थारु राष्ट्रिय दैनिक
भाषा, संस्कृति ओ समाचारमूलक पत्रिका
[ थारु सम्बत ०९ बैशाख २६४५, बिफे ]
[ वि.सं ९ बैशाख २०७८, बिहीबार ]
[ 22 Apr 2021, Thursday ]
.

साहित्य

‘डुटिया’ ह्यारबेर

‘डुटिया’ ह्यारबेर

जब मनै इ ढरटिम पहिला पैला ट्याकट टबसे वाकर जिनगि जिना संघर्स सुरु हुइट । आपन जिनगि जियक लाग संघर्स कर भिरठ् । संघर्स कर्ना क्रम म समय ओ परिस्ठिटि लेख वाकर जिनगिक डौरानके घोर्वा कबु कहाँ ट कबु कहाँ पुगाइठ । कबु खुसि कबु डुख झेल्टि जिनगि
मै व मोर भरुवा

मै व मोर भरुवा

अइया, कट्रा गम्हिरयी कपारीक भरुवा,बोकु कलक कर्रा बा,नै बोकु कलक झन कर्रा पराईठ,कैसिके मोरसँग चप्कल,बाजेक पालासे,मुक्त हुइल समयमे,यी छोरि कहिट बाबा,टौनमोर पालम और चपकल ।काल्हिक आइल बहार,लडियक ढिकुवक बाली काटल,लडियक ढिकुवक घर पाटल,का
लुइस ग्लुक के दुई कविता

लुइस ग्लुक के दुई कविता

१. टुँ टिरेन पकरठोव हेरा जैठोटुँ मोका मे आपन नाँउ लिखठोव हेरा जैठोयि दुनिया संसार मे महा ढेर असिन ठाँउ बा,हाँ, महा ढेर असिन ठाउँ बाजहाँ टुँ आपन यौवन लेके जैठोलकिन कब्बो नै घुमके आइसेक्ठो… २. उ कहलस्, मै आपन हाँठ से मिच्छा रखलुँ,मैं उरक
का कर टुँ डाडु

का कर टुँ डाडु

जाँर डारु पिक गँवलियन हसैंठो का कर टुँ डाडुकमजोरी डेखैटी डुस्मनन् नचैठो का कर टुँ डाडु । डाईबाबा भौजिकसंग घरक डेह्री कुठ्ली रुईटा,घर पर्यारह सारिकञ्सा सटैठो का कर टुँ डाडु । मनैक आघ टुँहिन म्वार डाडु कना फे सरम लागट,जहोर जिठो ओहर
सोनपरी

सोनपरी

मनैनक जिवन एकठो संघर्ष हो कठै । हुइना फे हो ।केउ संघर्ष कर चाहट, केउ नई सेकक दुनियाँ छोर चाहट।अपन घाँटीम लसरी बाहनके मुअक लाग संघर्ष करे परट कलेसे ।बाचक लाग कसिक नी परी ।मुना जिना संसारके रिट हो, यिहिन केउ नाट बदले सेकी बदलक फे नई चाही।जब
सोरठ

सोरठ

एक देशमें कक्षराज नामको एक राजा रहय । बो राजा और बोके राजनगरी बहुत खुसहाल रहय । राजाके बहुत साल हुइगय रहय पर बोके लर्का नाभय रहय । एक दिन राजा अपन गुरूके बुलायके बिचरबायी । राजा कहि, मिर तमान साल हुइगय हय बिहाके, पर बालक नाभय हय ।
ठन्डा बरफ

ठन्डा बरफ

चैट मैन्हाँ सक्कु खेट्वा खालि हुइल रह । टभुनफे म्वार मन जुन्हुँक रहर लेक भरिभराउ रह । सल गाउँक मनै डिनभर मस्रि डाँइट ओ सन्झ्या क पोटाकेक वाह्रा डुङ–डुङ खाँइट । और सालक जस्ट हम्र बटैया खेट्वा नि पाक नि लगाइल रलहि । घर फे टौलान
आइल होरि

आइल होरि

खुसियाके होरि हो बौछारलाल पियर गुलाबि चारुओररंगले सबओर रंगिन जोर । पिचकारि भर भर अबिर रंगखेलब होरि होक चारु भाइ डंग ।हर मुहँम् बा आब अइसिन हालआझ पहारमे टो तराइमे काल्ह । होरिके बहानाम संघरिया सब आइरिस राग हटाके डुस्मनहे चलि
सुईनले बोल हमर

सुईनले बोल हमर

हुरी बतास आईगमे पोषलसच बोलैके सहाँस राखैचीधर्तिके शेर सपुत रहलअन्यायके बिरुद्ध हमला बोलैचीभरल अदालतमे दोषी ठहराईतलाल कलम बिकल देखनीन्यायके कण्ठ निमोठने रहलदेशके शासके मति देखनी ।।। बस्ती–बस्ती टोल–टोलमेयाब गितमे धुन भरबस्वरमे
पँचुवा थारु राष्ट्रिय साहित्य सम्मेलन सुर्खेतमे

पँचुवा थारु राष्ट्रिय साहित्य सम्मेलन सुर्खेतमे

सागर कुस्मीध्नगढी, ५ चैत । पँचुवा थारु राष्ट्रिय साहित्य सम्मेलन २०७७ सुर्खेतमे हुइ जैटी बा । थारू भाषा, साहित्य, कला संस्कृति संरक्षण कैना उद्देश्यसे इहे चैत २१ ओ २२ गते थारु राष्ट्रिय साहित्य सम्मेलन आयोजना कैगैल हो । थारू लेखक