थारु राष्ट्रिय दैनिक
भाषा, संस्कृति ओ समाचारमूलक पत्रिका
[ थारु सम्बत ३० सावन २६४६, सोम्मार ]
[ वि.सं ३० श्रावण २०७९, सोमबार ]
[ 15 Aug 2022, Monday ]

दंगीशरण दरबारके डिपिआरके लाग ३० लाख बजेट

पहुरा | २० श्रावण २०७७, मंगलवार
दंगीशरण दरबारके डिपिआरके लाग ३० लाख बजेट

सन्तोष दहित
दाङ, २० सावन ।
दाङके तुलसीपुर उपमहानगरपालिका–११, सुकौराकोटमे रहल दंगीशरण दरबारसे अन्ततः विकासके गति लेना हुुइल बा ।

करिब साढे दुई हेक्टर ढिउर क्षेत्रफल ओगेटल दंगीशरण दरबारके विकासके काम थारू कल्याणकारिणी सभा दाङके नेतृत्वमे आघे बह्रना सहमति हुइलसंगे विकासके ढोका खुलल् हो ।

यिहीसे आघे दरबारके विकास केकर नेतृत्वमे ओ कैसिक कैना विषयमे सहमति हुइ सेकल नाइ रहे । दरबारके संरक्षण ओ प्रवद्र्धनके लाग थारू कल्याणकारिणी सभा दाङके अध्यक्ष भुवन चौधरीके नेतृत्वमे स्थानीय सरकार, सरोकारवालाके सहभागितामे विस्तृत परियोजना अध्ययन प्रतिवेदन (डिपिआर) तयार कैना सहमति जुटल हो ।

आबके कुछ महिनामे उ क्षेत्रमे विकासके लाग डिपिआर तयार कैना, दरबारके उत्खनन्, अनुन्धानके लाग पुरात्व विभागके टोलीहे बोलैना तयारी हुइटी रहल प्रदेशसभा सदस्य डिल्लीबहादुर चौधरी जानकारी डेलै ।

ओहकान अनुसार डिपिआर ओ दरबारके संरक्षणके लाग प्रदेश सरकारसे ३० लाख बजेट विनियोजन हुइल बा । यकर बृहत विकासके लाग पाँच करोडसे ढिउर रकम आवश्यक पर्ना हुुइल ओरसे ओकर लाग पहल करटी रहल प्रदेश सभा सदस्य चौधरी बटैलै ।

दंगीशरणके दरबारभिट्टर वर्ड गार्डेन पार्क निर्माण अन्तिम चरणमे पुगल बा । प्रदेश सरकारके सहयोगमे निर्माण हुइटी रहल पार्कमे दंशीरशण राजाके शालिक स्थापना करजैना बा ।

यद्यपि बिना गुरुयोजना दरबारके विकासका नाउँमे जथाभावी संरचना बनैना ओ दरबारके अस्तित्व मेटैना मेरके अव्यवस्थित संरचना निर्माण करल कहटी थारु कल्याणकारिणी सभा विरोध करटी आइल रहे । अब्बे डिपिआर बनाके किल उ क्षेत्रके विकास कैना सहमति हुइल हो ।
सुकौराकोटमे थारू राजा दंगीशरणसे राज्य चलाइल किम्बदन्ती रहल बा । उ क्षेत्रमे पुरातत्व विभागसे ३ चोसम उत्खन्न करसेकल बा ।

उत्खननके क्रममे थारू राजा दंगीशरणसे प्रयोग करल कुछ पुरान सिक्का, थारू समुदायके पुर्खासे प्रयोग करटी आइल टमान मेरके माटीके भाडाकुडा, गुन्द्री, ढकिया, भौका, थारू महिलासे घाटीमे लगैना मोतीके दाना, हाँठमे लगैना लखौटीके चुरिया, माटीसे बनल डिउटाके मूर्ति, शिकार खेल्ना धनुष, चार मेरके इट्टा लगायत भेटल रहे ।

दंगीशरण दरबारके क्षेत्र तुलसीपुर उपमहानगरपालिकामे क्षेत्रमे रहलेसे फेन गाउँपालिकाके नाउँ भर दंगीशरण राखल बा ।

दरबारके सिमानासे जोरल खोलुवा उपार पश्चिम भेग साविक हेकुली गाविस, साविक श्रीगाउँ गाविस ओ दक्षिणभेग छुवल बबइउपार साविक गोलटाकुरी गाविसहे गाभके दंगीशरण गाउँपालिका बनाइल हो ।

जनाअवजको टिप्पणीहरू