थारु राष्ट्रिय दैनिक
भाषा, संस्कृति ओ समाचारमूलक पत्रिका
[ थारु सम्बत १३ कुँवार २६४६, बिफे ]
[ वि.सं १३ आश्विन २०७९, बिहीबार ]
[ 29 Sep 2022, Thursday ]

सामाजिक कुरीतिहे न्यूनीकरणके लाग निरोधनात्मक ओ प्रवद्र्धनात्मक काम करेपरना

पहुरा | ५ आश्विन २०७९, बुधबार
सामाजिक कुरीतिहे न्यूनीकरणके लाग निरोधनात्मक ओ प्रवद्र्धनात्मक काम करेपरना

पहुरा समाचारदाता
धनगढी, ५ कुँवार ।
सुदूरपश्चिम प्रदेशके प्रमुख सचिव नारायणप्रसाद शर्मा दुवाडी सामाजिक कुरीतिहे न्यूनीकरणके लाग निरोधनात्मक ओ प्रवद्र्धनात्मक काम करेपरना बटैले बटैं ।

राष्ट्रिय मानव अधिकार आयोग सुदूरपश्चिम प्रदेश कार्यालयके आयोजनाममे बुधके रोज धनगढीमे हुइल सामाजिक कुरीति विरुद्ध छलफलके साथे आर्थिक वर्ष २०७८/०७९ के सुदूरपश्चिम प्रदेशके मानव अधिकारके अवस्था ओ आयोगके गतिविधि विमोचन करटि प्रमुख सचिव दुवाडी समाजमे रहल संस्कारके वैज्ञानिक व्याख्या नैकरे सेकल ओरसे विकृति बह्रल बटैलैं ।

उहाँ मानव अधिकारके घटना कम करेक लाग समाजहे दिगो रूपमे आर्थिक, सामाजिक सवल बनाइपरनामे जोड डेलैं । “संविधानमे रहल हक अधिकारके कार्यान्वयन करे परठ,” उहाँ कलैं, “हुइना टे कानूनमे डेहल हक अधिकार कार्यान्वयन करना चुनौति बा । मने, हक प्राप्तिके लाग प्रयास भर करे परल ।” उहाँ मानव अधिकारके सवालमे नागरिकके हक अधिकार लागू करनामे सरकारके साथसाथे सरोकारवाला फेन सक्षम हुइपरना बटैलैं ।

कार्यक्रममे कैलाली प्रमुख जिल्ला अधिकारी किरण थापा समाजमे रहल कूरीति एकफाले परिवर्तन नैहुइना हुइल ओरसे यिहिनहे सुधार करटि आघे बह्रेपरना बटैलैं । उहाँ कलैं, “सामाजिक संस्कारमे का कमिकमजोरी बा, उहिनहे सुधार कैके परिवर्तन करना आवश्यक बा ।” उहाँ समाज सुधारके लाग सरकारके सँगे सक्कु निकाय जिम्मेवार होके लागे परना बटैलैं ।

ओस्टेके, कार्यक्रममे राष्ट्रिय मानव अधिकार आयोग सुदूरपश्चिम प्रदेशके कार्यालय प्रमुख मोहनदेव जोशी आयोगके गतिविधिबारे जानकारी करैटि सुदूरपश्चिममे स्वास्थ्य, शिक्षा, रोजगारीके समस्या ढेर रहल बटैलैं । उहाँ महिला हिंसा ओ बालहिंसाके न्यूनीकरणके लाग प्रदेश सरकार कार्यक्रम तथा नीति बनाके काम करेपरना सुझाव डेले रहैं । उहाँक आर्थिक वर्ष २०७८/०७९ मे आयोग सुदूरपश्चिम कार्यालयमे ६५ ठो उजुरी कारवाहीके प्रकृयामे रहल जानकारी करैलैं । ओम्ने ६२ ठो परामर्श ओ सुझाव डेहल, ५३ ठो मुद्दा अनुसन्धान सम्पन्न, ४५ ठो मुद्दा निर्णयके लाग केन्द्रीय कार्यालय पठाइल ओ २४ ठो मुद्दा अनुगमन करल जानकारी करैलैं ।

कार्यक्रममे अनौपचारिक क्षेत्र सेवा केन्द्र (इन्सेक) के सुदूरपश्चिम प्रदेश संयोजक खडकराज जोशी प्रदेशमे मानव अधिकारके अवस्थाबारे जानकारी करैटि तुलनात्मक रूपमे जिहिहे संरक्षणके ढेर आवश्यकता बा उहिहे प्राथमिकतामे ढैके काम करे परना बटैलैं । उहाँ सरकारसे नीति तथा कार्यक्रम बनाइबेर आम नागरिक डेख्ना ओ महसुस करना मेरिक कार्यान्वयन हुइपरना बटैलैं । अधिकारकर्मी चित्रा पनेरू सामाजिक कुरीतिहे कम करेक लाग वृहत छलफलके आवश्यकता रहल बटैलि ।

ओस्टेके, कार्यक्रममे दलित अधिकारकर्मी सावित्रा घिमिरे समाजमे विभेदके स्वरूप परिवर्तन हुइल बटैलि । कार्यक्रममे नेपाल पत्रकार महासंघ सुदूरपश्चिम प्रदेशके सचिव हरि जोशी, नेपाल पत्रकार महासंघ कैलाली जिल्ला पूर्व अध्यक्ष जगत साउँद, पत्रकार भोजराज जोशी, नारायण अवस्थी, समिर भट्ट, दलबहादुर घर्तीमगर, लोकमान धामी, डीएसपी भरतबहादुर चौधरीलगायत मन्तव्य व्यक्त करले रहैं ।

राष्ट्रिय मानव अधिकार आयोग सुदूरपश्चिम प्रदेशके कार्यालय प्रमुख मोहनदेव जोशीके अध्यक्षतामे हुइल कार्यक्रमके सञ्चालन मानव अधिकार अधिकृत गणेशराज जोशी करले रहैं ।

जनाअवजको टिप्पणीहरू