थारु राष्ट्रिय दैनिक
भाषा, संस्कृति ओ समाचारमूलक पत्रिका
[ थारु सम्बत १३ कुँवार २६४६, बिफे ]
[ वि.सं १३ आश्विन २०७९, बिहीबार ]
[ 29 Sep 2022, Thursday ]

सुदूरपश्चिमके ७५ प्रतिशत घरधुरीसे भारत रोजगारीमे

पहुरा | २३ बैशाख २०७९, शुक्रबार
सुदूरपश्चिमके ७५ प्रतिशत घरधुरीसे भारत रोजगारीमे

पहुरा समाचारदाता
धनगढी, २३ वैशाख ।
सुदूरपश्चिम प्रदेशके ७५ प्रतिशत घरेक कोई ना कोई व्यक्ति भारतके टमान ठाउँमे रोजगारीमे रहल बटागिल बा ।

राष्ट्रिय मानव अधिकार आयोगसे विफेक रोज धनगढीमे आयोजित ‘भारतमे श्रम करे जैना नेपाली श्रमिकके मानवअधिकार’ विषयक कार्यक्रममे उ बाट बटागिल हो । आयोगसे सुदूरपश्चिम प्रदेशके पाँच जिल्ला कैलाली, कञ्चनपुर, बझाङ, डोटी ओ डडेल्धुरामे करल अनुसन्धानसे उ अवस्था भेटल अनुसन्धानकर्ता डा. गोविन्द सुवेदी बटैलै ।

पाँच जिल्ला मन्से अलग–अलग ठाउँमे गैल डेखल बा,’ अनुसन्धानकर्ता सुवेदी कहलै, ‘स्थलगत अनुसन्धानके क्रममे भारतमे रोजगारीके लाग टमान जैसिन घरेक मनै डुवार लगाकेफे गैल भेटगिल बा । कौनो कौनो घरेकसे टे झन रोजगारी करटी करटी बसाई सराई समेट करल डेखगिल बा ।’ रोजगारीके क्रममे लौटेबेर सीमानाकामे ज्यादति भोगे परलफे अनुसन्धानके क्रममे पाइल उहाँ बटैलै ।

आयोगके उपसचिव हरि ज्ञवाली तीन ठो प्रदेशमे अध्ययन अनुसन्धान करल बटैलै । उहाँ कहलै, ‘आयोगसे सुदूरपश्चिम, कर्णाली ओ लुम्बिनी प्रदेशमे भारतमे रोजगारीके लाग गैल श्रमिकके मानवअधिकारबारे अनुसन्धान कैगिल रहे । खाडी मुलुकमे जैना व्यक्तीहुकनके तथ्याङक व्यवस्थित धारल रहलेसेफे भारतमे जउइयाके तथ्याङक धारे नइसेक्गिल हो ।’ वहाँसे आइल रेमिटेन्स देशके अर्थतन्त्रमे सहयोग पुगल मने रोजगारीके क्रममे नेपालीहुक्रे अन्यायमे परेबेर राज्यसे सम्बोधन नइकरल उहाँ बटैलै ।

निडस नेपालके प्रकाश मडै भारतमे रोजगारीके अवस्थाबारे कार्यपत्र प्रस्तुत करटी सुदूरपश्चिम प्रदेशके कुल जनसंख्याके ८० घरधुरीसे रोजगारीमे गैल बटैलै । उहाँ कहलै, अब्बे मानव वेचविखनके स्वरुप परिवर्तन हुइल बा । भारतमे कमाई गैल ढेर मनै वेपत्ता हुइल टमान घटना बा ।’

कार्यक्रममे सुदूरपश्चिम प्रदेशके सामाजिक विकास राज्यमन्त्री टेक बहादुर रैका प्रदेश रोजगार नीति बनाके समस्या समाधान कैना बटैलै । प्रदेशके मुख्य न्यायधिवक्ता कुलानन्द उपाध्याय यहाँके कुल जनसंख्याके ३०/३५ प्रतिशत जनसंख्या रोजगारीमे गैल बटैलै । यहाँ दक्ष जनशक्ति उत्पादन करे नइसेकल कारण भारत लगायत अन्य ठाउँमे नेपालीहुक्रे रोजगारीमे जैना बाध्य रहल उहाँ बटैलै ।

कैलालीके सहायक प्रमुख जिल्ला अधिकारी यज्ञराज जोशी रोजगारीमे जैना व्यक्ति अपनही वडा कार्यालयमे जानकारी कैना जरुरी रहल बटैलै । सुप स्वास्थ्य निर्देशनालयके निर्देशक डा. जगदिश जोशी सीमानाकासे लौटल व्यक्तिहुकनके स्थास्थ्य परिक्षण हुइटी रहल बटैलै ।

कार्यक्रममे धनगढी उपमहानगरपालिकाके सामाजिक विकास अधिकृत टंक विष्ट उपमहानगरपालिका १९ वडासे रोजगारी लाग बाहेर जैना व्यक्तिके तथ्याङक राखल बटैलै । गैरसरकारी संस्था महासंघ सुदूरपश्चिम प्रदेश अध्यक्ष देवी प्रसाद खनाल मुख्यमन्त्री सुदूरपश्चिम मुख्यमन्त्री रोजगारके लाग भारतमे जैना युवाहे आब स्वदेशमे रोजगारी डेना कहल मने कार्यान्वयनभर नइकरल बटैलै ।

फाया नेपालके धनपति ढुङेल यहाँके ६०/६५ प्रतिशत जनता कृषिमे आधारित रहल मने दलके घोषणापत्र अनुसार कार्यान्वयन नइहुइल बटैलै । टे«ड यूनियन काँग्रेसके वरिष्ठ उपाध्यक्ष तेजराज भट्ट जनताप्रति राज्य उत्तरीदायी हुई पर्ना जरुरी रहल बटैलै ।

कार्यक्रममे दलित महिला अधिकार मञ्चके अध्यक्ष सावित्रा घिमिरे, सिविन नेपाल हरिलाल चौधरी, बार कैलालीके सचिव प्रेमबहादुर शाही, मानव अधिकारका लागि एकल महिला प्रदेश अध्यक्ष सुमन शर्मा, सुदरपश्चिम समाजके निरङ चौधरी, ओरेकके विनु राना, पत्रकार महासंघ प्रदेश सचिव हरि जोशी, शसस्त्र प्रहरीके डिएसपी देवराज जोशी लगायत अपन बाट राखद रहिट । राष्ट्रिय मानव अधिकार आयोग सुदूरपश्चिम प्रदेश प्रमुख मोहनदेव जोशीके अध्यक्षतामे हुइल कार्यक्रमके संचालन आयोगके अधिकृत गणेशराज जोशी करले रहिट ।

जनाअवजको टिप्पणीहरू