थारु राष्ट्रिय दैनिक
भाषा, संस्कृति ओ समाचारमूलक पत्रिका
[ थारु सम्बत २८ सावन २६४६, शनिच्चर ]
[ वि.सं २८ श्रावण २०७९, शनिबार ]
[ 13 Aug 2022, Saturday ]

कानून कार्यान्वयन फितलो हुके बलात्कारके घटना बह्रल

पहुरा | २२ आश्विन २०७७, बिहीबार
कानून कार्यान्वयन फितलो हुके बलात्कारके घटना बह्रल

पहुरा समाचारदाता
धनगढी, २२ कुवाँर ।
कानून कार्यान्वयन फितलो हुके बलात्कारके घटनामे बृद्धि हुइल एक कार्यक्रमके सहभागीहुक्रे बटैले बाटै ।

महिला पुनःस्थापना केन्द्र (ओरेक) कैलाली यिहे अक्टुबर २ से डिसेम्बर १० सम करे लागल लैगिङक हिंसा विरुद्धके अभियानबारे छलफल कार्यक्रमके सहभागीहुक्रे कानून कार्यान्वन फितलो हुइल कारण बलात्कार तथा लैगिङ हिंसा बह्रल बटाइल रहिट ।

छलफल कार्यक्रममे बोल्टी दलित महिला अधिकार मञ्चके जिल्ला अध्यक्ष सावित्रा घिमिरे निर्मला पन्तहे सरकार न्याय डेहुवाइ नइसेक्ना, बझाङमे बलात्कारके घटना गाउँमे मिलाइल कारण सम्झना विकके बलात्कारपाछे हत्या हुइल बटैली । उहाँ कहली, ‘बलात्कार ओ लैगिङक हिंसाके घटना गाउँमे मिलाइल कारण बलात्कारके घटना बह्रटी गैल बा ।’

महिला अधिकारकर्मी गोमा आचार्य लकबन्दीके बेला अपने आफन्तहुकनके ढेर बलात्कृत हुइल घटना बाहे्र आइल बटैली । उहाँ कहली,‘यी बेला घरेक सक्कु सदस्य घरे बैठल कारण कोई अपने बाबासे, कोई डाडुनसे बलात्कार हुइल घटना आइल बा ।’ चेलीवेटीहुक्रे अपने आफन्तसे असुरक्षित हुइल घटना बाहेर आइ लागलपाछे चिन्ताके विषय बनल उहाँ बटैली । बलात्कारके घटनाके दोषीहुकन राजनीतिक दल ओ सरकारसेफे बचाइल उहाँक आरोप बा ।

महिला अधिकारकर्मी निर्मला बागचन्द यौन हिंसा ओ बलात्कारके घटनामे संलग्नहुकन कार्वाहीके लाग सरोकारवाला निकाय तथा प्रहरी प्रशासनहे ज्ञापनपत्र बुझाके दबाव डेहे सेक्ना बटैली । कार्यक्रममे गणेश कठायत चुनावके बेला राजनीतिक दलहुकनके घोषणापत्र मजा अइना मने कार्यान्वयन नइहुइना बटैलै । इन्सेक प्रदेश कार्यालयके प्रलेख अधिकृत कृष्ण विक, कमैया प्रथा उन्मुलन समाजके अध्यक्ष बसन्ती चौधरी बलात्कार घटनाके दोषीहुकनहे बचाइल कारण ओइनके मनोवल बह्रल बटैलै । कानून कार्यान्वयन फितलो हुइटी गैलेसे अपराधके घटनामे बृद्धि हुइटी जैना उहाँहुकनके जोड रहे ।

‘नागरिक समाज ओ महिला अधिकार रक्षक संजालहुकनंग करल छलफलमे ओरेक कैलालीके संयोजक विनु राना अक्टुवर २ से डिसेम्बर १० सम कैना कार्यक्रमबारे जानकारी डेहल रहिट । उहाँ यी अवधिमे राजनीतिक दलहुकनहे ज्ञापनपत्र बुझैना, संचारकर्मी ओ मुख्यमन्त्रीके सहभागितामे लैङिक हिंसा विरुद्धके अन्तरक्रिया लगायत टमान कार्यक्रम कैना जनैली । उहाँ लकडाउनके अवधिमे कैलालीमे १४ ठो बलात्कारके घट्ना हुइल तथ्यांक सार्वजनिक करसेकल जनैली ।

६ महिना हुइल लकडाउनके अवधिमे ओरेकके सम्पर्कमे आइल किल १४ ठो बलात्कारके घट्ना हुइलेसे फेन आउर ढिउर फेन हुइ सेक्ना ओरेक नेपाल कैलालीके संयोजक राना जानकारी डेली । लकडाउनके अवधिमे ओरेक कैलालीमे एक सय १४ ठो महिला हिंसाके उजुरी परल उहाँ जनैली ।
‘हमार संस्थामे एक सय १४ महिला हिंसाके उजुरी परल बावै, उहाँ कहली । ’सक्कुओर बन्द रहल अवस्थामे अत्रा घटनाके संस्थामे उजुरी अइना फेन ढिउर हो ।’

ओरेक कैलाली लकडाउनमे दुई सय १४ जनहनहे मनोसामाजिक परार्मस डेहल बा कलेसे टमान माध्यमसे एक सय २५ जनहनहे ओ प्रत्यक्ष रुपमे ९ जनहनहे मनोसामाजिक परार्मस डेहल उहाँ जनैली । संयोजक राना कहली, ‘३ परिवारहे पारिवारिक रुपमे मनोसामाजिक परार्मस डेहल, कैलालीमे ५५ ठो महिला हिंसा सम्बन्धित मुद्दा दर्ता हुइल बा ।’ लकडाउनमे २१ ठो यौन हिंसा, ७ ठो बहुविवाह, ११ आत्महत्या लगायत घरेलु हिंसाके ढिउर घट्ना घटल संयोजक राना जानकारी डेली । लैगिङक हिंसा विरुद्धके अभियानबारे भर्चुअल छलफल कार्यक्रमके सहजीकरण ओरेक नेपाल कैलालीके जिल्ला कार्यक्रम संयाेजक गीता चौधरी करले रहिट ।

जनाअवजको टिप्पणीहरू