थारु राष्ट्रिय दैनिक
भाषा, संस्कृति ओ समाचारमूलक पत्रिका
[ थारु सम्बत ०९ बैशाख २६४५, बिफे ]
[ वि.सं ९ बैशाख २०७८, बिहीबार ]
[ 22 Apr 2021, Thursday ]
.
‘ गीत ’

आइल होरि

पहुरा | १४ चैत्र २०७७, शनिबार
  • 30
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
    30
    Shares
आइल होरि

खुसियाके होरि हो बौछार
लाल पियर गुलाबि चारुओर
रंगले सबओर रंगिन जोर ।

पिचकारि भर भर अबिर रंग
खेलब होरि होक चारु भाइ डंग ।
हर मुहँम् बा आब अइसिन हाल
आझ पहारमे टो तराइमे काल्ह ।

होरिके बहानाम संघरिया सब आइ
रिस राग हटाके डुस्मनहे चलि मनाइ ।
आइल होरि हो..आइल ।

दंगीशरण–४, दाङ

  • 30
    Shares

जनाअवजको टिप्पणीहरू