थारु राष्ट्रिय दैनिक
भाषा, संस्कृति ओ समाचारमूलक पत्रिका
[ थारु सम्बत ०२ सावन २६४८, बुध ]
[ वि.सं २ श्रावण २०८१, बुधबार ]
[ 17 Jul 2024, Wednesday ]

संघ ओ प्रदेश सरकार गिरैना बनैना नागरिक उन्मुक्तिके हाठमे बाः रेशम

पहुरा | १६ जेष्ठ २०८०, मंगलवार
संघ ओ प्रदेश सरकार गिरैना बनैना नागरिक उन्मुक्तिके हाठमे बाः रेशम

पहुरा समाचारदाता
हसुलिया, १६ जेठ ।
पूर्वसांसद रेशम चौधरी संघ ओ प्रदेश सरकार नागरिक उन्मुक्ति पार्टीके हाठमे रहल बटैले बाटै ।

मंगरके हसुलियामे हुइल कार्यक्रमहे सम्बोधन कैटी उहाँ संघ ओ प्रदेश सरकारहे गिरैना, हिलैना, बनैना नागरिक उन्मुक्ति पार्टीके हाठमे रहल बटाइल हुइट । उहाँ अपने थारुहुक्रनके हक अधिकार, पहिचानके लाग साढे ५ बरस जेल जीवन ओ ढेर संघर्ष करल फेन बटैलै ।

उहाँ कहलै– ‘मै साढे ५ बरस जेल जीवन बिटैनु, ३ बरस भारतमे बिटैनु मने मन कमजोर नैहुइल । हमार ढेर नेता गैलै, हमार दुईचार जाने थारु नेता होके फेन गैलै मने कुछ नै हुइल । आब हमार नागरिक उन्मुक्ति पार्टी गैल बा । बहुट कुछ हुइ । संघ तथा प्रदेश सरकार हिलैना, गिरैना ढलैना, बनैना नागरिक उन्मुक्तिके हाठमे रहल बा ।’

थारुहुक्रनके पहिचान मेटजैटी गैलमे उहाँ दुःख फेन व्यक्त करलै । ‘हमार लहरा छुरैना पर्वत्वा औरेजे लैलै, हमार खर कट्ना बन्वा औरे जनहनके होगैल, हमार पटिया टुर्ना बन्वा फेन नैरहल,’ उहाँ कहलै– ‘हमार टे पहिचान फेन नैरहल, हम्रे टे कमैया होगैली । हम्रे सुकुम्बासी बन्टी अब्बे औरेक देशमे जाके झोप्री बनुइया व्यक्ति होसेक्ली ।’

उहाँ अपने अकली रेशम चौधरी होके नैपुग्ना बटैलै । उहाँ थारुनके हक अधिकार तथा पहिचानके लाग सक्कु जाने एकजुट हुइ पर्ना बटैलै ।

नागरिक उन्मुक्ति पार्टीके संरक्षकसमेत रहल चौधरी आममाफी पाछे आपन कार्यकर्ताहे भेटघाट करे मंगरके हसुलिया पुगल रहिट ।

जनाअवजको टिप्पणीहरू