थारु राष्ट्रिय दैनिक
भाषा, संस्कृति ओ समाचारमूलक पत्रिका
[ थारु सम्बत २२ अगहन २६४६, बिफे ]
[ वि.सं २२ मंसिर २०७९, बिहीबार ]
[ 08 Dec 2022, Thursday ]

भारतीय पेन्सनधारी नेपालीहे पेन्सन बुझ्ना समस्या

पहुरा | २ असार २०७७, मंगलवार
भारतीय पेन्सनधारी नेपालीहे पेन्सन बुझ्ना समस्या

बैतडी, २ असार । करिब तीन महिनासे सीमानाका बन्दा होके भारतीय पेन्सनधारी नेपाली नागरिकहे समस्या हुइल बा । भारतीय सेनासे सेवानिवृत्त हुइल ओ अन्य भारतीय सरकारी कार्यालयसे निवृत्त हुइल नेपाली नागरिकहे पेन्सनके रकम प्राप्त कैना समस्या हुइल हो । भारतीय पेन्सनधारीके पेन्सनवापतके पैसा भारतीय बैंकमे अइना करठ् ।
जारी लकडाउनके कारण सीमानाका बन्द हुइलपाछे गैल तीन महिनायहोर पेन्सन नाइ पाइल डिलाशैनी–६ के रतनसिंह माल बटैलै । सीमानाका बन्द होके ढिउर समस्या हुइल उहाँ बटैलै । उहाँ कहलै, ‘कोरोना भाइरसके कारण सीमानाका बन्द होके पेन्सन बुझ्न भारतीय बैंकमे जाइ पाइल नाइ हुइटुँ ।’
सीमानाका बन्द होके पेन्सन बुझे नाइ पाके ओ यिहीसे दैनिक घरधन्दा चलैना मुस्किल हुइल डिलाशैनी–६ के जयबहादुर माल बटैलै । उहाँ कहलै, ‘मासिक अइना पेन्सनसे घरपरिवार चलैटी रहल रहँु, लकडाउनसे सीमापुल बन्द हुइलपाछे ढिउर समस्या हुइल बा ।’
बैतडी भारतसे सीमा जोडल जिल्ला रहल ओरसे यी जिल्लाके ढिउर नागरिक भारतीय सेनासे निवृत्त हुइल बाटै । उहाँहुक्रे मासिकरूपमे पेन्सन पैटी आइल रलेसे फेन लकडाउनके कारण पाछेक तीन महिनायहोर पेन्सन पाइ सेकल नाइ हुइट ।
भारतसे पेन्सन बुझुइया नेपालीहुक्रनहे नाकासे प्रवेश कराके समस्या समाधानके लाग भारतके पिथौरागढ जिल्लाके डिएमसे अपनेहुक्रे बातचित ओ समन्वय करटी रहल प्रमुख जिल्ला अधिकारी मोहनराज जोशी बटैलै । “सीमानाका दुई देशके सहमतिसे खुल्ना हो हम्रे चाहके किल नाइ हुइ,” उहाँ कहलै, “भारतीय पक्षसे सहमति जनाइलपाछे हमार ओरसे फेन तयारी करब ।”
बैतडीसे किल करिब दुई हजार ढिउर नागरिक भारतके झुलाघाटसे पेन्सन बुझ्ना करल बाटै । विश्वभर महामारीके रूपमे फैलल् कोरोना भाइरसके संक्रमण रोकथाम तथा नियन्त्रणके लाग करल लकडाउनके कारण गत चैत ११ गतेसे सीमानाका बन्द बावै ।

जनाअवजको टिप्पणीहरू