थारु राष्ट्रिय दैनिक
भाषा, संस्कृति ओ समाचारमूलक पत्रिका
[ थारु सम्बत ०९ बैशाख २६४५, बिफे ]
[ वि.सं ९ बैशाख २०७८, बिहीबार ]
[ 22 Apr 2021, Thursday ]
.

दाङसे बुढान

पहुरा | १९ फाल्गुन २०७७, बुधबार
  • 105
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
    105
    Shares
दाङसे बुढान

कौनो फेन दुई चीज ठक्कर खैथा कलेसे उहिमसे कौनो दोस्रा चिजके सृष्टि हुइथा । जसिन की काठ काठम जुझा देलसे आगी बन्था पथ्रा जुझलसे फेन आगी निक्रथा और अस्तहके पानी और आगी जुझलसे बाफ निक्रथा । उह ओर्से हरेक चिजके जुझाई हन कथकी संघर्ष । चाहे जसिन फेन दुई चिजके बिच लडाइ हुइथा कलसे दोस्रा चिज निक्रथा इ सहि बात हो । हम्र कह सेक्थी कि इ का मतलब से बन्था त ? वास्तवम कना हो कलेसे इ प्रकृतिके नियम हो । प्रकृतिके चलन इह बात । बिना असिन हुइल प्रगति फेन नै हुइ स्याकत । संसार म उन्नती व हानी बिना संघर्ष कब्बु नै हुइ स्याकी ।

संसारम विभिन्न किसिमके प्राणी मध्ये मनै एक सदसे जन्ना मन्ना प्राण हो । ई प्राणीक साम्ने त झन अनेक किसिमके अदल बदल हुइना स्वाभाविक फेन हो । सक्कु जान कथ की मनै एक चेतनशील प्राणी हो । उह ओर्से याकर आवश्यकता दिन पर दिन बढती जैथस । आपन आवश्यकताके पूर्तिके लाग इ फेन अनेक संघर्ष करथा । आपन अधिकार बचाव करक लाग इ बहुत कोसिस करथा लेकिन हार जैथा तब त एक दोसर जनहन यने कमजोर हन आपन बसमे कै लेथा । इह हो मनैनके प्रवृति ।

थारुनके विषयमे जन्नासे पहिले हम्र मनैनके इतिहास जन्ना जरुरी परला बा । उह ओर्से संसारके सृष्टि ओ प्रगति कसिके हुइल मजासे बुझ दारी । मनैनके इतिहास यानके बत्कोही बहुत लम्मा बात । तर हम्र आज पहिल छोटी मोटी बत्कोही जानी और काल फे बहुतसे बहुत जान परी । आजसे बहुत वर्ष पहिले मनै जंगलम बैठके जंगली जनावर जसिन रलह । सख्वक बोक्ला खैना अथवा फलफूल खैना और बन्वम रहना करत । उह ओर्से इ जुग हन जंगली जुग फेन कथ । दोस्र मनै कति कति पशु याने जेही फेन आपन बसम लान सेक्ना, पल्ल रहना और मास खैना काम करत । जसिनके आज हम्र गोरु भैँस पालक काम लेथी, तर पहिल खाली खैना हिसाबले केल पल्ल रहँत । इ युग हन कथ पशुपालन युग । मनैन्के दिमाग परिवर्तनसिल रहलक ओर्से हुक्र एक्क किसिमके नै रह स्याकत । समय फिर्ति गैल । हुक्र देख्ल की पशुके मलम बुहत झारजंगल पलाइल, तब जत्रा फेन लाभदायक याने खैलसे फाइदा हुइना फल हो, उहीमन अनाज बुइ दँत्ल । मजासे हेर विचार फे कर लग्ल । असिन कर्ति खेती कर लाग गैल, उह ओर्से इ जुगह कृषि जुग कह भिर्ल ।

आव मनै चारो ओर घुम छोडके एक ठाउँ बैठ लागल दोन्द्रमसे निकरके झोप्री झोप्रा बनाइ लागल, और सुस्त सुस्त सभ्यता याने मजा रिती रिवाज सिख लागल । खेतबारी म्वार हो व त्वार हो कहना भावना फेन जागल । उह ओर्से मनै शक्तिशाली गुट बनाके रहना चलन सिख भिरल । इ समय रह मनैन हन आपन बचाव करक लाग भारी गुट बनैना व समाजम बाँच सेक्ना कारण की वडा गुटवालेन छोटी गुट हन असिन बना दिहन की हुकनके कुछ अधिकार नै रहन । ठीक उह समयमे सम्झौता करना चलन बनल याने आपसम मिलापत्र कर लग्ल और एक जहन गाउँके महतावा, अगहवा, बरघरिया, मुख्य कटवाल, आजके प्रधान जसिन छानके ओकर कहल अनुसार मन्ना सर्त याने नियम बनल ।

पहिले सब जनता लागके एक जहन अगहवा छानत तर पाछ उ अपन शक्ति बढाके सब किसानन् हन आपन बसमे पार लागल । अगर कुइ नै मन्लसे ओही हन कब्जा करक ते फौज बना धारल । आपन ठाउँके याने पहिल एक गाउँ के झगडा मिलायत पाछ दश गाउँके रजौता बनैल । कर्ति कर्ति सब जहन जबरजस्ती मारपिटके आपन हाँठम लान लागल । जनता गंजा हो गैल । आपसमे नै मिलके एक मनैनके हाँठम सारा अधिकार दे दरल और ओर आपसम झगडा कर लागल । वाकर नाफा एक्क मनै खाके उ बनल जिम्दरवा, हुँक्र बन्ल किसन्वा । आज उह फल हो उह कारण हो । उह ओर्से हुँक्र जिम्दरवा हम्र किसन्वाँ । हुकनक जन्नी ठकुरन्या, हमार जन्नी कमलरन्या । हुकनक छावा हजुर, हमार छावा मजदुर । हुँक्र धनी हम्र गरीब, हुँक्र बैठल बात महलम हम्र जन टुटल झोप्रीम । हुक्र सब बढिया, हम्र जुग दरिया, और कत्रा बयान कर्ना हो । आज हम्र बुझ पर्ना बहुत जरुरी बात की हमार परिस्थिति कसिन बात और कसिक हुइल हो कैक । हमार रात दिनके पसिना कहाँ बात ओ का बनल बाती ? आजके सामन्ती दुनिया म खोब विचार करो जत्रा बाती हम्र सब किसान एक जुट होखे बदला ली, जत्रा बात हमार सब नुकल शत्रुनसे । हमार समस्या और कुइ फेन नै हेरी और कुइ नै बनाइ हमन । हम्र आपन अधिकार लिहक लाग हाँठ जोरके हजुर कैके नै पाइ स्यकबी बल्की एक जुट होके हाँठ उठाके जबरजस्ती लीह स्याक पर्ना बात ।

नेपालके मुख्य किसान जातिमध्ये थारुके घना बस्ती बा । उह ओर्से थारुनके इतिहास जत्रा हमार साम्ने जरुरी काम निकर गैल बात । हुइना त मजा विचार हुइल मनै की संसार म याने दुनिया म जत्रा मनै बाती ऊ मध्ये केवल दुइ जाति थारु (पुरुष) व जन्नी (महिला) तर आजसे पहिल जनतनके विचम फुट पारक लाग फटहा मनै लुटक लाग व बलगर गुट हन टुर फार पारक लाग मनैन कैयो बात मन बात देल रह । नै त कना हो कलसे मनै मनै सब जना के शरीर मन सुन भरल बात और बराबर शरीर के बनावट फेन बात । दोस्रा बात रहल धर्म भगवान, भूत्वा, देउँता और देवी मन्ना चलन फेन इह मावन समाज म चलल रिति रिवाज हो । तर इ चलन आज नै शुरु हुइल हो, करौडौँ वर्ष याने मानव चेतनशील हुइल समयसे इ चिज फेन शुरु हो गैल । इह धर्म हो जो मनैनहन आपसे मन फुट फाट पारक छोरल बात । और और जात जाति, निच उँच के भावना जगा दिहल बात । हम्र हेरी त पैवी की इ चिज सामन्ती फटहन के बच्ना एक आधार बनैलक हो । जब मनै घर बनाके खेतीपाती ह्यार लागल तबसे, देउता, भुत्वा, भगवानके चल्ती चलल । इ समय से पहिल समाजम असिन नै रह । का कर की दिन, जोन्या, हावा, पानी व धर्ति हुन हम्र भगवान मन्थी, इ का कर मन्थी और पहिले मनै कसिक मान भीरल कलसे इ सब चिजक लाग कुछ फाइदा ओ नोकसान करलक ओर्से ।

सूर्य याने दिन हन, हम्र पूजा कर्थी और चन्द्र हन फेन तर का कर मन्थी कलसे दिन हमन घाम दिहत और चन्द्र हम्रहीन रातके ओजार देथा । हावा बिना हमार कौनो काम नै चलत । हावा नै हुइलेसे हम्र साँस फ्यार नै स्यकती और पानी बिना फेन हमार गुजारा नै चलत । उह ओर्से हम्रहिन सब चिज हन लाभ कर्ना ओर्से पूजा कर्थी तर देउँताके रुपम या भगवानके नाम देना गलत विचार हो । हम्र मान पर्थी कि इ सब चिज प्रकृतिके आधार से बनल हो कैक । प्रकृति माने कौने फेन अप्न बनलक चिज हो ।

कौनो फटहन कथ की थारु जात गोरु, भैँस पल्ना जंगलके नजिक रहना । उह ओर्से कैलाली, कञ्चनपुर, बाँके, बर्दिया गैलक हइत कैक । तर कना हो कलसे कौनो फेन मनैन अपन जन्मलक ठाउँसे प्रेम रथा । थारु किसान फेन आपन जर्मलक ठाउँ छोरके जाए बेर कथ की ‘इहरी अँगनवाँम खेलली व हँसली रे हाँ, इहरी अँगनवा छोरती मैयाँ लाग ।’

राम भगवान मानके स्वर्ग मिल्था कना विचार झन गलत हो । इ त एक कल्पना हो । राम नाम लिखकन एकथो लेखक कल्पना करल औ राम हन शक्तिशाली बना दिहल, दोसर ओर रावण हन दुष्ट बना दिहल । मतलब का हो कलसे मजा मनैन्के प्रतिनिधि राम बना दिहल और खराब नितिके प्रतिनिधि रावण हन बना दिहल । थौन्यार ठाउँ हन स्वर्ग ओ नैमजा ठाउँ हन नर्क कथ कैके मान्यता जना दिहल । तर हम्र जान पर्था की नर्क ओ स्वर्ग कौनो दोस्रा ठाउँम नै हो बल्की यह संसारम बात कैक । जहाँ सामन्ती सम्राज्यवादी, पूँजीवादी, उपनिवेशवादी, विस्तारवादी शोषक याने जनतनके शत्रु नष्ट होगैल बात, उह ठाउँ होख स्वर्ग, जहाँ बहुत अन्याय, अत्याचार, भ्रष्टाचार ओ शोषणके उन्मूलन नै हुइल हो, उह ठाउँ हो नर्क । माटीक भूत पूजके सुख कब्बु नै मिल स्याकत । इ त खास सामन्ती प्रवृति हो और फटहनके चलाइल चलन हो । का कर असिन चलन चलैल त ? एक जुट हुइना जनतन हन भूलाइक लाग । ऐसिन नै कलेसे त जनता याने गरीब वर्ग धनी वर्ग हन पाप धर्म व स्वर्ग नर्कक कुछ वास्ता नैकैके अपन पसिना कुही शोषण कर नै दिहुइया हुइल । उह कारणले आज हमार समाज बहुत शोषित हुइल बात ।

कौनो फेन समाजम कुछ संघर्ष हुइथा कलेसे दुई वर्गके विचम शोषित व शोषक । इ दुई बगालके विचम कब्बु फेन सल्ला नै बनतीन । का कर की शोषक याने धनि बगाल हो । धनि बगाल हर समय गरीबहन चुस्ना काम करथा । गरीब बगाल हर समय, रात दिन श्रम करथा तर ओकर पसिना मुठ्ठीभर धनि वर्ग लुट लेथा । उह ओर्से शोषण करुइया जमिन्दार बहुत धनी रथा दोसर ओर गरीब हुक्र याने कि किसान बगाल आपन कमाही खाए नै पाके अर्थात चुस्वा पैलक ओर्से टुटल झोप्री मन बैठल बात । जब की धनी भारी घर बनाए स्यकथ तर भाग्यवादके नारा लगाके अन्धविश्वास फैलाके जनतन अल्मलैना जुक्ति फेन सामन्तीन कर्ल रथ । इह रोग आज हमार दंगाली थारु किसान उपर फेन फ्याला पार स्याकल बात । आजसे चार पाँच वर्षे पहिलसे हमार दाङके किसान अनगिन्ती संख्या लेक बसाइ सर्ल । इ का मतलबसे हुइल ? इ कसिके हुइल ? याकर विषय म हम्र जन्ना बुझना कब्बु कोसीस कर्ल बाती त ? तर वास्तवमा कना हो कलेसे इ चिज फेन हमार साम्ने एकथो जरुरी प्रश्न हो गैल बात । अगर असिन समस्याके विषयम हम्र कुछ कह नै सेक्बी कलेसे भविष्यम और नै मजा रुप लीह स्याकी ।

थारु जाति हर समय थाह्रे काम कर्ना हुइल ओर्से थारु जाति नाम परल हो । ओ आज फेन इ जात हरेक काम स्वाझ याने थाह्र कर्थ । उह अ‍ोर्से आब फेन अप्न गैल । बुह्रान देश कैक फेन कौनो सामन्ती विचार हुइल मनै कथ तर वास्तवम कना हो कलसे दाङके थारु किसान, सामन्ती जिम्दारनसे सतावा पाके बसाइ सरलक हुइत कना चिज हम्र बुझ स्याक पर्ना बात ।

२१ साल से दाङमे भूमि सुधार लागु हुइल । मोहीयानी हक सुरक्षित रहना और जग्गाधनीके साम्ने फेन हदबन्दीके नियम खडा हुइल, तर किसान के साम्ने झन जटिल समस्या निक्रल । बढी जमिन याने हद से उपर जमिन बिक्री हुइ लागल तर उ जमिन मध्यमवर्गीय ओर दोस्रा ठाउँके याने प्यूठान, सल्यान, रुकूम, रोल्पाके धनी वर्ग हुँक्र केल जमिन खरेदल । आब दाङके एक किसान दशथोर जग्गा व्यक्तिहन आपन श्रमले पल्ना हुइल । जबकी पहिल एक्क जमिन्दार हन पालत रह । गरीब किसानन्के हाँठम कब्बु फेन पैसा नै रहत, इ सबजे जानल बात हो । मोही हक के कुछ मान्यता नै रहल । सर्तम अदल बदल हुइल । पोताहा, पचकुर के ठाउँम अध्या तीन कुर कैके जमिन्दार हुँक्र बाली रोक्का कर लागल । और जबरजस्ती अध्यामन सही कराइ लागल । सोझा साझा बल्की किसान हुँक्र आपन सहि अधिकार लेहक लाग अनेक उपाय कर्ल तर कुछ सीप नै लगलीन । उदाहरणके लाग दाङम हम्र आँखी साम्ने फेन देख्ली कि एक सरकारी कर्मचारी जाके फेन किसान उपर लाठीचार्ज कैक तीनकुर मन हस्ताक्षर कराईल । जबरजस्ती कर्लसे खै दाङके थारु किसानहे मुद्धा जितैलक ?

सरकार किसानके भलाई करक लाग कबु मजा काम कै राखल त अथवा हमार किसान जग्गा पैल बात त वा कहोरे वा कौनो गाउँक किसान कुछ लाभ भेटल बात त ? नही, कुछ नही । याकर बदला लुटमार सहल बात । आज हमार सब किसान केवल दाङके केल नाही बल्की सारा ठाउँके । अस्तहँ हम्र और गाउँके उदाहरण पैथी, जहाँ किसानके अधिकार जबरजस्ती हनन कैल बात । किसान हुँक्र लगाइल जमिन फेन कष्टके आपन घर खेती कैक दुःख दीह लागल किसानन हन । ठीक २०२२ साल से दाङम बचत उठल ओ सुखा फेन कर लागल । बतैया से फेन किसानके जत्रा बँचल अन्न घरम रह नै पाके धर्म भकारी मन जैना होगैल तर किसानन् मूख्य बाली दिलैना कागत भूमि सुधारसे गाउँ पञ्चायत घर सम्म केल पुगल, नकी हरेक किसानन्के समस्या ह्यारल । इ त बहुत अन्याय हुइल कना असर हमार थारु किसान उपर गैल । हुइ हुइना त कौनो फटहन कथ की थारु जात गोरु, भैँस पल्ना जंगलके नजिक रहना, उह ओर्से कैलाली, कञ्चनपुर, बाँके, बर्दिया गैलक हइत कैक । तर कना हो कलसे कौनो फेन मनैन अपन जन्मलक ठाउँसे प्रेम रथा । थारु किसान फेन आपन जर्मलक ठाउँ छोरके जाए बेर कथ कीः

इहरी अँगनवाँम खेलली व हँसली रे हाँ,
इहरी अँगनवा छोरती मैयाँ लाग

एकथो थारु किसान आपन जन्म भूमिसे कत्रा गहीर प्रेम कर्था कना बात हम्र इहाँ जन सेक्ली । तर आज किसानके समस्या अत्रा भारी रुप लेले खडा हुइ बात ज्याकर लाग कुइ फेन सहायता करना तैयार नै हुइथो । हुइना त किसान हुँक्र बुझ पर्ना हो की कुकुर व बौलार के सल्ला कब्बु नै वन स्याकी कैक  । हमार साम्ने फेन किसान व सामन्ती के बीचम कबु नै मजा सल्ला बन स्याकी । का कर की जमिन्दार त हर समय किसानके पसिना चुसके मोटाए खोज्ठ तबह म्र हेरी फेन कसीके सल्ला बनी त ? किसानके भलाइ किसान बाहेक और कुइ फेन नै कर स्याकी । किसानके भलाई तब हुइ स्याकी जब सक्कु किसान एकजुट होके आपन अधिकार जबरजस्ती लीह स्याकब । हजुर कैक मिलना हुइलसे त पहिलेसे मिल जैने रह । तर खै आज झन किसान दुःख पैल बात ।

अन्जान म परल किसान कह स्यकथ की बुह्रान गैलसे बहुत मजा हुइथ कैक । तर जौन शोषक इहा बात, का उ ठाउँम म शोषक नै हुइही त ? का कर की आज हमार किसान अन्जानम परके थोरथार हुइल घरबारी फेन हजम पारक सुखके खोजमे बुह्रान चलल् बात । किसान हुँक्र सपना देख्थ की बुह्रान एक असिन ठाउँ हो की, जहाँ किसान– किसान हुइही कैक । इ बात वस्तावम ना समझदारी हो हेरी । और मजासे सुनी और चारी ओर घुमी मजासे । के जान कसिन अन्याय, अत्याचार, भ्रष्टाचार काम आज बर्दिया, बाँके, कैलाली, कञ्चनपुर और हरेक जिल्ला मन हुइ लागल बात । हुइना त किसानन् के भलाई कर्ना आवाज, सबजे बोल्थ तर उ मनै किसानसे जंगली व्यवहार और. काम कैक किसानन दुख देना फेन बात । बर्दिया जिल्ला म घर जरैना, घर उजाडके किसानन् हन बिना कसुर मरना पिटना त हुक्रनके साधारण काम हुइल बातीन । नै हुइल से गोली चलैना, हाथी लैजाके हुइलसे फेन घर नष्ट कर्ना आजके स्थानीय सरकारके मुख्य काम बातीन कलसे कब किसान के भलाई हुइ बुह्रान जिल्ला ओर फेन । इहओर्से बुझी की कबु फेन किसान के भलाई दोसर जहनके हाँठसे नै हो सेकी । हम्र देख्थी की दाङसे बुह्रान जैना किसान उपर दगरीम एकथो चौकी फेन कत्रा फटाही काम करथा और अनाहकम दण्ड लेक चार छ महिना दिन रोक दिहत । असिनसे कसिन सतावा पैलक हुइती हमार थारु किसान । दंगाली जिमदारनसे सतावा पैना । केवल एक ठाउँके पूँजीपतिन किसानन हमन बिग्राइल नै हुइत, बल्की चारी और फेकल बात खट्टे मक उरुस जसिन चुसक लग हमार रगत ओ पसिना ।

आबसे हम्र कौनो फेन जात पात फरक परना विचार हन हटाके चाहे जे हुइलेसे फेन किसान वर्गभर एक्क हुइती कना जान परल बात । जे आपन हाँठसे काम कर्था हउ हो किसान । आनक भरले खेती कर्ना मनै त शोषक हो, महा भारी शत्रु हो, जनतन ओही हन किसान कना भारी भूल हो । आनक भर खेती कर्ना याने और जान पसीना चुहैना मै खेतीहार हुइतु कथा कलेसे ऊ त झन हमार भित्रक शत्रु हो । तर हर तरहसे किसानके पक्ष म समर्थन कैक किसानके भलाई कर्था कलसे हम्र मित्र मान सेकथी । हर जोतुइया केल हमार मित्र हुइत कना फेन नासमझदारी हो । वास्तवम संसार भरके खेती कर्ना मनै भर त किसान हुइत । हेरी आज हम्र किसान बाती । काल कसिन बन्था हमार स्थिति तर एकजुट हुइ, दुनियाँ भरके जत्रा बाती तर तर पसिना चुहुइया किसान । जय गोचाली परिवार ।

(साभारः गोचाली २०२८)

  • 105
    Shares

जनाअवजको टिप्पणीहरू