थारु राष्ट्रिय दैनिक
भाषा, संस्कृति ओ समाचारमूलक पत्रिका
[ थारु सम्बत २२ अगहन २६४६, बिफे ]
[ वि.सं २२ मंसिर २०७९, बिहीबार ]
[ 08 Dec 2022, Thursday ]

बसन्तामे हुलाकी सडक निर्माण प्रक्रिया आघे नैबह्रल

पहुरा | २० श्रावण २०७७, मंगलवार
बसन्तामे हुलाकी सडक निर्माण प्रक्रिया आघे नैबह्रल

पहुरा समाचारदाता
धनगढी, २० सावन ।
कैलालीके हुलाकी सडक आयोजना अन्र्तगतके पहिल चरणके बसन्ता करिडोर क्षेत्रके दुई किलोमिटर सडक निर्माण प्रक्रिया आभिन आघे बह्रे सेकल नाइहो ।

वन विभागसे गिल बरस सावन १३ दुसराचो पेश करल पुरक वातावरणीय प्रभाव मूल्यांकन प्रतिवेदन स्वीकृत करलेसे फेन थप प्रक्रिया डिभिजन वन कार्यालय धनगढीसे आघे नाइ बह्राके काम आघे बह्रे नाइ सेकल जनाइल बा ।

‘विभागसे गैल बरस सावन १९ गते हुलाकी सडक योजना कार्यालयहे पत्राचार करटी दुसराचो बुझाईल प्रतिवेदन स्वीकृत करल जनाइल रहे, मने ओकरपाछेक आवश्यक प्रक्रिया आघे बह्रैना भर डिभिजन वन कार्यालय धनगढी ढिलाई करले बा’ हुलाकी सडक आयोजना कार्यालयके सूचना अधिकारी पदम मडै कहलै– रुखुवामे ‘नम्बरिङ’ करसेकल बा ओ हम्रे कटान आदेशके अस्रा लागल बाटी ।’

उहाँ वन कार्यालयसे आवश्यक प्रक्रिया आघे नाइ बह्राइल गुनासो करलै । ओहकान अनुसार गत बरस फागुन १० गते नम्बरिङ कैना आदेश आइलपाछे ११ गतेसे सर्भे करल रहे ।

वातावरणीय प्रभाव मूल्यांकन प्रतिवेदन अनुसार बसन्ता करिडोर क्षेत्रके दुई किलोमिटमे सडक विगतमे ३० मिटर चौडा सडक निर्माण कैना कहलमे परिमार्जन करटी १२ मिटर तय करल रहे । उ प्रतिवेदन अनुसार सडक क्षेत्रके १८ मिटर चौडाई घटाइलपाछे विगतमे चार सय एक रुखुवा काटे पर्नामे अब्बे एक सय २१ ठो किल रुखुवा काटे पर्ना डेखल बा । ‘रुखुवा कटान आदेशके लाग संघिय वन मन्त्रालयसे आदेश डेहे पर्ना रलेसे फेन आवश्यक प्रक्रिया सुरु करल नाइहो’ उहाँ कहलै ।

उ क्षेत्रमे वन्यजन्तु ओहोरदोहोरके लाग ‘ओभर ब्रीज’ ओ ‘अन्डर ब्रीज’ बनैलेसे किल राजमार्ग निर्माणके कार्यहे आघे बह्राइ डेना डिभिजन वन कार्यालय कैलाली अडान लेहल रहे ।

हुलाकी सडक आयोजनाके एक कर्मचारी कहलै– वैज्ञानिक वनके नाउँमे धमाधम डिभिजन वन कार्यालयसे रुखुुवा कटान आदेश डेटी रहल बा । मने, राष्ट्रिय गौरवके आयोजनाके निर्माणमा वनके बाधक बनल बा ।

डिभिजन वन कार्यालय धनगढीके प्रमुख रामचन्द्र क“डेल ‘नम्बरिङ लगायतके सक्कु काम होसेकल ओ विभागमे टीप्पणी आदेश पठैना प्रक्रियामे रहल’ बटैले । उहाँ विभागमार्फत मन्त्रालयमे उ टीप्पणी आदेश जैना बटैलै । उहाँ कहलै– लकडाउनके कारण टिप्पणी आदेश पठाइ सेकल नाइ रहे ।

विगतमे वन कार्यालयसे बसन्ता जैविक मार्ग वन्यजन्तुके लाग संवेदनशील क्षेत्र रहल ओरसे वन्यजन्तुमैत्री संरचना निर्माण कैना अडान कायम राखेबर काम ठप्प रहल रहे । बसन्ता जैविक मार्ग भारतके दुधवा नेसनल पार्कसंग जोरल बा । दुधवा नेसनल पार्क हुइटी नेपालके बसन्ता वन, चुरेसम बरसके दुई मौसममे हाठी, बाघ तथा अन्य प्रजातिके वन्यजन्तु ओहोरदोहोर करटी आइल बाटै ।

हुलाकी सडक आयोजना कार्यालयके सूचना अधिकारी मडैके अनुसार वन्यजन्तुमैत्री संरचनाके लाग डिपिआर कैके प्रतिवेदन पठासेकल बा । उ प्रतिवेदनमे बन्यजन्तुमैत्री संरचना बन्ना स्थान फेन तोकल बा । मने, उ प्रतिवेदन फेन अहिलेसम हुइल नाइहो ।

हुलाकी सडक निर्माण सुरु हुइल १० बरसमे फेन बसन्ता करिडोरमे डेखगैल अन्यौलके कारण काम आघे बह्रे सेकल नाइहो । अब्बे उ अन्यौल्य हटसेकल ओरसे अन्य प्रक्रिया सुरु कैटी निर्माणहे तिव्रता डेहे पर्र्ना सुझाव डेहल बा ।

जनाअवजको टिप्पणीहरू