थारु राष्ट्रिय दैनिक
भाषा, संस्कृति ओ समाचारमूलक पत्रिका
[ थारु सम्बत १७ अगहन २६४६, शनिच्चर ]
[ वि.सं १७ मंसिर २०७९, शनिबार ]
[ 03 Dec 2022, Saturday ]

लकडाउनः कामचोर ठेकेदारन्के काम नैकर्ना बहाना

पहुरा | २९ श्रावण २०७७, बिहीबार
लकडाउनः कामचोर ठेकेदारन्के काम नैकर्ना बहाना

कैलाली–कञ्चनपुरके ३३ पूल पटक–पटकके थप म्यादमे फेन नैबनल, ६ महिना म्याद “इनाम”

लखन चौधरी
धनगढी, २९ सावन ।
कञ्चनपुर जिल्लाके कृष्णपुर नगरपालिकाहे कैलालीके धनगढी उपमहानगरपालिकासे जोरक लाग मोहना लडियामे पुल बनाइक लाग ठेक्का हुइल ६ बरस पूरा हुइल बा । ठेक्का पाइल अलाइट एडभेन्चर जेबीके ४ पटक म्याद ठप होसेकल बा । मने हालसम उ पुलके ५५ प्रतिशत किल प्रगति बिल्गाइल बा ।

सडक डिभिजन कार्यालय कञ्चनपुरके अनुसार २०७१ असार ३१ गते समझौता करल उ अलाइट एडभेन्चर जेबीहे २०७४ असार ३१ गते काम ओरवाइक पर्ना रहे । मने निर्माणमे करल वेवास्ता ओ नियमकारी निकायके लचारीपनसे २०७६ जेठसममे ३ पटक म्याद ठप्लेसे फेन उ कम्पनी काम करे नैसेकल हो । १० करोड ६५ लाख ९९ हजार लागत इष्टीमेट रहल उ पुल निर्माणके हाल चौथौ पटक म्याद थप हुइल बा । जौन अनुसार २०७७ पुस २५ गतेभिट्टर काम सेके पर्ना बा ।

उ पुल समयमे नैबनलपाछे कृष्णपुर नगरपालिका ओ धनगढी उपमहानगरपालिकाके स्थानीयबासी निराश हुइल बाटै । कृष्णपुर नगरपालिका–९ के स्थानीय हरि भुत्याल बषौसे पुलमे नेंग्न कृष्णपुर नगरवासीहुकनके सपनामे कुठाराघात हुइल बटैठै ।

‘६ बरससम बने नैसेकल पुलके लाग ठेकेदारहुक्रे काम लम्ब्याइना बहाना पैले बाटै,’ स्थानीय हरि भुत्याल कहलै, ‘आब पुलमे नेंगग्न सपना डेखे छोरसेक्ले बाटी, ज्यान जोखिममे पारके लाउमे नेंग्नके विकल्प नैहो ।’

धनगढी उपमहानगरपालिका ३ के स्थानीय चेरु चौधरी पुल नैबनलओरसे बर्खामे आवातजावत बन्द हुइल बटैलै । कि टे, जोखिम सहके लाउसे लडिया पार करेक परल, कि, फेराहुर डगर प्रयोग करेक पर्र्ना बाध्यता रहल चौधरीके दुखेसो बा ।

सडक डिभिजन कार्यालय महेन्द्रनगरके डिभिजन प्रमुख अर्जुन बम कार्तिकसे पुलके डोसर स्पाम निर्माण करल ठेकदार टेसर स्पाम निर्माण करे नैसेकल बटैलै ।

डिभिजन प्रमुख बमके अनुसार उ ठेकेदार जेठ मसान्तसम पुल निर्माण करसेक्ना कहिके प्रतिबद्धता जनैलेसे फेन लकडाउनके बहाना डेखाके काम रोक्ले बा । उहाँ पुल निर्माणमे आनाकानी करल ठेकेदारहे पुस महिनामे जरिवाना लगेलेसे फेन सरकारके ९ औं संशोधनपाछे फेरसे म्याद ठप करल बटैलै ।

‘काममे दवाव डेना उद्देश्यसे निर्माण कम्पनीहे २ महिनाके जरिवाना समेत लगाइल रही’ डिभिजन प्रमुख बम कहलै– ‘मने लकडाउनके बहाना बनाके फेरसे काम रोक्ले बा ।’ ‘हम्रे मोहना पुलहे पहिल प्राथमिकतामे राखके ठेकेदारहे नियमित ताकेता करटी रहल बाटी’ डिभिजन प्रमुख बम कहलै– ‘माघसम जसिक फेन काम सम्पन्न करे परल, लकडाउनहे डेखाके भागे नैमिली ।’

शिवगंगामे सरकारी पक्षसे ढिलढाल

६ बरसम मोहना पूल बनाई नसेकल ओहे मनिक साझेदार रहल पप्पु एड्भेन्चर प्रालि डोसर पूलके ठेक्का पाके काम अलपत्र पारल पागिल बा । धनगढी उपमहानगरपालिका–७ स्थित शिवगंगा लडियामे निर्माणधिन पुल अलपत्र पारल हो ।

२०७४ मे ३ बरस भिट्रे पुल निर्माण कर्ना समझौताअनुसार जेठ मसान्तमे पुल निर्माण करेक पर्र्ना म्याद ओराइल बा । मने निर्धारित समयमे ४५ प्रतिशत किल कार्य प्रगति करल सडक डिभिजन कार्यालय जनैले बा ।

निर्माण कम्पनीके बदमासी पाछे धकेल्टी गैल पूलके काम आब भर सरकारी पक्षके कारण पाछे पर्ना डेखगिल बा । उ पूलके साविक डिजाइन परिवर्तन करेक पर्ना डिभिजन कार्यालय जनैले बा । लौव डिजाइन अनुसार निर्माण हुइना ओ लौव डिजाइन अभिन स्वीकृत होके नैआइलओरसे कुछ ढिलाइ हुई सेक्ना डिभिजन प्रमुख बमके कहाइ बा । उ पुलके शुुरु समझौता रकम १४ करोड २६ लाख ८८ हजार रहल बा ।

पथरैयामे फेन निराशा ओस्टेहे

टेण्डर पाइक लाग हरेक हत्कन्डा अप्नैनामे पाछे नैपर्ना एडभेन्चर कैलालीके पथरैया पुल फेन अलपत्र पर्ले बा । कैलालीके लम्कीचुहा नगरपालिकास्थित पथरैया लडियामे निर्माणाधिन पूलहे अलपत्र पारल हो ।

सम्झौता अनुसार एड्भेन्चर प्रालि पुल सम्पन्न करेक पर्र्ना निर्धारित मितिमे ४० प्रतिशत काममे किल सीमित हुइल बा । निर्धारित समयमे बेस किल बनाके छोरल पुलहे निर्माण कम्पनी १ बरस म्याद ठप कर्लेसे फेन सम्पन्न करे नैसेकल सडक डिभिजन कार्यालयके सूचना अधिकारी एंव इन्जिनीयर लक्ष्मणदत्त जोशी बटैलै ।

उहाँके अनुसार एड्भेन्चर कन्ट्रक्सन कम्पनीके नाममे ठेकेदार चन्द्र शेखर मल्लसे उ पुल निर्माणके लाग २०७४ जेठमे २ बरसभिट्रे काम सम्पन्न कर्ना गरी ७ करोड ३८ लाख २५ हजारमे ठेक्का सम्झौता हुइल बा । मने २ बरसके अवधीमे पुलके काम जम्मा २० प्रतिशतमे सीमित हुइल बा ।

गैल जेठ मसान्तपाछे पुल निर्माणके लाग डोसर पटकके म्यादसमेत ओराइल बा । मने, पुल निर्माण भर हुई नैसेकल हो । ‘अब्बा आके ठेकदार लकडाउनहे बहाना बनाके पुल निर्माण करे नैसेकल प्रतिक्रिया डेहे लागगिल बा,’ इन्जिनीयर जोशी कहलै ।

कान्द्रामे ९ बरसमे ५५ प्रतिशत

हुलाकी राजमार्ग अन्तर्गत कैलालीके भजनी नगरपालिका–३ स्थित कान्द्रा लडियामे निर्माधिन पुलके कार्य प्रगति फेन निराशाजनक बा ।

पुल निर्माण शुरु हुइल ९ बरस बिटल बा । मने, पुल भर बने नैसेकल होरु। पुलके पीलर राख्न कामबाहेक कुछ फेन नैहुइल स्थानीयवासीहुकनके कहाइ बा । पुल नैबनलपाछे भजनी नगरपालिकाके वडा नं. ५ ओ ७ के स्थानीयवासी ओ नगरपालिकाबीचके सम्पर्क सम्बन्ध बर्खामे टुटल बा । आवातजावातके लाग लाउके भर परेक पर्ना बाध्यता स्थानीयहुकनके बा ।

हुुलाकी राजमार्ग आयोजनाके योजना कार्यालय धनगढीके अनुसार उ कान्द्रा लडियामे पूल निर्माणके लाग २०६८ जेठ ३१ गते ठेक्का सम्झौता हुइल रहे । साढे २ बरसमे निर्माण सम्पन्न करेक पर्ना समझौता करल लामा साल्पा शर्मा विरुवा कम्पनी ९ बरसके अवधीमे जम्मा ५५ प्रतिशत किल प्रगति करल आयोजनाके योजना कार्यालय धनगढीके सूचना अधिकारी पदम मडै जानकारी डेलै ।

४ करोड ४२ लाख ठेक्का समझौता रकम रहल पूलके पछिल्का निर्माण अवधी २०७७ माघसम ठप हुइल जनागिल बा ।

यी कुछ उदाहरण किल हो । कैलाली ओ कञ्चनपुर जिल्लामे ३३ ठो बरवार पूल निर्माधिन अवस्थामे रहल बा । गैल आब २०७६ मे १२ ठो पूल किल निर्माण सम्पन्न हुइल रहे ।

कान्द्रा लडियाक् पूल बाहेक सक्कु पूलके काम सडक डिभिजन कार्यालयमार्फत हुइटी रहल बा । मने हालसम कौनो फेन पूल शुरुके निर्धारित समयावधिमे बने नैसेकल हो ।

मने हाल आके पटक–पटक म्याद ठप होके फेन काम नैकर्ना निर्माण कम्पनीहुकनके लाग कोरोना भाइरस (कोभिड–१९) महामारीपाछे जारी करल लकडाउन मजा बाहाना बनल बा । ओहे कारण डेखाके म्याद ठप करेक पर्र्ना माग समेत करटी रहल बाटै ।

जबकी जिल्ला प्रशासन कार्यालय लकडाउनके अवधीमे निर्माण सम्बन्धी काम नैरोक्न निर्देशन डेहल रहे ।

कैलालीके प्रमुख जिल्ला अधिकारी यज्ञराज बोहरा लकडाउनके अवधीमे कौनो फेन निर्माण कम्पनीहे काममे अबरोध नैकरल बटैलै । ‘हम्रे निर्माण कम्पनीहे विकासके काम करे डेना निर्णय करल रही,’ प्रजिअ बोहरा कहलै, ‘कोई काममे लकडाउन बाधक बनल कही कलेसे उ झुठ बात हो ।’

६ महिना म्याद

समझौता अनुसारके काम नैकर्नालगायत सक्कु निर्माण व्यवसायीहुकनके कार्य अवधी ६ महिना ठप करगिल बा । सरकार लकडाउनके कारण काम प्रभावित हुइल कहटी सक्कु निर्माण व्यवसायीहुकनके भ्याद ठपल हो ।

२०७७ असार २९ गते बैठल मन्त्रीपरिषद बैठकसे म्याद ठप कर्ना निर्णय करल सञ्चार तथा सूचना प्रविधि मन्त्रालयसे जारी करल प्रेस विज्ञप्तीमे उल्लेख बा ।

जनाअवजको टिप्पणीहरू