थारु राष्ट्रिय दैनिक
भाषा, संस्कृति ओ समाचारमूलक पत्रिका
[ थारु सम्बत ०९ बैशाख २६४५, बिफे ]
[ वि.सं ९ बैशाख २०७८, बिहीबार ]
[ 22 Apr 2021, Thursday ]
.

दस्तावेज

भजहर

भजहर

आजकल वसन्त ऋतुके हरियालीसँग गाउँघरमे भजहर पर्वके रौनक बह्रल बा । हिन्दुनके महान पर्व होली वर्षके अन्तिम पर्व हो । यकर आघे बितल तिहारह ओ अइटीरहलक समयह बिदाइ करना ओ नयाँ सालके आगमन (नयाँ वर्षह निउटा) करेबेला भजहर भग्ना चलन बा । भजहर
गुरुवा संरक्षणमे जुटल स्थानीय तह

गुरुवा संरक्षणमे जुटल स्थानीय तह

दुर्जनकुमार चौधरीधनगढी, ६ वैशाख । थारु गुरुवाहुकनके प्रथा दिन प्रतिदिन कमजोर हुइटी गिल बा । पुख्र्यौली गुरुवाहुकनके देहावसान संगे गुरुवा प्रथा कमजोर हुइल हो । पुराना गुरुवा विस्थापित हुइना ओ नयाँ पुस्ताके युवाहुक्रे गुरुवाप्रथाप्रति
रानाथारु समुदायके परम्परागत घर लोप हुइटी

रानाथारु समुदायके परम्परागत घर लोप हुइटी

कञ्चनपुर, २० फागुन । परम्परागत रुपमे आर्कषक डिजाइन माटीसे लिपपोट करल कठ्वासे बनल घर । अनुभवी मिस्त्रीसे बनाइल आधुनिक पक्की घरसे चिटिक्क डेखजैना घर रानाथारु समुदायके एक मौलिक ओ साँस्कृतिक पहिचान हो । मने पाछेक समयमे इ मेरके परम्परागत
पटेला थारु संग्राहलय संचालनमे ढिलाई

पटेला थारु संग्राहलय संचालनमे ढिलाई

पहुरा समाचारदाताधनगढी, १९ फागुन । कैलालीके धनगढी उपमहानगरपालिका वडा नम्बर ७ पटेलामे बनल थारु सांस्कृतिक संग्राहलय संचालनमे ढिलाई हुइल बा । निर्माण कम्पनीसे निर्माण सम्पन्न कैके धनगढी उपमहानगपालिकाहे १७ महिना आघे हस्तान्तरण
ब्रिटिस सरकारहे रञ्जित चौधरी कैसिक पराजित करलैं ?

ब्रिटिस सरकारहे रञ्जित चौधरी कैसिक पराजित करलैं ?

अधिकांश पर्सागढीके बारे जन्ले हुइबी । मने नेपालके भूभाग ब्रिटिस सरकारसे कब्जा करना क्रममे नेपाली अंग्रेजहे पराजय करना टमान गढीमध्येके एक हो पर्सागढी । यिहिनहे और विस्तृतरुपमे कलेसे वि.सं. १८७१ मे नेपाल सरकार ओ भारतके तत्कालीन
थारु संस्कृति ओ संकट

थारु संस्कृति ओ संकट

रिटभाँटबिना गाउँ, ट्वाल, समाजक कौनो माने (अर्थ) नैरहठ । रिटभाँट कलक रहान, पेहरान, लवाइखवाइ, बोलिबट्कोहि, नाँचखोर, गिटमृडंग, पूजाआँटिसे सड्ड नखाइल रहठ । रिटभाँट ओ समाज नुँह ओ मासहस चप्कल रना हो, एक ड्वासरक सहारासे । ओहमार रिटभाँटह जिन्गि
थारु गाउँमे माघक तयारी तीब्र

थारु गाउँमे माघक तयारी तीब्र

पहुरा समाचारदाताधनगढी, २२ पुस । थारु समुदायके लावा बरस माघके लाग कैलालीके थारु गाउँमे तयारी सुरु हुइल बा । थारु समुदायके सबसे बरवार टिहवार रहल ओरसे अँठ्दिन आघेसे नै तयारी करल हो । अब्बे थारु समुदायके मनै माघके लाग आवश्यक पर्ना सामानके
अन्नबाली ढर्ना ‘डेहरी’ लोप हुइटी

अन्नबाली ढर्ना ‘डेहरी’ लोप हुइटी

कञ्चनपुर, २८ अगहन । खेट्वासे भित्र्याइल अन्नबाली ढर्ना परम्परागत रुपमे प्रयोग हुइटी आइल कञ्चनपुरके थारु समुदायके डेहरी लोप हुइटी गैल बा । एकचो बनाइलपाछे वर्षौंसम प्रयोगमे लाने सेकजैना डेहरी थारु समुदायके पाछेक पुस्ता आधुनिकताहे
थारु संग्रहालयसे संस्कृति संरक्षणमे टेवा

थारु संग्रहालयसे संस्कृति संरक्षणमे टेवा

पहुरा समाचारदाताकञ्चनपुर, २१ कार्तिक । सुदूरपश्चिम प्रदेशके कञ्चजपुर जिल्ला शुक्लाफाँटा नगरपालिकाके उत्तरी चुरे भेग शुक्लाफाँटा नगरपालिका–८, भल्कामे स्थापना करल थारु संग्रहालय संस्कृति संरक्षणमे टेवा पुगैले बा । आदिवासी थारु
लर्कनक बह्राईसङ्ग मौलिक भाषा विकासम फे चेट लगाई

लर्कनक बह्राईसङ्ग मौलिक भाषा विकासम फे चेट लगाई

सक्कु जहनक डाईबाबाक मन आपन लर्कापर्कान सब चिजक गुन सिखाक चट्टुर बनाइना बाटम सुर्टा रठिन । गुन सिखि ट काल्ह जाक जिन्गि जिना लिरौसी हुइसेकि कठ । ओहओर्से, मुरिभर्क सौकि (ऋण) रलसे फे सेक नैसेक डाइबाबा आपन आपन लर्कापर्कान गुन सिखैना बहानम