थारु राष्ट्रिय दैनिक
भाषा, संस्कृति ओ समाचारमूलक पत्रिका
[ थारु सम्बत १३ कुँवार २६४६, बिफे ]
[ वि.सं १३ आश्विन २०७९, बिहीबार ]
[ 29 Sep 2022, Thursday ]

कैलालीमे ओलीके काहे फिरल बोली ? ‘रेशमहे झुठा मुद्दामे फसागैल’

पहुरा | २२ बैशाख २०७९, बिहीबार
कैलालीमे ओलीके काहे फिरल बोली ? ‘रेशमहे झुठा मुद्दामे फसागैल’

पहुरा समाचारदाता
धनगढी, २२ वैशाख ।
कैलालीके टीकापुर घटना तथा थरुहट आन्दोलनबारे कौनो बाट सुने नैचाहना नेकपा एमालेके अध्यक्ष केपी शर्मा ओली बोली फेरले बटैं ।

नेकपा अध्यक्ष ओली २०७७ पुस २४ गते धनगढीमे आयोजित जनसभामे टीकापुर घटनाहे आपराधिक घटनाके संज्ञा डेटि समाधान नैकरना अभिव्यक्ति डेले रहैं ।

ओहेबेलक बहालवाला प्रधानमन्त्रीसमेत रहल उहाँ कले रहैं, “यहाँ जातजातके बीचमे मारामारके अवस्था नन्लैं । टीकापुर काण्ड टमान ढंगसे रचना करगिल । मनैन्हे उस्काके जनताके बीचमे कोइ थारुके नारा, कोइ पहाडियाके नारा लगाइल । जनता–जनतामे विभाजन नाने खोजगिल । अभिन कुछ थारु नेता जेलमे बटैं । कोइ वारेन्ट हुइ । पहिले अदालती प्रक्रियामे गैल ओरसे, पहिले असहज बाटमे फसलहे किनारे नैलगाके कानूनी हिसाबसे कुछ करे नैसेक्जाइ ।”

थरुहट मुद्दाप्रति एकडम कडा रूपमे प्रस्तुत हुइटि रहल ओली हाल आसन्न स्थानीय तह निर्वाचनके मुखमे आके भर, एकफाले बोली फेरले बटैं ।

बिफके रोज कैलालीके बौनियामे आयोजित चुनावी सभाहे सम्बोधन करटि उहाँ रेशम चौधरीहे जेल डारेपरना कौनो कारण नैरहल बटैले बटैं ।

ओली कलैं, “यी कैलालीमे टीकापुर घटना हुइल । उ घटनाले यहाँक थारु नेताहुक्रे अभिनसम जेलमे बटैं । रेशम चौधरी ओ थारु नेताहुकनहे जेल डारेपरना कौनो कारण नैहो । थारु नेताहुकनउप्पर सरकारले झुडा मुद्दा लगाके थुन्ले बा ।”

चुनावके मुखमे बोली फेरल ओली उल्टे सत्तारुढ गठबन्धनहे भोटके राजनीति करल आरोप लगैलैं । १० महिना हुइलेसे फेन कौनो समस्या समाधान नैहुइल उहाँक तर्क बा ।

ओस्टेक, अध्यक्ष ओली गठबन्धनके काम मिलीजुलके खैना बाहेक और कुछ नैरहल आरोप लगैले बटैं । उहाँ नाटपाट, गैगोटियारहे भर्ना करना किल गठबन्धन बनल बटैलैं ।

यी सरकार संविधान विपरित बनल कारण गठबन्धन सरकारहे बिदाई करेपरना उहाँ बटैलैं । अब्बे ओहे गठबन्धन ओ एमालेबीचके लराइ रहल ओरे एमालेहे मत डेना ओली करलैं । उहाँ देशमे विकास करना हो कलेसे एमालेहे विजयी कराइपरना बटैलैं ।

जनाअवजको टिप्पणीहरू