमैयाहुकनहे उपलब्ध कराइल जग्गाके पूर्ण स्वामित्व कायम करे पर्ना, २०५८ सालमे मुक्तकमैया परिचयपत्र बदर हुइल, १७३ जाने मुक्तकमैयाहुकनके परिचयपत्र सदर करके पुनस्र्थापना करटी जग्गाके लालपुर्जा पाके बसोबास करे नइपाइल १९३ जाने मुक्तकमैयाहुक्रे पाइल लालपूर्जा कार्यान्वयन करे पर्ना माग रहल बा ।

ओस्टेक, मुक्तकमैया ओ कमलरीहुकनके आर्थिक बृद्धिविकासके लाग मुक्तकमैया ओ कमलरीहुक्रे संचालन करल सहकारीमे विउपुँजीके रुपमे नगद उपलब्ध कराई पर्ना, नेपाल सरकारसे घर निर्माण ओ काठ बाफतके रकम रातो ओ निलो कार्ड प्राप्त करल मुक्तकमैयाहे समान रुपमे तत्काल उपलब्ध कराई पर्ना माग करल बा ।

सुविधासे बन्चित कैलालीके ९३३ घरधुरीहे यी सुविधा उपलब्ध कराई पर्ना, मुक्तकमैयाके लर्कनहे प्राविधिक शिक्षा ओ स्नातकोत्तर सम निःशुल्क रुपमे पठनपाठनके व्यवस्था करे पर्ना, मुक्तकमैया तथा मुक्त कमलरीहुकनके परिचयपत्रके नेपाल सरकारसे विमा सहित निःशुल्क स्वास्थ्य उपचारके व्यवस्था करे पर्ना ज्ञापनपत्रमे उल्लेख बा ।

ओस्टेक करके छुट मुक्त कमैया कमलरीहुकनके पहिचान करके परिचयपत्रके व्यवस्था करे पर्ना, मुक्तकमैयाहुक्रे टमान स्थानमे ऐलानीप्रति जमिन कब्जा करके बसोबास करटी रहल ठाउँमे स्थानीय सरकारसे वडा भवन, स्वास्थ्य भवन बनैना, नाउँमे भूमिहिन मुक्तकमैयाहुकनहे विस्तापित कैना जैसिन कार्य तत्काल खारेज करे पर्ना, परिचयपत्र प्राप्त मुक्तकमैयाके ज्यान गिलेसे ओकर अधिकार निजके छावा छाईमे हस्तान्तरण करे पर्ना लगायत माग सहित ज्ञापनपत्र बुझागिल बा ।

#मुक्तकमैया_पुनर्स्थापना
#KamaiyaMovement
#movement
#movementchallenge
#TharuCommunity
#LandLords
#GovernmentofNepal
#ProvincialGovernment
#LocalGovernments

जनाअवजको टिप्पणीहरू