थारु राष्ट्रिय दैनिक
भाषा, संस्कृति ओ समाचारमूलक पत्रिका
[ थारु सम्बत १३ अगहन २६४६, मंगर ]
[ वि.सं १३ मंसिर २०७९, मंगलवार ]
[ 29 Nov 2022, Tuesday ]
‘ प्रहरी सहायक निरिक्षक बिक हत्या प्रकरण ’

भारतीय अपराधिक समूह संलग्न हुइ सेक्ना आशंका

पहुरा | ३ कार्तिक २०७७, सोमबार
भारतीय अपराधिक समूह संलग्न हुइ सेक्ना आशंका

पहुरा समाचारदाता
धनगढी, ३ कार्तिक ।
कैलालीके धनगढी उपमहानगरपालिका १२ के अस्थायी प्रहरी बिट जुगेडाके इञ्चार्ज प्रहरी सहायक निरिक्षक गोविन्द बिक अँट्वारके सकारे मृत फेला परलै ।

उहाँकसंगे मोटरसाइकलमे सीमा क्षेत्रके गस्तीमे निक्रल प्रहरी जवान रामबहादुर साउँद भर नाइ भेटल हुइट । ओहकान अवस्थाबारे कौनो जानकारी ओ सुराक प्रहरी पाइ सेकल नाइहो । मने उहाँ प्रयोग कैना करल मोबाइल ओ एकठो बुट फेला परल बा । अनुसन्धानमे संग्लन एक अधिकारी कहलै– ‘प्रहरी जवान साउँदके मोबाइलके कयौं टुक्रा पारल बा । एकठो बुट फेला परल बा । उहाँ तस्कर समूहसे प्रतिवाद करल हो कि कना डेखजाइठ् ।’

शनिच्चरके रात ८ बजे मोटरसाइकलमे ड्युटीमे निक्रल उहाँहुक्रे नाइ आइलपाछे प्रहरी टोली खोजी सुरु करल रहे । बिक चहुर्ना बा ५८ प ५२८४ नम्बरके मोटरसाइकल शव भेटल स्थानसे साढे २ किलोमिटर पश्चिम ओर भेटल रहे ।

प्रहरी सीमा क्षेत्रमे तस्करके समूहके गतिविधि निगरानी ओ नियन्त्रण करे पुगल उहाँहुक्रे तस्करके सिकार बनल दाबी करटी आइल बा । सकारेसम फेन उहाँहुक्रे चौकीमे नाइ आइलपाछे खोजी कैना क्रममे सुरुमे उहाँहुक्रे प्रयोग करल मोटरसाइकल भेटल रहे । खोजीके क्रममे मोहना लडियामे एकठो शव फेला परल रहे । लडियामे फेला परल शव प्रहरी सहायक निरिक्षक बिकके रहल पुष्टि हुइल रहे । अनौपचारिक रुपमे प्रहरी अधिकारी प्रहरी जवान साँउद फेन तस्करके आक्रमणके सिकार हइल हुइ सेक्ना बटैटी रहल बाटै ।

एक प्रहरी अधिकारी कहलै, ‘तस्कर समूहसे नियोजित रुपमे प्रहरीके हत्या योजना बनाइल हमार बुझाई बा । हम्रहीनहे कुछ क्लु फेन मिलल् बा । तस्कर समूह नै साउँदके फेन हत्या कैके शव नुकैले बाटै कि कना लागल बा ।’ घटनास्थलसे प्रहरीसे प्रयोग करल हतियार नाइ फेला परल हो । प्रहरीउपर नै आक्रमण करुइया समूह हतियार लुटके लैगिल हुइ सेक्ना आशंका प्रहरीके रहल बा ।

प्रहरी टोली घटनास्थल आँजरपाँजर साउँदके खोजी तीव्र पारल सुदूरपश्चिम प्रदेशके डीआईजी उत्तमराज सुवेदी जानकारी डेलै । डीआइजी सुवेदी तस्करके समूह नियोजित रुपमे प्रहरीउपर आक्रमण करल प्रारम्भिक अनुसन्धानसे खुलल् बटैलै । डीआइजी सुवेदी कहलै– ‘अनुसन्धानसे कुछ क्लु खुलल् बावै । अनुसन्धानमे रहल ओरसे सार्वजनिक करे नाइ मिली । मने हाली अपराधीसम हम्रे पुगब ।’ प्रहरी सहायक निरिक्षक विकके शव भेटल स्थान नेपाल–भारत सीमा क्षेत्र हो । कुछ दिनआघे प्रहरी सहायक निरिक्षक विकके टोली उहे नाका होके अवैध रुपमे नेपाल अइटी रहल सूर्तीजन्य पदार्थ बरामद करल रहे ।

उ क्षेत्र अपराधिक गतिविधि हुइना क्षेत्र मानजैटी आइल बा । मोहना लडिया नेपाल–भारतके सीमा छुट्याइले बा । उ क्षेत्रसे तस्करहुक्रे अवैध सामान भिœयाइठै । ओहेमारे प्रहरी हत्यामे भारतीय तस्कर समूहके फेन संग्लनता हुइ सेक्ना अनुमान करले बा । घटनामे संग्लन रहल आशंकामे प्रहरी १३ जनहनमे नियन्त्रणमे लेले बा । मृत भेटल प्रहरी सहायक निरिक्षक विकके गोसिन्या सहित दुई छाइ रहल बाटिन् । प्रहरी सेवामे ३ बरस किल बिटाइल विक २ महिना पहिले सुर्खेतमे कार्यरत रहिट । ओहकान परिवार कञ्चनपुरके पुनर्वासमे बैठ्टी आइल बा ।

हत्याराहे कारवाहीके माग कैटी प्रदर्शन

प्रहरी सहायक निरिक्षक गोविन्द बिकके हत्याराहे कारवाहीके माग कैटी सोम्मारके रोज धनगढीमे नाटपाटन ओ स्थानीयहुक्रे प्रदर्शन करले बाटै । मृतकके नाटपाट दोषीहे कारवाहीके माग कैटी धनगढी चौराहसे जिल्ला प्रशासन कार्यालय आघेसम प्रदर्शन करटी बजार बन्द कराइल रहिट ।

असइ बिकके विभत्स हत्या करुइयाहे कारवाहीके दायरामे लाने पर्र्ना, मृतकके परिवारके भरण पोषणके जिम्मा सरकारसे लेहे पर्र्ना लगायतके रख्टी उहाँहुक्रे प्रदर्शनमे उत्रल हुइट ।

छानबिनके लाग सिआइबीके टोली धनगढीमे

प्रहरी सहायक निरीक्षक (असई) गोविन्द बिकके हत्याबारे छानबिनके लाग नेपाल प्रहरीके केन्द्रीय अनुसन्धान ब्युरो (सिआइबी)के टोली धनगढी पुगल बा ।

सुदूरपश्चिम प्रदेश प्रहरी कार्यालयके प्रवक्ता एवं प्रहरी वरिष्ठ उपरीक्षक (एसएसपी) मुकेशकुमार सिंहके अनुसार सिआइबीके प्रहरी नायब उपरीक्षक (डिएसपी)के नेतृत्वके टोली घटनाबारे छानबिन करे सोम्मारके धनगढी पुगल हो ।

ओस्टके, सुदूरपश्चिम प्रदेश प्रहरी कार्यालय, जिल्ला प्रहरी कार्यालय कैलाली ओ कञ्चनपुरके टोलीसे फेन घटनाके छुट्टाछुट्टे रूपमे अनुसन्धान सुरु करल एसएसपी सिंह जानकारी डेलै ।

जनाअवजको टिप्पणीहरू