थारु राष्ट्रिय दैनिक
भाषा, संस्कृति ओ समाचारमूलक पत्रिका
[ थारु सम्बत ०८ कुँवार २६४५, शुक्कर ]
[ वि.सं ८ आश्विन २०७८, शुक्रबार ]
[ 24 Sep 2021, Friday ]

Kantipur Samachar | कान्तिपुर समाचार

james २ चैत्र २०७६, आईतवार

पहुरा समाचारदाता
धनगढी, २९ फागुन । कैलालीके कठरिया थारु गाउँमे होरी नाचके रौनक छाइल बा ।
कठरिया थारु समुदायमे होली पर्वमे नाचजैना होरी नाच यी बेला कठरिया गाउँमे होरी नाचसे झुमल बा । फागु पुर्णिमाके दिनसे एक अँठ्वारसम कठरिया थारु समुदायमे ठार्मा, मिचुवा, छुट्टा ओ खिचडी होरी नाच नच्टी होरी पर्व मनैना करल बर्दगोरिया गाउँपालिका वडा नं. ५ कोइली भुरुवाके स्थानीय सुवेश कठरिया बटैलै ।
ठार्मा होरी नाच पुरष पुरुष, मिचुवामे महिलापुरुष ओ खिचडी होरी नाच कलामे आधारित नाच हो । यी नाच नच्टी कठरिया थारुहुक्रे घर घरमे होरी मनैना करठै । पूर्णिमाके दिनसे सुरु हुइल होरी आठौं दिन खक्रेरा मनाके अन्त्य कैना करठै ।
कठरिया थारु समुदायके पहिचानसे जोरल होरी नाच अब्बेक युवा पुस्ता संरक्षण सम्बद्र्धनमे ध्यान नाइ डेके लोप हइना अवस्थामे पुगल कठरिया समुदायके बुझाइ रहल बा ।
थारु गीतकार समेत रहल सुवेश कठरिया युवा पुस्ता आपपन लोक कला संस्कृति अंगीकार करे नाइ सेकके दिन दिने पख्र्यौली परम्परा लोप हुइटी गैल बटैलै । ‘युवा पुस्ता बाह्य गीत संगीत अंगिकार करटी रहल अवस्था बा,’ गीतकार कठरिया कहलै– ‘जिहीसे कठरिया थारु समुदायके परम्परागत नाच लोप हुइटी गैल बा ।’ चाडपर्व पिच्छे फरक फरक नाच नाचजैना कठरिया थारु समुदायके युवा पुस्ता आपन कला संस्कृति अंगिकार करे नाइ सेकके लोप हुइटी रहल कठरिया समुदायके बुद्धिजिवी चिन्ता व्यक्त करले बाटै ।
कैलालीमे करिब ५३ गाउँमे बसोबास रहल कठरिया थारु समुदायके जनसंख्या दुई लाखसे ढिउर रहल बा ।

[Sassy_Social_Share count="1" total_shares="ON"]

जनाअवजको टिप्पणीहरू