थारु राष्ट्रिय दैनिक
भाषा, संस्कृति ओ समाचारमूलक पत्रिका
[ थारु सम्बत १३ कुँवार २६४६, बिफे ]
[ वि.सं १३ आश्विन २०७९, बिहीबार ]
[ 29 Sep 2022, Thursday ]
‘ घरवार विहिन आगलागी पीडित कहठै… ’

खाइभरिक खाद्यन्न राहत पैली, घर बनाडेउ

पहुरा | १८ बैशाख २०७९, आईतवार
खाइभरिक खाद्यन्न राहत पैली, घर बनाडेउ

पहुरा समाचारदाता
धनगढी, १८ वैशाख ।
“दुपहर करिब साढे १२ बजे ओर गाउँक पश्च्छिउ गोहुँक लरुवामे राह लागल रहे । लग्गे भैसा डोरले रहु, भैसा डह जाई कहिके भगाई गैनु । भैसाहे राह लागल ठाउँसे बनुवक किनारमे बँढनु । गोहुँक लरुवामे लागल राह गाउँ ओर सिधे टकैटी रहे । मने अभिन करिब १०० मिटर दुरे रहे । एक्कासी पश्च्छिुहा हावा चलल । हावक रफटारमे आगीक राह गाउँ पुगल । उहेसे अपन घर घारी जरे लागल डेखलेनु,” सीता चौधरी कहली ।

घर कैसिक पुग्नु । कुछ पत्ता नइपैनु । सामान भगैना टे कहाँ हो कहाँ अपन ज्यान जोगैनाफे कर्रा होगिल सिता कहली । हेरटी हेरटी सारा घरबार जरके भुवा बनगिल । घटना यिहे बैशाख ११ गते कैलाली जिल्लाके कैलारी गाउँपालिका–७ विपतपुर मुक्तकमैया बस्तीके हो । जहाँ ७१ घरधुरी मन्से ३८ घर पुरा जरके भुवा बनल बा ।

घर जरटी गैल, दुरसे हेरटी रहु कुछ बस नइचलल,’ मुक्तकमैया सिता कहली, ‘हेरटी– हेरटी घरघारी, लत्ताकपरा, खाद्यन्न लगायत सारा सामान जरके राख बनगिल । सम्झेबेर सपना हस लागठ । डेहेम लगाइल लुगरा केल बचल ।’

घरेम लागल राह बुटा डेना हार गुहार कैगिल, घरेम पटुहिया ओ २ बरसके नतिनीया बाहेक कोइ नइरहे । कुछ सामान बचाई नइसेक्नु सिता कहली । गोसिया बाहेर कमाई गैल बा, छावाफे घरे नइरहल कारण कुछ सामान बचाई नइसेकली उहाँ बटैली ।
विपतपुर मुत्तककमैया शिविरमे लग्गे–लग्गे घर रहल ओर एक घरसे दुसर घर हुइटी हावाक रफटारसंगे सारा बस्तीमे आगी लागल गाउँक भल्मन्सा हिंगुराम चौधरी बटैलै ।

विपतपुरमे आगलागिपाछे अब्बे महाविपत सुरु हुइल बा,’ गाउँक भल्मन्सा कठै, ‘आगी लागलपाछे गाउँक नल्कामे समेत पानी आइछोरल बा । बस्तीमे एक टे पहिलेसे कम पानी आए । अब्बे नल्का समेट सुखलपाछे बस्तीमे खैना पानीके समस्या, विद्युतके समस्या, खाना पकैना काठी समेट नइरहल अवस्था बा ।’

बस्ती हेरेबेर सारा घर, सामान, कुइला बनल बा । रेडक्रससे बनाडेहल त्रिपालके घरेम बैठल बटी, गर्मी महिना, हावाबतासके समय रहल ओरसे बैठना समस्या रहल उहाँ कहलै । आगी लगलक दिनसे गाउँपालिका एक दुई दिन मेस चलाडेले रहे, भल्मन्सा कहलै, –‘अब्बे टमान संघ संस्थासे खाद्यन्न तथा राहत डेगिल बा । उहीसे कुछ दिन खैना टे पुगजाई । स्थायी घर बनाडेले हावा हुरी अइलेसे मुरी खुस्टाई सेकजाई ।’

भल्मन्सा कहलै, ‘बस्तीके ३८ घरके सारा चिज जरगिल । डेहेम लगाइल कपरा केल बचल । जोरसे आगी लागल कारण बुटैना केकरो जोर नइनचलल । सारा बस्ती जरलसंगे गाउँक भरी एक–दुई नल्का बाहेक सारा नल्का पानीफे आइछोरल बा ।’

पुरा बस्ती जरलपाछे दिनभर सारा गाउँक मनै विद्यालयमे रुखुवक छौरहीमे बैठल रठी । रात हुइलेसे गाउँ भयइठ । आगलागी पाछे विद्युतफे अवरुद्ध बा । कैसिक बैठना, कैसिक सुटना समस्या बा, उहाँ कहलै । संघसंस्थासे पाइल राहात खाद्यन्न कुछ दिनपुगजैना हुइल ओरसे आब स्थायी घर बनाडेना आगलागी पीडितहुकनके माग रहल बा ।

आगलागीसे आधा जुनीसम कमाई सारा सम्पति ४ घण्टामे राख बनगिल उहे बस्तीके दिलबहादुर चौधरी बटैलै । पुर्खौली सम्पतिमे सोन, चाँदी, रहे । ग्यारेज, फर्निचरसे जोरल सारा सम्पति जरगिल,’ उहाँ कहलै, भगाईल सामानफे जरके राख बनगिल । डेहम लगाइल लुगराफे केल बचाई सेक्गिल ।’

मुख्यमन्त्री ओ कृषि मन्त्रीसे बस्तीके अनुगमन

सुदूरपश्चिम प्रदेशके मुख्यमन्त्री त्रिलोचन भट्ट ओ भुमि व्यवस्था कृषि सहकारी मन्त्री विनिता चौधरी शनिच्चरके रोज आगलागी बस्ती विपतपुरके अनुगमन करले बटै ।

अनुगमनमे गैल मुख्यमन्त्री ओ कृषि मन्त्रीहे बस्तीके ओरसे स्थायी घर बनाडेना कहटी ज्ञापनपत्र बुझाई गाउँक भल्मन्सा हिंगुराम चौधरी कहलै । उहे विच पीडिट प्रत्येक घर परिवारहे घर बनैना सहयोग पुगे कहटी प्रतिघर ५÷५ हजार नगद सहयोग कैना ओ धानके विया उपलब्ध करैना बाँचा कैगिल बा ।

जनाअवजको टिप्पणीहरू