थारु राष्ट्रिय दैनिक
भाषा, संस्कृति ओ समाचारमूलक पत्रिका
[ थारु सम्बत १६ फागुन २६४७, बुध ]
[ वि.सं १६ फाल्गुन २०८०, बुधबार ]
[ 28 Feb 2024, Wednesday ]

‘ऐन कार्यन्वयन नइकैना दलित समुदायके अपमान हो’

पहुरा | २२ माघ २०८०, सोमबार
‘ऐन कार्यन्वयन नइकैना दलित समुदायके अपमान हो’

पहुरा समाचाचरदाता
धनगढी, २२ माघ ।
ऐन बनल दुई वर्षसमफे सरकारसे कार्यान्वयनके चरणमे नइलैजैना कहलक यी प्रदेशके दलित समुदायके अपमान करल एक कार्यक्रमके सहभागीहुक्रे बटैले बटै । अँटवारके रोज धनगढीमे आयोजित सुदूरपश्चिम प्रदेशके प्रथम आवधिक योजना कार्यान्वयन ओ अइना आर्थिक वर्ष २०८१/०८२ के बजेटमे दलित तथा दलित महिलाके सरोकार तथा सुझाव विषयक अन्तरक्रिया कार्यक्रमके सहभागी ओसिन बत्वाइल रहिट ।

कार्यक्रममे छत्र टेलर कहलै, ऐन बनल दुई वर्षसमफे सरकार कार्यान्वयनके चरणमे गैल नइहो, यी प्रदेशके दलित समुदायके अपमान हो ।’ उहाँ सरकारके मन्त्री गैरजिम्मेवार हुके ऐन कार्यान्वयनम समस्या हुइल बटैलै । कार्यक्रममे जाईबेर मिठ भाषण कैना मने दलित समुदायहे उप्पर नाने नइचहना मन्त्रीके नीति रहल यिहीसे प्रस्ट बुझे सेक्जाई, टेलर कहलै ।

धनगढी उप महानगरपालिकाके कार्यापालिका सदस्य चक्र नेपाली सुदूरपश्चिम प्रदेशमे खस आर्यपाछे ढेर जनसंख्या दलित समुदायके रहल हुइलसेफे प्रदेश सरकारसे बजेट तथा कार्यक्रममे दलित समुदायहे उपेक्षा करटी आइल बटैलै । प्रदेश दलित सशक्तिकरण ऐनमे प्रदेशस्तरमे केल नइहुके स्थानीय तहमे फे समिति निर्माण कैना प्रस्तावना रहल हुइलसेफे सरकारसे हालसम स्थानीय तहहे समिति गठनके लाग परिपत्र समेत नइकरल उहाँ बटैलै ।

सुदूरपश्चिम प्रदेश सरकारके कायम मुकायम प्रमुख सचिव डा. हरी लम्साल जनप्रतिनिधिसे प्रदेश सभासे ऐन निर्माण करलपाछे उ ऐन कार्यान्वयन कैना दायित्व कर्मचारीकेफे हुइना करल बटैलै ।

मने राजनीतिक नेतृत्व तत्पर नइहुके कर्मचारीसे केल ऐन कार्यान्वयन करे नइसेक्ना कामु सचिव लम्साल बटैलै । ‘कर्मचारीके ओरसे ऐन कार्यान्वयन कैना आवश्यक छलफल कैना मै सहजिकरण करे सेकम’ सचिव लम्साल कहलै, ‘मने राजनीतिक नेतृत्वहे जिम्मेवार बनैना हम्रे सक्कु जाने लागे परल, टबमारे ऐन कार्यान्वयनके लाग राजनीतिक नेतृत्वहे जिम्मेवार बनैना संघ संस्थासेफे दवाव डेना आवश्यक बा ।’

सुदूरपश्चिम प्रदेश नीति तथा योजना आयोगके सदस्य प्रा. डा जगतबहादुर सिंह रावलसे प्रदेश सरकारके पहिल पञ्चवर्षिय योजना ढिला करके केल योजना आयोगके जिम्मामे आइल कहटी उ योजनाहे प्रभावकारी बनाई नइसेकल बटैलै ।

धनगढी उप महानगरपालिकाके उप प्रमुख कन्दकला राना उप महानगरपालिकासे दलित तथा सिमान्तकृत समुदायहे पहिल प्राथमिकतामे धाररके काम करटी रहल दावि करली ।

कैलारी गाउँपालिकाके उपाध्यक्ष भगवतीक्ुमारी चौधरी अपनेहुक्रे दलित समुदायके हकअधिकार सुनिश्चित करेक टमान कार्यक्रम लागु करल बटैली । उहाँ कहली, ‘गाउँपालिकासे भेदभाव, छुवाछुट मुक्त पालिका घोषणा करले बा । ओसिन विभेदके घटना कैलारीमे अभिनसम नइहुइलफे बटैली ।

एफ.जे.एसके सहयोग तथा दलित महिला संघ (फेडो)के आयोजनामे हुइल कार्यक्रम फेडोके सचिव अम्बिका ताम्राकार ले सञ्चालन करल रहिट कलेसे अध्यक्ष सविना सुनारके अध्यक्षतामे हुइल कार्यक्रममे सामाजिक अभियानता मोहन सुनार आवधिक योजनामे रहल व्यवस्था तथा अइना आर्थिक वर्षमे दलित तथा दलित महिलाक क्षेत्रमे कैसिक काम करे सेक्जाई कना विषयमे तयार पारल कार्यपत्र प्रस्तुत करल रहिट ।

जनाअवजको टिप्पणीहरू