थारु राष्ट्रिय दैनिक
भाषा, संस्कृति ओ समाचारमूलक पत्रिका
[ थारु सम्बत ०२ सावन २६४८, बुध ]
[ वि.सं २ श्रावण २०८१, बुधबार ]
[ 17 Jul 2024, Wednesday ]
‘ धनगढी ओ गोदावरीमे गैरपरम्परागत क्षेत्रमा महिला उद्यमशीलता विकास परियोजना लागु ’

१२० जाने महिलाहे उद्यमी बनैना

पहुरा | २२ असार २०८१, शनिबार
१२० जाने महिलाहे उद्यमी बनैना

पहुरा समाचारदाता
धनगढी, २२ असार ।
कैलाली जिल्लाके दुई स्थानीय तहके १२० जाने महिलाहे उद्यमी बनाइक लाग सहयोग मुक्तकमैया महिला विकास मञ्च जनैले बा ।

धनगढी उपमहानगरपालिका ओ गोदावरी नगरपालिकामे एफ.सि.ए. फिनल्यान्ड महिला बिकास बैंकके आर्थिक सहगोगमे सन २०२४ जुलाई २०२६ डिसेम्बरसम ‘गैर–परम्परागत क्षेत्रमा महिला उद्यमशीलता विकास परियोजना’ लागु करटी आर्थिक रुपमे विपन्न, मुतm कमैया, कमलहरी, अपाङता हुइल व्यक्ति, दलित तथा अन्य सीमान्कृत समुदायह्कनके १२० जाने महिलाहे उद्यमी बनाइक लाग सहयोग मुक्तकमैया महिला विकास मञ्चके कार्यक्रम संयोजक इन्द्र चौधरी बटैलै ।

शुकके रोज धनगढी उपमहानगरपालिकाके नगर उप–प्रमुख कन्दकला राना, वडा अध्यक्षह्ुक्रे, कार्यपालिका सदस्य, टमान शाखाके प्रमुखहुकनके सहभागितामे परियोजना संचालनबारे छलफल करटी उहाँ धनगढी उपमहानगरपालिकाके ६० ओ गोदावरी नगरपालिकाके ६० जाने करके १२० जहनहे गैह परम्परागत क्षेत्रमे महिला उद्यमसिलताके बिकासमे सपोट कैना कार्यक्रम संयोजक चौधरी बटैलै । उहाँ कहलै, ‘परियोजनासे ८० प्रतिशत महिलाहे अनिवार्य समेटना कहल बा । ओम्नेसे २० प्रतिशत पुरुषफे आइसेक्ही ।’

परियोजना अन्र्तगत बजारसंग पहँुच वृद्धि कैना ओ बल्गर सम्बन्ध स्थापना कैना गैह् परम्परागत क्षेत्रमे नीजि क्षेत्रके सहभागिता अभिवृद्धि कैना, बजार मुल्याङकन ओ गैरपरम्परागत क्षेत्रके ला नीजि क्षेत्रके सम्भाव्यता अध्ययन कैना कहल बा ।
गैरपरम्परागत उद्यममे लगानी कैना विद्यमान प्रमुख कम्पनीहे प्रोत्साहित कैना, साझेदारी ओ बजार सम्बन्धके माध्यमसे नगरपालिका उद्यम इकोसिस्टम शुद्धि हुई, नगरपालिकास्तरमे उद्यमसिलता केन्द्र स्थापनाके लाग अन्तरक्रिया कैना, नगरपालिकास्तरमे उद्यमसिलता केन्द्र संचालनके ढाÒँचा विकास कैना कहल बा ।

सहकारी बैंक, अन्य वित्तीय सेवा प्रदायक ओ स्थानीय सरकारसंग समन्वय, सम्पर्क करके महिलाहुकनके वित्तीय पहँुचमे बृद्धि कैना, सहकारीके क्षमता विश्लेषण, सीमान्तकृत समुदायके युवाहुक्रे गैरपरम्परागत क्षेत्रमे अपन व्यवसाय सुरु कैना ज्ञान ओ सीप बिकास कैना कहल बा ।

सम्भावित उद्यमीके पहिचान ओ छनौट कैना नगरपालिकाके रोजगार शाखासे समन्वय करके समिति गठन कैना, उद्यमसिलता विकासमे अभिमुखिकरण, गैरपरम्परागत क्षेत्रमे सीप विकास तालिम, व्यवसाय स्थापनाके लाग सहयोग, युवतीहुकनके भेदभावपुर्ण सामाजिक मान्यता ओ लैङिक रुढीवादी धारणाहे चुनौटी डेना पार कैना अभिवृद्धि कैना, परियोजनाके कर्मचारीहे लैङिक संवेदनसिलतामे प्रशिक्षक प्रशिक्षण तालिम प्रदान कैना परियोजना संयोजक इन्द्र चौधरी बटैलै ।

विशेष करके गैर–परम्परागत उद्यममे केन्द्रित करटी, यी परियोजनासे कैलाली जिल्लाके सीमान्तकृत समुदायके महिला ओ युवाहे प्रभावकारी उद्यम, लैङिक समानता, ओ जलवायु अनुकूलन मार्फत सशक्त बनैना लक्ष्य राखल उहाँ जनैलै ।

परियोजनासे गैरपरम्परागत उद्यम ओ जीविकोपार्जनके प्रवर्द्धन कैना, नीजि तथा सार्वजनिक क्षेत्रसे लगानी कैना, सीमान्तकृत समुदायके युवासे अपन उद्यमशीलता सीप अभिवृद्धि करके गैर–परम्परागत उद्यम ओ जीविकोपार्जनके विकल्पमे अवसरके खोजी करके आम्दानी वह्रैना, महिलाहे भेदभावपूर्ण सामाजिक मान्यत ओ लैङिक रूढीबादीहे चुनौती डेना ओ हटैना सशक्त बनैना, जिहीसे जलवायु स्मार्ट अभ्याससहित गैर–परम्परागत क्षेत्रमे ओइनके सफल उद्यमशीलता विकास हुइना संयोजक बटैलै ।

कार्यक्रमके वरका पहुना धनगढी उपमहानगरपालिकाके नगर उप–प्रमुख कन्दकला राना यि परियोजनासे लागु कैना गतिविधिहे उपमहानगरपालिका अपने कार्यक्रम मानके आघे बह्रैना बटैली । उहाँ कहली, ‘ढेर महिला गृहिणी बटै, व्यवसायके करे चाहल बटै । मने लगानी नइहुइल कारण उद्यमीके रुपमे बाहेर डेखा परे सेकल नैहुइट । यी परियोजना ओसिन महिलाहुकनके समोटक आघे बह्रना जरुरी बा ।’

ढेर महिला मेर मेराइक तालिम लेके प्रमाणपत्र घरे ठन्कैले रठै, उहाँ कहली, ‘कोइ–कोई महिला वा यूवाके आर्थिक स्थिति कम्जोर रहठ । लगानी नैपाके कुछ करे नैसेकल रहठै । यी परियोजनासे उ मेरिक व्यक्तिनहे पहिचान करे परल ।’
कार्यक्रममे वडा अध्यक्ष, टमान शाखाके प्रमुखहुक्रेफे सुझाव डेहल रहिट । कार्यक्रमके संचालन पदमराज जोशी करल रहिट ।

जनाअवजको टिप्पणीहरू