थारु राष्ट्रिय दैनिक
भाषा, संस्कृति ओ समाचारमूलक पत्रिका
[ थारु सम्बत ०३ माघ २६४३, शनिच्चर ]
[ वि.सं ३ माघ २०७७, शनिबार ]
[ 16 Jan 2021, Saturday ]

थारु गाउँमे माघक् उल्लास

पहुरा | २९ पुष २०७७, बुधबार
  • 777
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
    777
    Shares
थारु गाउँमे माघक् उल्लास

माघ १ गतेसे लौव अध्याय सुरुवात

पहुरा समाचारदाता
धनगढी, २९ पुस ।
पुस महिनाके अन्तिम दिनसे पश्चिम नेपालके थारु वस्तीमे माघक् रौनक बह्रल बा । दाङसे कञ्चनपुरसमके थारु वस्तीमे विशेष रौनक छाइल हो ।

ओइसिक टे आमनेपालीहुक्रे माघ १ गते माघे तथा मकर संक्रान्तिके रुपमे आ–अप्ने रिती संस्कृति अन्सार मनैलेसे फेन थारु समुदायमे लौव अध्याय अर्थात लावा सालके सुरुवात हुइना टिहुवारके रुपमे हर्षोल्लासके साथ मनैटी आगिल बा ।

कामके शिलशिलामे घरसे दुर–दुर रहल डाडुभैया टिहुवार मनाइक लाग गाउँघरमे जम्मा हुइल बाटै । चेलीबेटीहुक्रे लैहर घर पुगल बाटै । गाउँक् नेतृत्वकर्ता अर्थात बरघर, भल्मन्सा, देशबन्धिया, गुरुवा, भर्रालगायत चयन माघ महिना मन्से चयन हुइना हुइलओरसे नेतृत्व चयनके बहस सुरु हुइटी रहल बा । यत्रहि किल नाई थारुवस्तीमे माघौटा नाच, सखिया नाच, झुमरा नाच, लाठी नाच, ढमारलगायत लोक गीत संगे डफ ओ मन्ड्राके आवाज फेन गाउँघर गुन्जे लागल बा ।

तीन दिनसम मनैना टिहुवारके सुरुवात पुसके अन्तिम दिन अर्थात आजसे सुरु हुइल बा । माघ १ गते लग्गेक् लडिया, टलुवा, पोखरीमे लहैना ओ आ–आपन नातपातहुकनहे भेटघाट कर्र्ना, आपन उमेरसे बरवार मनैनसे अर्शिवाद लेना ओ छोट मनैन्हे अर्शिवाद डेना प्रचलन रहल बा । यी दिन फेन आपन घरमे रहल ढिकरी लगायतके पाकवान खैना ओ खवाइना चलन रहल फेन थारु बुढापाकाहुकनके कहाई बा ।

मकर संक्रान्तिके दिन लहैलेसे बरसभरिक करल पाप वा नैमजा काम, कुकर्म, वैमनष्यता धो जिना ओ पूण्य प्राप्त हुइना धार्मिक जनविश्वास रहल बा । यी दिन पशुपक्षी बध नैकरेक पर्ना धार्मिक मान्यता बा । यी दिनहे थारु समुदायमे लौ बरसके रुपमे मानजाइठ ।

माघ टिहुवारके टेसर दिन (माघ २ गते) हे खिच्रहवा कहिजाइठ । यी दिनसे माघी देवानी तथा खोजनी बोजनी सुरु हुइना थारु बुद्धिजीवीहुक्रे बटैठै । थारु नागरिक समाज कैलाली संयोजक दिलबहादुर चौधरीके अनुसार माघ टिहुवार पुस ओराइल दिनसे सुरु हुइना हुइलओरसे माघ २ गतेहे टिहुवारके टेसर दिन मानेक पर्ना बटैठै । जौन दिनसे थारु गाउँ–गाउँमे लावा नेतृत्वकर्ता एंव भल्मन्सा, बरघर, देशबन्धिया, अघरिया, भर्रालगायत चयन कर्ना या अनुमोदन करजाइठ । असिक नेतृत्व छान्न कामहे ‘माघी देवानी’ कहिजाइठ । असिन प्रचलन दाङसे पश्चिउ कञ्चनपुरसम रहल बा ।

एकठो परिवारके सक्कु सदस्यहुक्रे एकजुट होके अइना दिन पारिवारिक गतिविधि कसिक आघे बह्रैनावारे फेन छलफल करजाइठ । इहीहे ‘खोजनीबोजनी’ फेन कहिजाइठ ।

‘खोजनीबोजनीमे आघेक बरस परिवारमे करल गतिविधि, आर्थिक हरहिसाबबारे फेन छलफल करजाइठ’, संयोजक चौधरी कहलै–‘छलफलसे अगामी दिनके लाग परिवारके योजना तर्जुमा फेन करजाइठ ।’

सुरिक सिकार अभाव

थारू समुदायके बर्का टिह्वार एवं लावा बरस माघके लाग सुवर अभाव हुइल बाटै ।

मघहा जिटाके लाग थारु बस्तीमे सुवर अभाव हुइल हो । धनगढी नगरपालिका वडा नं. ५ तारानगरके भलमन्सा गोठु चौधरी जिटाके लाग सुवर पैना मुस्किल रहल बटैले बाटै । ‘माघक लाग प्रायः सक्कु जाने सिकार अर्डर कैना हुइल ओरसे ढिउर सिकार चाहठ,’ भलमन्सा चौधरी कहलै– ‘माघक लाग २, ३ ठो सुवर हुइलेसे फेन नाइ पुगठ् ।’

ओस्टके कैलारी गाउँपालिका वडा नं. ८ दुधिया गाउँके भलमन्सा राजाराम चौधरी बलजबरे जिटाके लाग सुवर भेटाइल बटैले । उहाँ विगतसे महंगामे सुवर किने परल बटैलै ।

ओस्टके कैलारी गाउँपालिका वडा नं ३ मर्कामुडा गाउँमे फेन सुवर नैभेटाके सिकार बिना माघ मनैना समस्या आइल बटाइल बा । गाउँक भलमन्सा भोला चौधरी आपन गाउँमे कोइ फेन सुरिक सिकार नाइ भेटाइल बटैलै ।

गाउँ गाउँमे मासु पसल ओ बुच्चरीनके कारण सुवर नाइ भेटाइल भलमन्सा चौधरी बटैलै । उहाँ बुच्चर गाउँक मोलसे ढिउरमे सुवर खरिद कैके लैजैना हुइल ओरसे सुवर अभाव हुइल बटैलै ।

  • 777
    Shares

जनाअवजको टिप्पणीहरू