थारु राष्ट्रिय दैनिक
भाषा, संस्कृति ओ समाचारमूलक पत्रिका
[ थारु सम्बत १३ अगहन २६४६, मंगर ]
[ वि.सं १३ मंसिर २०७९, मंगलवार ]
[ 29 Nov 2022, Tuesday ]

किसानहुकन तुरुन्त मलके व्यवस्था कर

पहुरा | २८ आश्विन २०७७, बुधबार
किसानहुकन तुरुन्त मलके व्यवस्था कर

राज्यके संरचना बडलल मने किसानहुकनके पीडा अभिन जस्टाके टस्टे रहल बा । बर्खेबालीके लाग किसान मल नइपाइल कारण फसल सोचल जैसिन नैहुइल हो । अब्बे हिउदे बालीकफे सुरुवाट हुइल बा, गाउँघरमे धमाधम आलु लगवाइ, लाही बोवाईके काम सुरु हुइल बा । मने ओम्ने डारेक लाग छिटना १ कट्टा मलके लाग किसानहुकन सरातभर लाइन बैठे पर्ना पीडा बा ।

मुलुक संघीय शासकीय संरचनामे अइलेसे फेन अप्नेहुकनके समस्या ज्यूँके त्यूँ रहल किसान महसुश करटी बाटै । हरेक आर्थिक बरसमे कृषि क्रान्तिके समेटल नीति तथा कार्यक्रम ओ बजेट भाषण करटी आइल सरकार यर्थाथमे किसानहुकनके पीडाप्रति भर गम्भीर नैरहल किसाननके गुनासो अइटी बा । संघीय शासन आइलपाछे कुछ राहात हुईकी कना किसानहुकन आश रहे, संघीयता लागू हुइल तीन बरस पुरा हुइलेसेफे किसानहुक्रे अभिन सहजे मल नइपाई सेक्ना अवस्था बा । धानवालीके लाग मल नइपाइल किसाननके मन ओस्टेहे खिन्न बा, प्रदेश सरकारके मुख्यमन्त्री, कृषिमन्त्री लगायत भारी–भारी नेतनके औपचारिक कार्यक्रममे कृषिमे लौव आयम नम्मा भाषणसे किसानहुकन विश्वास डेहे सेक्ना कौनो आधार नइविल्गाइठ । संघीय शासन लागु हुइना आघेफे किसानहुक्रे मलके लाग रातभर लाईनमे बैठे परल रहे, रात हुइलेसे लाइनमे सुटे पर्ना बाध्यता रहे । नेतनके बोलीके कार्यान्वयन नइहो, अभिन लाइन लग्ना बाध्यता बा ।

कृषि सामग्री कम्पनी लिमिटेड, साल्ट्र ट्रेडिङसे सहकारी संस्था मल लैजैना करठै, किसानहुक्रे मल पाइक लाग एक÷दुई महिना आघे पैसा बुझाई पर्ना अवस्था बा । ओटरे केल नाही धानवालीमे डारेक लाग किसानहुक्रे आग्रीम पैसा बुझैलै मने मलखाद नइपैले । कृषि सामग्री कम्पनी लिमिटेड, साल्ट्र टेडिङसे किसानहुक्रे सिधे मल किने नैपैना मने सहकारीसे मल लेहक लाग सहकारीके अनिवार्य शेयर सदस्य हुइलेसे केल मल पैना किसानके पीडा बा, मल पैलेसे तोकल मोलसे ढेर पैसा टिरे पर्ना बाध्यता बा । सहकारीमे मल आइल सूचना पैटी किल कोराना कहरके बीच फेन मलके लाग जोखिम सहके लाइनमे बैठना बाध्य बटै किसान, हरेक आर्थिक बरसमे कृषि क्रान्तिके समेटल नीति तथा कार्यक्रम ओ बजेट भाषण कैना कार्यान्वयनके पाटो शुन्य रहलपाछे सरकारप्रति किसानहुकनके विश्वास गुमल बा ।

धान सिजनमे फेन मलके अभाव झेलल कृषकहुक्रे हाल हिउँदे सिजनमे फेन अभाव सहटी बाटै । हाल कैलालीमे किल नाई, सुदूरपश्चिमभर मलके चरम अभाव बा । सुदूरपश्चिम प्रदेशमे कृषि सामग्री कम्पनी लिमिटेड ७० प्रतिशत ओ साल्ट टे«डिंग कर्पोरेसन ३० प्रतिशत मलके आपूर्ति करटी आइल बा । मने हालसम कृषि सामग्री कम्पनी लिमिटेड मलके आपूर्ति करे नैसेक्ले हो । मल आपूर्ति करे नैसेक्नाके मुख्यकारण कोरोना कहर कहटी पन्छिटी रहल बा । कृषि सामग्री कम्पनी लिमिटेड प्रदेश कार्यालय धनगढी कोरोनाके कारण बाहना लगैटी मल नाने नैसेकल मने डसिया लग्गटे डिएपी ओ यूरियाके आपूर्ति हुइना कहटा । किसानहुक्रे अब्बे धानबाली कटाके जोटनीमे लागसेकल बाटै । यी बरस ओस्टेफे डशिया पछगुरल बा, डशिया कहटी–कहटी डेवारी नघाडेलेसे खेतुवाके ओडफे सुखजाई । टबमारे जटरा सेक्लेसे हाली मल नानके किसानहुक्रन सहजे आपूति कैना जरुरी बा ।

सम्बन्धित समाचार

राज्यके संरचना बडलल, किसानन्के पीडा ओस्टे: १ कट्टा मलके लाग रातभर लाइन

जनाअवजको टिप्पणीहरू