थारु राष्ट्रिय दैनिक
भाषा, संस्कृति ओ समाचारमूलक पत्रिका
[ थारु सम्बत ०८ कुँवार २६४५, शुक्कर ]
[ वि.सं ८ आश्विन २०७८, शुक्रबार ]
[ 24 Sep 2021, Friday ]
‘ कविता ’

का लिखु टिकापुर !

पहुरा | १२ भाद्र २०७८, शनिबार
का लिखु टिकापुर !

यी डुन्या संसारम टुहार बारेम सबजन जान सेक्ल
ऊ टुहार हक अधिकार मङ्लक हो कैक मान सेक्ल
आफन पहिचान मङ्लो दासताके जन्जिर टोर्लो
छो छो बरस सम कारागारके दुःखकष्ट खान सेक्लो ।
खै लिखु टिकापुर टुहार दुःखक कथा ?

आझसस सरकार न्याय दिह निस्याकठो
कसिन न्यायक मन्दिर हो यी देशके
सत्य निष्ठाम रैख फैसला लिह निस्याकठो
सदियौसे टुहिन कोलक घानाम ट्याल प्यारसक पेल्टी रहल
गुलगुल पिठाके रोटी बनाइअसक बेल्टी रहल
मच्छी मच्छी मेग्घ्वा कटी लोभारके लोभारल
हमार पुर्खन्हक पस्नक पन्ह्वाम खेल्टी रहल ।
खै का लिखु टिकापुर टुहार दुखक कथा ?

ओहमार टुँ जुर्मुइलो, हाठम कोद्रा लेक, फह्रवा लेक
आपन स्वतन्त्रताके लाग, आपन अधिकारके लाग
तर टुहिन ओह जालम फसैना जुक्ति कर्टि बा
हमार घर अङ्गनाम बास बैस्ख हमन मर्टि बा
शाक्ति ओ शासनके अहङ्कार जरजर आँधर बन्ख
आज फे शासन सत्ताके आडम हमार बस्ती जर्टि बा
खै का लिखु टिकापुर टुहार दुःखक कथा ?

सरकार आँढर हो कि संविधान जान निसेक्जाइठो
थारू गाउँबस्तीम स्वतन्त्रताके लहर लान निसेक्जाइठो
टु दुःखक पिल्सटी बाटो, टु सोक सुर्टा दुबल बाटो
हमार पहिचान हक अधिकार अछोर्क आन निसेक्जाइठो
खै का लिखु टिकापुर टुहार दुःखक कथा ?

टिकापुर म्वार फे हो ऊ बम्ह्नक फे हो
ओहमार त हम्र पर्वत्वमसे आइलम गाँस देली
टिकापुर ऊ क्षेत्रीक फे हो,
ओहमार त हम्र बाँस फे देली
तर आज बाहुन क्षेत्री थारू काकर भिन्नता बा ?
टुन्हक आन्दोलन क्रान्ति हुइल टु शासन चलाइटो
हमार आन्दोलन जातीय हुइल हमन कारागारम पेलाइटो
कसिन आँखीले हेर्ठो सरकार ?
टुहार आँखिक सान बिग्रल हो कि
सद्द दास बनैना बान बिग्रल हो कि
टुहार पह्रल ज्ञान बिग्रल हो कि ?
काजे लोकतन्त्रम फे हमार पहिचान मेटाइ ख्वाजटो
मिल्ख सँग आघ बहर्ना ठाउँम सटाइ ख्वाजटो
मै बुझ निस्याकठु
खै लिखु टिकापुर टुहार दुःखक कथा ?

सुर्खेत

जनाअवजको टिप्पणीहरू