थारु राष्ट्रिय दैनिक
भाषा, संस्कृति ओ समाचारमूलक पत्रिका
[ थारु सम्बत १९ अगहन २६४६, सोम्मार ]
[ वि.सं १९ मंसिर २०७९, सोमबार ]
[ 05 Dec 2022, Monday ]

धनगढी–अत्तरिया ६ लेन सडकके निर्माण सुस्त

पहुरा | २४ असार २०७७, बुधबार
धनगढी–अत्तरिया ६ लेन सडकके निर्माण सुस्त

पहुरा समाचारदाता
धनगढी, २४ असार ।
सरकारके प्राथमिकता प्राप्त आयोजना धनगढीके मोहनापुल–अत्तरिया ‘छ लेन’ सडक निर्माणके भौतिक प्रगति ६३ प्रतिशत पूरा हुइल बा ।
तीन प्याकेजमे निर्माणाधीन रहल १४ किलोमिटर लम्मा सडक आयोजनाके पहिल प्याकेजअन्तर्गतके काम आगामी अगहन ओ दुसरा तथा तिसरा प्याकेजअन्तर्गतके काम आगामी माघ महिनासम पूरा कैना लक्ष्य लेहल बा ।
मोहना पुलसे धनगढीके ट्राफिक चोकसम पहिल प्याकेज ओ ट्राफिक चोकसे अत्तरियासमके सडकहे दुसरा ओ तिसरा प्याकेजमे राखके निर्माण कार्य हुइटी रहल बा । यी सडक निर्माण पूरा करसेके पर्र्ना दुई बरसके अवधिमे निर्माण कार्य पूरा हुइ नाइ सेकलपाछे पाछेकचो निर्माण अवधि कुछ महिना थपल बा ।
आयोजनाके प्रमुख होमबहादुर एसी हाल सडकमे कालोपत्र कैना लगायतके कार्य हुइटी रहल बटैलै । सडकमे पर्ना छोट छोट पुलेसाके निर्माण पूरा होसेकलमे साविकके गेटा लग्गे रहल मनहरा लडिया ओ सुनिखोलामा पर्ना पुल निर्माण ठेक्काके प्रक्रिया भर आभिन शुरु हुइ सेकल नाइहो ।
‘बन्दाबन्दीके कारण समयमे पुलके ठेक्का कैना कार्य आघे बहे नाइ सेकल,’ आयोजना प्रमुख एसी कहलै, ‘कुछ महिनापाछे ठेक्काके काम फेन आघे बह्राइ लागल बा ।’ बन्दाबन्दीके कारण हुइल मजदूरके अभावसंगे सडक निर्माण कार्य सुस्त गतिमे हुइटी रहल बा । बन्दाबन्दीसे लक्ष्यअनुसार निर्माण कार्यहे गति डेहे नाइ सेक्लेसे फेन यी अवधिमे धुलाम्य ओ हिलाम्य सडक हुइना समस्या समाधान करल एसी बटैलै ।
बन्दाबन्दी सुरु हुइलसंगे घर गैल अधिकांश कामदार आभिन नाइ आइल जनाइल बा । धनगढीके मोहना पुलसे अत्तरिया चोकसमके यी सडकमध्ये शहरी क्षेत्रमे ‘छ लेन’ ओ ग्रामीण क्षेत्रमे ‘चार लेन’के सडक निर्माणाधीन बा । सडक क्षेत्रभिट्टर बनाइल घरलगायतके संरचना भत्कैना विषयमे शुरुके अवस्थामे विवाद उत्पन्न हुइलपाछे यी सडक निर्माण कार्य आघे बह्रैना ढिलाइ हुइल रहे ।
यी बाहेक साविकके सडक क्षेत्रके रुख कटानी ओ बिजुलीके खम्बा सर्नामे हुइल ढिलाइसे फेन निर्माणके काम आघे बह्रैना समय लागल रहे । यी सडकके निर्माणमे लुम्बिनी राजेन्द्र डाँफे, लामा राजेन्द्र डाँफे ओ शर्मा अमर नागार्जुन निर्माण कम्पनी रहल बावै ।
शुरुके अवस्थामे सडक आयोजना कार्यालयका प्रमुखके घरी घरी सरुवा होके कामके समयमे रेखदेख एवं निर्माणमे असर पुगेबर निर्माणमे समेत ढिलाइ हुइल रहे । सडकके लागत इष्टिमेट रु एक अर्ब ६८ करोडके रहल बा ।
धनगढी क्षेत्रमे सडक सञ्जालके विकास एवम् स्तरोन्नतिके लाग पहिलचो अत्रा ढिउर रकमसहित छ लेन सडक निर्माण कार्य हुइटी रहल बा । सुदूरपश्चिम प्रदेशके अस्थायी राजधानी शहर धनगढी प्रवेश कैना एकठो किल मुख्य यी सडकमे दैनिक छोटबर तीन हजारसे ढिउर यातायातके साधनके आवागमन हुइना करल बा ।

जनाअवजको टिप्पणीहरू