थारु राष्ट्रिय दैनिक
भाषा, संस्कृति ओ समाचारमूलक पत्रिका
[ थारु सम्बत १३ कुँवार २६४६, बिफे ]
[ वि.सं १३ आश्विन २०७९, बिहीबार ]
[ 29 Sep 2022, Thursday ]
‘ स्थानीय तह निर्वाचन २०७९ ’

मौन अवधि सुरु

पहुरा | २८ बैशाख २०७९, बुधबार
मौन अवधि सुरु

काठमाडौं, २८ वैशाख । स्थानीय तह निर्वाचनके लाग मंगर रात १२ बजेसे मौन अवधि लागू हुइल बा । निर्वाचन आयोग पालिकाका प्रमुख/अध्यक्ष, उपप्रमुख/उपाध्यक्ष, वडाध्यक्ष ओ सदस्य चुन्न मतदान सुरु हुइना ४८ घण्टाआघेसे मौन अवधि तोकल हो । मतदान नैओराइटसम मौन अवधि कायम रहि ।

निर्वाचन धाँधलीरहित, स्वच्छ, निष्पक्ष, भयमुक्त वातावरणमे सम्पन्न करना मौन अवधि तोकल हो । मौन अवधिभर दल, ओइनके भ्रातृ संगठन, उम्मेदवार, संघ संगठनलगायत राजनीतिक प्रचार, भेला/गोष्ठी आयोजना करे नैपैना आयोगके आचारण निर्देशिकामे उल्लेख बा । निर्देशिकाविपरीत मौन अवधिमे मतदाता प्रभावित पर्ना गतिविधि करलेसे उम्मेदवारी रद्दसे लेके १ लाख रुपैयाँ जरिवानासमके कारबाही हुइ सेक्ना निर्वाचनसम्बन्धी कानुनमे उल्लेख बा ।

प्रमुख निर्वाचन आयुक्त दिनेश थपलिया आचारसंहिता ओ मापदण्ड उल्लंघन करना व्यक्ति वा संस्थाहे कारबाहीके दायरामे नन्ना बटैलैं । मौन अवधिके लाग जारी करल निर्देशन पालना हुइल÷नैहुइल निगरानी, नियमन ओ अनुगमन करना ओ आवश्यक परलेसे उल्लंघनकर्ताउप्पर कारबाही करना सब प्रमुख जिल्ला अधिकारीहे विशेष परिपत्रमार्फत अधिकार प्रत्यायोजन करना फेन उहाँ जानकारी डेलैं । ‘मौन अवधिमे करना पैना ओ नैपैना का–का हो कना सबहे स्पष्ट बारु। हम्र मौन अवधिमे पालना करेपरना आचारसंहिता सार्वजनिक करसेकले बटि,’ प्रमुख आयुक्त थपलिया कलैं, ‘एक सचिव ओ डेढ दर्जन सहसचिवके नेतृत्वमे छुट्टाछुट्टे संयन्त्रहे मौन अवधिके गतिविधि अनुगमन ओ निगरानी तथा उल्लंघन हुइल ठाउँके ठाउँ कारबाहीके दायरामे नन्ना मेरिक टमान जिल्लामे परिचालन करले बटि ।’

मौन अवधिमे मतदाता प्रभावित परना दुष्प्रयास हुइ सेक्ना कटि आयोग उहिनहे रोक्न ओ ओइसिन अपराधमे संलग्नहे कारबाहीके दायरामे नन्ना सूचना संकलकके रूपमे सयसे ढेर स्थानमे ‘सूक्ष्म अनुगमनकर्ता’ खटाइल बा । कोइ मतदाता प्रभावित परना पैसा बँटनालगायतके गतिविधि करल जानकारीमे अइलेसे आयोग, प्रमुख निर्वाचन अधिकृत, प्रमुख जिल्ला अधिकारी, सुरक्षा निकायलगायतहे तत्काल खबर करना प्रमुख निर्वाचन आयुक्त थपलिया आग्रह करले बटैं ।

निर्वाचन आयोग ऐन, २०७३ के दफा २३ के उपदफा १ मे ‘निर्वाचन आचारसंहिता कार्यान्वयन ओ अनुगमन’ सम्बन्धी व्यवस्था बारु। उहिनहे टेकके आयोग ‘मौन अवधिमे पालना करेपरना आचरण’ शीर्षकमे १८ बुँदे निर्देशन जारी करले बा । ऐनके उपदफा ३ मे आयोगसे डेहल आदेशबमोजिम कारबाही नैरोक्न वा बदर नैकरना राजनीतिक दल, उम्मेदवार, व्यक्ति, संस्था, पदाधिकारी वा निकायहे १ लाख रुपैयाँसम जरिवाना करे सेक्ना व्यवस्था बा ।

उपदफा २ मे निर्वाचन उल्लंघनसम्बन्धी उजुरीके छानबिनके क्रममे ‘जाँचबुझ एवं अनुगमन करेबेर किहुनसे आचारसंहिता पालना नैहुइ वा उल्लंघन हुइल डेखाइलमे ओइसिन कार्य तुरुन्त रोक्न वा बदर करेक लागि आयोग सम्बन्धित राजनीतिक दल, उम्मेदवार, संस्था, पदाधिकारी वा निकायहे आदेश डेना’ उल्लेख बा । ओइसिन आदेश अटेरी करलेसे उम्मेदवार वा संघसंस्थाहे सफाइके मौका पेस करना आदेश डेजाइ ओ उहिनसे चित्तबुझ्ना जवाफ नैअइलेसे उम्मेदवारी रद्द ओ जरिवाना करजाइ ।

उपदफा ४ मे उम्मेदवार आचारसंहिता उल्लंघन करलेसे निर्वाचन स्वतन्त्र, स्वच्छ ओ धाँधलीरहित तवरसे हुइ नैसेकलमे आयोग विश्वस्त हुइलेसे स्पष्ट आधार ओ कारण खोलके उम्मेदवारी रद्द करे सेक्ना व्यवस्था बा । उम्मेदवारी रद्द करनाआघे सम्बन्धित उम्मेदवारहे सफाइके उचित मौका भर डेहेपरना बा ।

निर्वाचन आयोगके प्रवक्ता शालिग्राम शर्मा पौडेल आचारसंहिता उल्लंघन हुइल÷नैहुइल कडाइके साथ अनुगमन करना जानकारी डेलैं । उम्मेदवार ओ उहाँहुकनके फ्यानहुकनके सामाजिक सञ्जालमे आचारसंहिताविपरीत ‘स्पोन्सर्ड पोस्ट’ हुइ सेक्ना कटि आयोग मौन अवधि सुरु हुइनाआगे अइसिन सामग्री हटैना ओ नयाँ पोस्ट नैकरना फेन निर्देशन डेले बा । आयोगके निर्देशनविपरीत कौनो सामग्री पोस्ट हुइल÷नैहुइल नियमन करना नेपाल दूरसञ्चार प्राधिकरणहे निर्देशन डेहल बा ।

पूर्वप्रमुख निर्वाचन आयुक्त भोजराज पोखरेल साम, दाम, दण्ड, भेद जा–जा लगाके हुइलेसे फेन निर्वाचन जिटेपरना कना प्रवृत्ति राजनीतिक दल ओ उम्मेदवारमे डेखाइल बटैलैं । ओइसिन प्रवृत्ति मतदान हुइना कुछ दिनआघे व्यापक बनल बा ।

आयोगके अनुसार मौन अवधिमे निर्वाचन प्रचारप्रसारलगायत कौनो फेन छलफल, अन्तरक्रिया, सभा, सम्मेलन, गोष्ठी करे नैमिलठ । मतदान स्थलके तीन सय मिटर वरपर राजनीतिक दल तथा उम्मेदवारके प्रचार सामग्री ढरे नैमिलि । ओइसिन सामग्री डरलेसे फेन मौन अवधि सुरु हुइनाआघे हटैना आयोग निर्देशन डेले बा ।

मौन अवधिमे सामाजिक सञ्जाल, अनलाइन, छापा वा औरे कौनो फेन माध्यमसे राजनीतिक दल वा उम्मेदवारके पक्ष वा विपक्षमे सन्देश, सूचना वा प्रचारप्रसारके सामग्री पोस्ट वा सेयर करना÷करैना नैपाजाइ । ‘मौन अवधिमे कौनो फेन प्रचारप्रसार हुइना म्यासेज प्रवाह हुइ नैडेना मेरिक व्यवस्था मिलैना दूरसञ्चार प्राधिकरणहे निर्देशन डेले बटि,’ आयोगके प्रवक्ता शालीग्राम शर्मा पौडेल कलैं ।

आयोगके निर्देशनअनुसार मतदानके दिन शुकके रोज राजनीतिक दल, उम्मेदवार तथा दलके भ्रातृ संगठन वा सम्बन्धित व्यक्ति निर्वाचन चिह्न वा मत संकेत रहल पहिरन वा ब्याज लगाइ नैमिलि । उम्मेदवारके पहिचान डेखैना सांकेतिक पोसाक, वस्तु लगैना, बोक्न ओ देखाइ फेन नैपाजाइ । कौनो फेन सवारी प्रयोग कैके आउजाउ करना वा किहुनहे लैजैना वा नाने नैमिलि । सात महिनासे ढेरके गर्भवती, सुत्केरी, अपन बच्चा बोकल महिला, किरियापुत्री, शारीरिक रूपसे अशक्त वा अपांगता हुइल व्यक्ति, हिँडडुल करे नैसेक्ना ज्येष्ठ नागरिक जैसिन मतदाताके लाग भर निर्वाचन अधिकृत अनुमति डेहल सवारी प्रयोग करे बाधा नैपुगि ।

मतदान करे जाइबेर प्रज्ज्वलनशील ठोस वा तरल पदार्थ, मोबाइल, क्यामेरा साथमे लेके जाइ पैले नैहो । नशालु पदार्थ, मादक पदार्थ सेवन कैके मतदानमे जाइ नैमिलि । मतदाताहे मतदान करे जैना वा मतदान करनासे वञ्चित करैना अभिप्राय झूटा अफवाह, भ्रामक समाचार फैलैना वा कौनो अवरोध करना वा कराइ नैपैना निर्देशिकामे उल्लेख बा । राजनीतिक दलसे अपन प्रभाव बह्रैना इतरमे मतदान हुइ सेक्ना आकलन कैके मतदाताहे मतदान प्रक्रियामे अवरोध करना सम्भावनाहे ध्यानमे ढैके सुरक्षा निकायसे सूक्ष्म निगरानी बह्रैले बा ।

मतदाता प्रभावित परना दल तथा उम्मेदवारके निर्वाचन चिह्न, झन्डा वा कौनो संकेत अंकित कपडा, टिसर्ट, ज्याकेट, गम्छा, टोपी वा क्याप भेस्ट, लोगो, म्याच, मास्क, स्टिकर लगैना वा झोला बोक्न रोक लगाइल बा ।

मतदान करे जाइबेर मतदाताके शरीरके कौनो भागमे बनाइल उम्मेदवारके फोटु, दल वा उम्मेदवारके निर्वाचन चिह्न वा झन्डा अंकित ट्याटु प्रदर्शन करे नैमिलि । केक्रो पक्ष वा विपक्षमे एसएमएस, फेसबुक, मेसेन्जर, ट्वीटर, भाइबर, युट्युब, इन्स्टाग्रामलगायतके सञ्जाल प्रयोग कैके तथ्यहीन सामग्री सम्प्रेषण करे फेन नैपैना आयोग जनैले बा ।

मौन अवधिमे का करे नैमिलि ?

– निर्वाचन प्रचारलगायत कौनो फेन छलफल, अन्तक्र्रिया, सभा, सम्मेलन, गोष्ठी करना,

– मतदानस्थलके तीन सय मिटर वरपर राजनीतिक दल तथा उम्मेदवारके प्रचार सामग्री ढरना,

– सामाजिक सञ्जाल, अनलाइन, छापा वा और कौनो फेन माध्यमसे दल वा उम्मेदवारके पक्ष वा विपक्षमे सन्देश, सूचना वा प्रचारके सामग्री पोस्ट वा सेयर करना ।

जनाअवजको टिप्पणीहरू