थारु राष्ट्रिय दैनिक
भाषा, संस्कृति ओ समाचारमूलक पत्रिका
[ थारु सम्बत २३ अगहन २६४६, शुक्कर ]
[ वि.सं २३ मंसिर २०७९, शुक्रबार ]
[ 09 Dec 2022, Friday ]

विपतपुरवासीहे आर्थिक सहयोग

पहुरा | १९ बैशाख २०७९, सोमबार
विपतपुरवासीहे आर्थिक सहयोग

पहुरा समाचारदाता
धनगढी, १९ वैशाख ।
कैलालीके कैलारी गाउँपालिका वडा नम्बर ७ विपतपुर मुक्तकमैया शिविरके आगलागी पीडितहे सहयोग संकलन करजैटी बा ।

धनगढी उपमहानरपालिका वडा नम्बर ५ जाइँके स्थानीयसे घरघरसे संकलन करल खाद्य सामग्री सहयोग कैना हुइल हुइट । वडा नम्बर ५ जाइँके भल्मन्सा कुलवीर चौधरीके अनुसार जाइँके एक सय ६० परिवारसे चाउर, तेल, नुन, दाल लगायतके खाद्य सामग्री संकलन करल बटैलै । संकलन करल सामग्री विपतपुरके भल्मन्सा हिँगुराम चौधरीहे हस्तान्तरण कैना हुइल बा ।

विपतपुरमे वैशाख ११ गते दिनके आगलागी होके ७१ घरधुरीसे बनाइल घर, घारी पूर्णरुपमे जरके नष्ट हुइल बा । एक्कासी हुइल आगलागीसे स्थानीयवासीके लत्ताकपडा, खाद्यान्न, चौपाया जरके नष्ट हुइल बा ।

ओस्टेक करके कैलारी गाउँपालिका वडा नं. ७ विपतपुरके अग्नी पीडित परिवारहे दक्षिण कोरियासे संकलन प्राप्त रकमसे राहत सामग्री वितरण करल बा । आगलागीसे पीडित बनल ७१ घरपरिवारहे राहत सामग्री वितरण करल हो ।

टमान शिलशिलामे दक्षिण कोरियामे रहल लउण्डा लण्डीसे संकलन हुके प्राप्त हुइल रकमसे पीडित प्रतिपरिवारहे चाउर, दाल, नोन, तेल, कपडा, साबुन, सोडा, पन्यु, टोप करके १ लाख ६० हजार बराबरके सामन वितरण करल बा ।

टमान शिलशिलामे अपन परिवार ओ अपनेफे विदेशमे रहल बेला यी क्षेत्रमे परल विपत्तिमे मानवियता राखके सहयोग करटी आइल ओ अब्बे दक्षिण कोरियामे रहल संघरीयासे उ सहायता रकम संकलन करके अग्नी पीडित परिवारहे सहयोग करल जानकी गाउँपालिका वडा नं. ३ सुर्वणपुरके समाजसेवी तथा वैदेशिक रोजगार परिवारके सदस्य बिन्तीराम चौधरी बटैलै ।

उहाँ मानवियताके भावना राखके सहयोग सक्कु जे कैना आवश्यक रहल बटैलै । सक्कु सेक्ना सहयोग करलेसे विपत्तिमे परल नागरिकहे भारी राहत हुइना ओरसे सक्कु जे सेक्ना सहयोग कैना आग्रह करलै ।

राहत वितरण कार्यक्रममे पत्रकार रतनलाल चौधरीसे सहायता रकम विपत्तिके बेला राहत केल नइहुके उर्जा ठप्न हुइल ओरसे राहतहे स्वीकार करके अइना दिनमे सबल हुके अग्रसर हुइना आग्रह करलै ।

वैशाख ११ गते दुपहर बस्तीमे आगलागी हुके आगलागीसे बस्तीके २७ घर पूर्ण रुपमे, १२ घर आंशिक ओ ३२ घरमे सामान्य क्षति हुइल रहे । कलेसे पशु चौपाया, कृषि मेसेनरी सामान जरके नष्ट हुइल रहे ।

जनाअवजको टिप्पणीहरू