थारु राष्ट्रिय दैनिक
भाषा, संस्कृति ओ समाचारमूलक पत्रिका
[ थारु सम्बत १३ कुँवार २६४६, बिफे ]
[ वि.सं १३ आश्विन २०७९, बिहीबार ]
[ 29 Sep 2022, Thursday ]

पर्यवेक्षणके सुझाव कार्यान्वयनसम्बन्धी छलफल

पहुरा | १५ बैशाख २०७९, बिहीबार
पर्यवेक्षणके सुझाव कार्यान्वयनसम्बन्धी छलफल

पहुरा समाचारदाता
धनगढी, १५ वैशाख ।
राष्ट्रिय निर्वाचन पर्यवेक्षण समिति (नियोक) के आयोजनामे बिफेक रोज धनगढीमे स्थानीय तहके निर्वाचन पर्यवेक्षणके सुझाव कार्यान्वयन ओ सरोकारवालाहुकनके भूमिका विषयक छलफल कार्यक्रम हुइल बा । उ कार्यक्रम आसन्त स्थानीय तहके निर्वाचनहे लक्षित कैके हुइल रहे ।

कार्यक्रममे नियोकके विकल श्रेष्ठ निर्वाचन पर्यवेक्षणके सुझाव कार्यान्वयन ओ सरोकारवालाहुकनके भूमिका कार्यपत्र प्रस्तुत करटि निर्वाचनमे आधारभूत मान्यताबारे जानकारी करैले रहैं । उहाँ सरकारके टरफसे मतदान प्रक्रियामे प्रत्येक योग्य मतदाताके अधिकार सुरक्षित करेक लाग विशेष कैके निर्वाचनमे खटल निकाय जस्टेः नेपाली सेना, सशस्त्र प्रहरी बल, जनपथ प्रहरी, म्यादी प्रहरी, निर्वाचन कर्मचारी तथा निर्वाचन पर्यवेक्षकहुकनहे अग्रिम मतदानके व्यवस्था करना कानून निर्माण करना सुझाव रहल बटैलैं । स्थानीय शासन नागरिकके लग्गेक सरकार रहल ओरसे राज्यके हरेक तहके समन्वयहे पारदर्शी, जवाफदेही एवं प्रभावकारी बनाइक लाग स्थानीय निर्वाचन कराइ परना उहाँक कहाइ रहे ।

ओस्टेक, निर्वाचन आयोगसे परिचयपत्र त्रुटिरहिट निर्माण कैके कम्तीमे फेन एक हप्ता आघे मतदाताके हातमे अनिवार्य रूपमे पुगाइ परना उहाँ सुझाव डेले रहैं । उहाँ मतदाता शिक्षा ओ नागरिक शिक्षाहे विशेषकैके दुरदराजसम ओ पहिल चो मत डारेलागल मतदाता तथा अल्पसंख्यक समुदायसम पुगाइ परना, प्रभावकारी मतदाता शिक्षाके लाग निर्वाचन आयोगसे नागरिक ओ स्थानीय गैरसरकारी संस्थासँग सहकार्य करेपरना सुझाव ढैरे रहैं ।

नियोकके श्रेष्ठ राजनीतिक दलहुकनहे आचारसंहितहे केवल नैतिक आधार किल नैमानके कानूनी दस्तावेजके रूपमे अवलम्बन कैके जिम्मेवारी ओ जवाफदेही बन्न सुझाव ढेले रहैं । उहाँ कलैं, “आचारसंहित पालना नैकरल उम्मेदवारहे दलसे उचित कारवाही करे सेकपरल ।” उहाँ नागरिक समाजहे निर्वाचनके सक्कु अवधिभर महिला, अल्पसंख्यक ओ अपांगता रहलहुकनके अधिकार संरक्षणके लाग सक्कु समूहसँग खासकैके पर्यवेक्षक समूहसँग समन्वयके प्रयास करेपरना बटैलैं ।

ओस्टेक, संचारमाध्यमसे सक्कु राजनीतिक दल ओ ओइनके उम्मेदवारहे उहाँहुकनके अभिव्यक्ति स्वतन्त्रतामे बिना अनुचित रोकटोक सञ्चारमे समान पहुँचके सुनिब्चितता करेपरना बटैलैं । उहाँ सञ्चारमाध्यममे निर्वाचन सम्वद्ध सामग्रीके प्रस्तुत करेबेर पूर्वाग्रहरहित हुइपरनामे जोड डेलैं ।

कार्यक्रममे जिल्ला निर्वाचन अधिकृत प्रेमराज भट्ट निर्वाचनमे आचारसंहिता नैतिक ओ कानूनी बन्धन रहल ओरसे यकर कडा पालना आवश्यक ओ अनिवार्य रहल बटैलैं । निर्वाचनमे आचारसंहिताबारे जानकारी करैटि निर्वाचन अधिकृत प्रेमराज भट्ट कलैं, “निर्वाचन आचारसंहिता टबकिल प्रभावकारी हुइठ, जब उल्लिखित बुँदाके बर्खिलाफ क्रियाकलाप करुइया तत्काल कारबाहीके भागीदार बन्ठैं ओ कारबाही करजाइठ ।” ओस्टेक, उहाँ नयाँ परिचयपत्र बनाइल मतदाता, त्रुटि सच्याइल मतदाता, स्थान परिर्वतन करल मतदाताहुक्रे अपन मतदान करना परिचयपत्र मतदान केन्द्रमे लेहे सेक्ना जानकारी करैलैं ।

ओस्टेक, कार्यक्रममे राष्ट्रिय मानव अधिकार आयोग सुदूरपश्चिम प्रदेश कार्यालय प्रमुख मोहनदेव जोशी विदेशमे रहल मतदाताहुकनहे कैसिक निर्वाचनमे सहभागी करैना बारे फेन छलफल करेपरना आवश्यकता रहल बटैलैं । उहाँ निर्वाचनमे ‘नो भोट’ व्यवस्था नैरहल ओरसे यसक फेन विकल्प हुइपरना बटैलैं ।

कार्यक्रममे नेकपा एमालेसे धनगढी उपमहानगरपालिकाके प्रमुखके उम्मेदवार रणबहादुर चन्द लोकतन्त्रहे मजबुत बनाइक लाग निर्वाचन हुइक परना रहल ओरसे निर्वाचनहे स्वच्छ, निष्पक्ष तथा भयरहित रूपमे सम्पन्न करैना वातावरण सिर्जना कैके मतदान कराइ परना बटैलैं । उहाँ अप्ने ओ अपन पार्टी यी निर्वाचनमे आचारसंहिताके पालना कैके निर्वाचनमे सहभागी हुइना प्रतिवद्धता व्यक्त करले रहैं ।

नियोगके संयोजक देवीप्रसाद खनाल सहजीकरण करल कार्यक्रममे फाया नेपालके धनपति ढुंगेल, कलेसु चौधरी, आरसी यादवलगायत मन्तव्य व्यक्त करले रहैं । कार्यक्रम नियोगके सचिव संगिता अधिकारीके अध्यक्षतामे हुइल रहे ।

जनाअवजको टिप्पणीहरू