थारु राष्ट्रिय दैनिक
भाषा, संस्कृति ओ समाचारमूलक पत्रिका
[ थारु सम्बत २१ अगहन २६४६, बुध ]
[ वि.सं २१ मंसिर २०७९, बुधबार ]
[ 07 Dec 2022, Wednesday ]

रेडियो कर्म छोरके बेम्टी खेतीमे एन्जील

पहुरा | १६ आश्विन २०७७, शुक्रबार
रेडियो कर्म छोरके बेम्टी खेतीमे एन्जील

छोट समयमे लोभलग्टिक कमाही

राम दहित
धनगढी, १६ कुवाँर ।
दुई बरस पहिले पत्रकारिता करटी रहल एन्जील चौधरीहे विदेश जैना भूत सवार हुइल रहे । एन्जीलहे खास कैके कोरिया जैना इच्छा जागल रहे । कोरिया जाके पैसा कमैना किल नाइ कि एन्जीलहे कृषि सम्बन्धी ज्ञान सीप सिख्ना ओ उहे सिखल ज्ञान सीपहे स्वदेश आके व्यवहारमे उटर्ना रहे । ओकर लाग एन्जील कोरियन भाषा कक्षाके ट्यूसन फेन लेलै । मने ओहकान भाग्य साथ नाइ डेलिन् । एन्जील उ कोरियन भाषा परीक्षामे असफल हुइलै, ओ कोरिया जैना सपना अधुरा हुइ पुग्लिन् ।

कोरिया जैना सपना टुट्लेसे फेन एन्जील आजकल घरही बैठके एक व्यावसायिक कृषक बनल बाटैं । दुई बरस पहिले पत्रकारिता क्षेत्रओर आवद्ध रहल एन्जील आजकल व्यावसायिक बेम्टी खेती ओर लागल बाटैं । जानकी गाउँपालिका वडा नम्बर ५ पथरैयाके उहाँ अपने गाउँमे व्यावसायिक बेम्टी खेतीसे छोट समयमे मनग्य आम्दानी फेन कैना सफल हुइल बाटैं ।

‘मोर खास कैके विदेश (कोरिया) जाके कृषि सम्बन्धी ज्ञान हासिल कैना उद्देश्य रहे, उहे ज्ञान सीपहे स्वदेश आके व्यवहारमे लागू कैटी अपने फेन रोजगार बन्ना ओ वेरोजगार रहल युवाहुक्रनहे फेन रोजगार बनैना लक्ष्य रहे’, एन्जील कहलै– ‘मै कोरिया जाइक लाग कोरियन भाषाके कक्षा फेन लेनु, मने ओम्ने मै असफल हुइनु ।’

सपना टुटके निरास बनल एन्जीलहे का करु, का नै करु हुइल रहे । मने उहाँहे बेम्टी व्यवसायी श्रीराम कठरिया घरही बैठके फेन विदेशके बराबर पैसा कमाइ सेकजाइठ् कना डगरा डेखाइल पाछे एन्जील व्यावसायिक बेम्टी खेती ओर लागल हुइट ।

बेम्टी व्यवसायी श्रीराम कठरियाके जानकी गाउँपालिका वडा नम्बर ४ कञ्चनपुरमे एसआरके च्याउ फर्म रहल बा । उहे बेम्टी फर्ममे सञ्चालक कठरियासे करल बेम्टी खेतीके भिडियो क्लिप, फर्मके अवलोकन कैटी प्राविधिक ज्ञान हासिल करल रहिट ।

एन्जील चौधरी

‘कोरियन भाषा परीक्षामे फेल होके मै निरास बैठल रहुँ, मै सोचे नै सेकु कि मै का करु, का नै करु ? पत्रकारितासे फेन मोर आर्थिक प्रगती नाइ हुइ जस्टे लागे । आब का कैना टे कहिके सोच मे परल रहुँ’, एन्जील कहलै– ‘मने एक दिन श्रीराम कठरिया महिन् घरही बैठके कम लगानीसे फेन छोट समयमे आम्दानी करे सेकजाइठ् कहिके डगरा डेखैलै ।’

एन्जील आघे कहलै– ‘श्रीराम कठरिया महिन सम्झैलै, हेरो एन्जील टुँ विदेश ना जाउ, बरु नेपालमे बैठके छोट समयमे मनग्य आम्दानी कैना चाहटो कलेसे बेम्टी खेती करो, ओकर लाग का करे परी, कैसिक करे परी मै टुहिन ज्ञान सीप डेना तयार बटँु । यहाँसम कि टुँ लगानी करे नाइ सेक्बो कलेसे लगानीके लाग सहयोग फेन करम कहलै ।’

ओट्ठनसे एन्जील आपन मन बदलल्, ओ घरही बैठके फेन विदेशके जट्रा कमाइ सेकम कहिके जोस जाँगर आके बेम्टी खेत ओर लागल बटैलै । २०७६ भदौ महिनामे २० हजार लगानीसे सुरु करल बेम्टी खेती उहाँ परिक्षणके लाग १५० पोका किल बेम्टी डरलै । उहाँ परिक्षणके रुपमे करल बेम्टी खेतीमे सफल हुइलपाछे एन्जील थप लगानी कैटी १५ सय बेम्टीके पोका थप्लै । ओम्ने फेन एन्जील सफल हुइलै । सुरुवाते बरसमे उहाँ उत्पादन हुइल २५ कुुन्टल बेम्टी बेचके १ लाख ८० हजार खर्च कटाकुटुके ३ लाख २० हजारसम आम्दानी कैना सफल हुइलै ।

बेम्टी खेतीके अलावा एन्जील व्यावसायिक मकै खेती फेन करठै । यी बरस फेन व्यावसायिक रुपमे ठोरचे ढिउर क्षेत्रफलमे मकै खेती कैना सोच बनाइल उहाँ बटैलै ।

पत्रकारिता छोरके व्यावसायिक बेम्टी खेती ओर लागल उहाँ अब्बे कामके साथे दाम पाइलपाछे सन्तुष्ट हुइल बाटै । करिब ७ बरससम टमान मिडियामे आवद्ध होके पत्रकारिता करटी रहल उहाँ अब्बे आपनहे व्यावसायिक बेम्टी कृषकके रुपमे चिन्हल बाटैं । एन्जील ५ बरससम लम्कीस्थित रेडस्टार एफएम ओ २ बरस जत्रा काइट्स एफएममे आवद्ध रहल रहिट ।

एन्जील यी बरस फेन बेम्टी खेतीहे थप व्यवस्थित बनैटी ३ हजार पोका बेम्टी डरना लक्ष्य राखल बटैलै । उहाँ यी बरस पहिल लटके भदौ महिनामे ३ सय बेम्टीके पोका फेन डारसेकल बाटै । बेम्टी खेतीके लाग उहाँके घर परिवारके डाईबाबा, डिडीभैया सहयोग करटी रहल बाटिन । कन्ये, दुधे, डल्ले लगायतके बेम्टी उत्पादन करटी आइल एन्जील स्थानीय बजार लम्की, टीकापुर ओ गाउँघरमे विक्री वितरण करटी आइल बटैलै ।

नाउँ, काम ओ दामके मान्यता रहल एन्जीलके अब्बे नाउँ फेन बा, काम फेन ओ दाम फेन ।

बेरोजगार युवाहे सुझाव

व्यावसायिक बेम्टी खेती ओर लागल एन्जील गाउँघरमे बेरोजगार बैठल युवाहुक्रनहे घरही बैठके कौनो फेन कृषि क्षेत्र ओर लागे पर्ना सुझैठै । उहाँ प्रदेश सरकार, स्थानीय सरकार लगायत टमान संघसंस्थासे कृषिके लाग डेजैना अनुदान सहयोगसे सुवर पालन, छेगरी पालन, मच्छरी पालन कैके गाउँमे रोजगार हुइना सुुझैठै ।

अट्रेही किल नाइहोके उहाँ बेराजगार युवाहुक्रनहे रोजगार बनैना अभियानमे फेन लागल बाटै । युवा शान्ति सञ्जालके संस्थापक अध्यक्ष रहल उहाँ उहे सञ्जाल मार्फत गाउँपालिका अन्तगैत हरेक वडासे १०÷१० युवाहुक्रनहे रोजगार सम्बन्धी सूचना, तालिमबारे जानकारी कैनाके साथे टमान सीपमूलक तालिम डेके रोजगार बनैटी रहल उहाँ बटैलै । उहाँ उ अभियान मार्फत गाउँपालिका अन्तर्गत ९ वडासे प्रत्येक बरस ९० ठो बेरोजगार युवाहे रोजगार बनैना लक्ष्य लेहल बटैलै ।

यहोर कोरोना कहरसे बेरोजगार हुइ पुगल युवाहुक्रनके लाग अब्बे प्रदेश सरकार लगायत स्थानीय सरकारसे कृषि ओर बेम्टी खेती, मच्छी पालन, सुवर, मुर्गी, छेगरी पालन, टिनाटावन खेती, नगदे बालीके लाग टमान अनुदान सहयोग करटी रहल बा ।

जनाअवजको टिप्पणीहरू